एआई यानी कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या होता है

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के कई रूप है। इसका सबसे छोटा स्वरूप रिमोट कंट्रोल है। किसी चीज को अगर हम रिमोट कंट्रोल से कंट्रोल करते हैं तो वह भी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में आता है उसके बाद आता है वॉइस कमांड अगर हम विभिन्न चीजों को अपनी आवाज से कमांड दे कर कंट्रोल करते हैं तो वह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का अगला रूप है। लेकिन इसका जो सबसे परिष्कृत रूप सामने आने वाला है वह यह है कि आप अपने दिमाग की सोच से वस्तुओं को कंट्रोल कर पाएंगे। यानी कि आपने अपने दिमाग में सोचा कि लाइट जल जाए तो लाइट जल जाएगी आपने सोचा कि टीवी ऑन हो जाए तो ऑन हो जाएगा आपने सोचा यानी कि आप जो भी सोच रहे हैं वह कमांड रिमोट कंट्रोल की तरह सामने डिवाइस के ऊपर जाकर एक्ट करेगी और वो डिवाइस आपकी सोच के अनुसार काम करने लगेगा। मतलब ना आपको रिमोट कंट्रोल को दबाना है ना आपको मुंह से बोल कर किसी को कमांड देनी है बस सिर्फ दिमाग में सोचा और आपका काम चालू हो जाएगा।

है ना कमाल की बात। यह संभव किया है दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति एलन मस्क ने और उसने इसका प्रयोग एक बंदर और एक सूअर पर किया है। अपने इस प्रयोग में एलन मस्क ने एक चिप बंदर और सूअर के दिमाग में लगा दी जिसके बाद बिना किसी भी तरह के एक्शन के सिर्फ उनकी सोच से ही वह काम करने लगे। जैसे कि बंदर ने बिना कीबोर्ड और जॉय स्टिक के वीडियो गेम सिर्फ अपनी सोच से खेली और मजे की बात यह है कि वह इस तरह की वीडियो गेम खेलते समय एक बार भी नहीं चूका।

इसके बारे में ज्यादा जानने वाले दोस्त गूगल पर “एलन मस्क माइंड चिप” यह उसकी कंपनी का नाम न्यूरो लिंक टाइप कर कर जानकारी ले सकते हैं।

आपकी प्रतिक्रिया...