इसरो ने लॉन्च किए 115 SPACECRAFT (रॉकेट)

इसरो ने अपने इतने लंबे इतिहास में आज तक 115 SPACECRAFT (रॉकेट) लॉन्च किए हैं.

आज भारत के एक स्टार्टअप अग्निकुल ने कमर्शियल रॉकेट इंजन बनाने की फैक्ट्री का श्रीगणेश किया है. और मजे की बात यह है कि यह जो राकेट के इंजन बनाएंगे वह 3D प्रिंटर के द्वारा बनाएंगे अभी कुछ दिन पहले मैंने इस पर एक पोस्ट भी लिखी थी.

अग्निकुल के प्रवक्ता का कहना है कि वह हर हफ्ते दो रॉकेट के इंजन बनाएंगे. मतलब कि साल के अंदर लगभग 100 से ऊपर यानी कि इसरो के 50 साल के इतिहास में छोड़े गए कुल रॉकेट के बराबर हर साल अब सिर्फ अग्निकुल ही इंजन बनाएगी.

भारत के स्टार्टअप प्रोग्राम के अंतर्गत बहुत सारी प्राइवेट कंपनियों ने स्पेस में अपने-अपने रॉकेट और सेटेलाइट्स भेजने के लिए भारतीय सरकार से इजाजत ले ली है. अगर आप लोग चाहोगे तो मैं इन कंपनियों के बारे में डिटेल में एक एक कर कर पोस्ट लिख दूंगा. ऐसे 55 से भी ज्यादा स्टार्टअप्स है जिन्होंने इसरो के अंतर्गत अपना पंजीकरण कराया है.
इनमें से कुछ प्रमुख है:
1. ध्रुवा स्पेस
2. अग्निकुल
3. स्काई रूट
4. बेलाट्रिक्स
5. कावा स्पेस
6. मेघवाहन
7. नोपो नैनो टेक्नोलॉजी
8. एस्ट्रोगेट लैब्स
9. अंतरिक्ष
10.पिक्सेल

 

आपकी प्रतिक्रिया...