संघ की विचारधारा को गांव गांव तक पहुंचाएंगे शताब्दी विस्तारक

मां भारती के अनन्य उपासक और महान देशभक्त डॉ केशव बलिराम हेडगेवार ने 1925 में विजयादशमी की पावन तिथि के शुभ अवसर पर मुट्ठी भर नवयुवकों के साथ मिलकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नामक जिस संगठन की नींव रखी थी वह इन 97 वर्षों में विशाल वटवृक्ष का रूप ले चुका है जिसकी वर्तमान में देश के विभिन्न भागों में 57000 से अधिक शाखाएं संचालित हो रही हैं। संघ ने इस संख्या को शताब्दी वर्ष 2025 तक एक लाख तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। संघ ने इसके लिए व्यापक पैमाने पर तैयारियां भी प्रारंभ कर दी हैं।इस महान लक्ष्य को अर्जित करने के लिए संघ एक कार्ययोजना के अनुरूप तेजी से आगे बढ़ रहा है। इसमें कोई संदेह नहीं कि मात्र तीन वर्षों में संघ की शाखाओं की संख्या 57000 से बढ़ाकर एक लाख करने का संकल्प पूरा करना मुश्किल प्रतीत होता है परंतु जो लोग संघ की अद्भुत संगठन क्षमता और कार्य पद्धति से भलीभांति परिचित हैं वे यह मानते हैं कि तीन वर्ष की समय सीमा के अंदर इस महान लक्ष्य को अर्जित कर लेने के संघ के आत्मविश्वास पर संदेह की कोई गुंजाइश नहीं है। संघ का 97 वर्षों का इतिहास गवाह है कि संघ ने भारत को परम वैभव संपन्न राष्ट्र बनाने की दिशा में अभी तक जो भी कदम आगे बढ़ाए हैं वे मंजिल तक पहुंचने में अवश्य ही सफल हुए हैं । संघ ने अपने 97 वर्षों के सफर में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा । संघ ने जिन उद्देश्यों के लिए खुद को समर्पित किया है उनको पूरा करने की राह में आने वाले व्यवधान कभी उसे विचलित नहीं कर सके। संघ के विरोधियों के द्वारा की जाने वाली आलोचनाओं की उसने परवाह नहीं की ,न ही उनका प्रत्युत्तर देने की आवश्यकता महसूस की। डा केशव बलिराम हेडगेवार ने 97 वर्ष पूर्व हिंदू समाज को संगठित करने के जिस दृढ़ संकल्प के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की नींव रखी थी वही संकल्प आज भी संघ की ताकत बना हुआ है और उसी दृढ़ संकल्प ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को विश्व का सबसे बड़ा संगठन कहलाने का गौरव प्रदान किया है जिसके दुनिया भर में एक करोड़ से अधिक कार्यकर्ता हैं। दरअसल संघ के शताब्दी आयोजनों को गरिमा मय भव्यता के साथ ऐतिहासिक स्वरूप प्रदान करने के उद्देश्य से 2021 में ही बड़े पैमाने पर इसकी तैयारियां प्रारंभ हो जानी चाहिए थीं परन्तु कोरोना संकट के कारण ये तैयारियां प्रारंभ करने में विलम्ब हुआ परंतु संघ अब तेज गति से इस दिशा में आगे बढ़ रहा है।

राजस्थान के झुंझुनूं नगर में विगत सप्ताह संघ के प्रांत प्रचारको की तीन दिवसीय अखिल भारतीय बैठक के दूसरे दिन संगठन के शताब्दी वर्ष 2024-25 तक देश में संघ की शाखाओं की संख्या वर्तमान 55000 हजार से बढ़ाकर एक लाख करने के लिए कार्ययोजना पर गंभीर चिंतन किया गया। इस तीन दिवसीय बैठक में सभी प्रांत प्रचारक,सह प्रांत प्रचारक, क्षेत्र प्रचारक,सह क्षेत्र प्रचारक उपस्थित थे ।

 

आपकी प्रतिक्रिया...