चुनाव आयोग सख्ती करे तो निरापद हो सकते हैं चुनाव

Continue Readingचुनाव आयोग सख्ती करे तो निरापद हो सकते हैं चुनाव

देश में कोरोना की तीसरी लहर लहर आ चुकी है और वैज्ञानिक एवं चिकित्सा विशेषज्ञ यह आशंका जता रहे हैं कि  इस लहर का प्रकोप अगले दो महीनों तक बना रह सकता है । इसी बीच चुनाव आयोग ने पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर की विधानसभाओं…

सतर्क रहें तो तीसरी लहर नहीं बरपा सकेगी कहर

Continue Readingसतर्क रहें तो तीसरी लहर नहीं बरपा सकेगी कहर

भारत में कोरोना संक्रमण की रफ्तार एक बार फिर भयावह गति से बढ़ने लगी है और एक दिन में 1लाख 80000 से अधिक मामले सामने आने के बाद अब यह माना जा रहा है  कि देश में कोरोना की तीसरी लहर दस्तक दे चुकी है। दक्षिण अफ्रीका में मिला कोरोना…

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक से क्षुब्ध है सारा देश

Continue Readingप्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक से क्षुब्ध है सारा देश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लगभग एक माह पूर्व जब तीनों  नए कृषि कानून वापस लेने की घोषणा की थी तब यह उम्मीद की जा रही थी कि उक्त कृषि कानूनों के विरोध में लंबे समय से आंदोलन रत किसान भी प्रधानमंत्री ‌‌‌‌‌‌‌‌की विनम्रता, विशाल हृदयता और संवेदनशीलता का सम्मान करते…

हादसा मुआवजा और जांच का अंतहीन सिलसिला !

Continue Readingहादसा मुआवजा और जांच का अंतहीन सिलसिला !

जम्मू कश्मीर में स्थित वैष्णो देवी मंदिर में नए साल के पहले दिन की पूर्व रात्रि में हुए हृदय विदारक हादसे में 13 श्रद्धालुओं की दुखद मृत्यु हो गई और लगभग इतने ही लोग घायल हो गए। यह हादसा उस समय हुआ जब भीड में शामिल कुछ युवकों के बीच…

तीसरी लहर अवश्यंभावी है तो अभी से सचेत हो जाएं

Continue Readingतीसरी लहर अवश्यंभावी है तो अभी से सचेत हो जाएं

लगभग एक माह पूर्व दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रान ने अब तक  दुनिया के साठ से अधिक देशों को अपनी चपेट में ले लिया है । भारत में भी 16 से अधिक राज्यों में ओमिक्रान पांव पसार चुका है और  वहां ओमिक्रान  संक्रमण के तीन…

ममता बनर्जी के लिए दूर है दिल्ली

Continue Readingममता बनर्जी के लिए दूर है दिल्ली

इसी साल के पूर्वार्द्ध में संपन्न पश्चिम बंगाल विधानसभा सभा के चुनावों में तृणमूल कांग्रेस की शानदार विजय के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अंदर यह महत्वाकांक्षा जाग उठी है कि अगर वे देश के विपक्षी दलों को एकजुट करने में सफल हो जाएं तो उनके लिए  पश्चिम बंगाल से…

अप्रिय विवाद का पटाक्षेप

Continue Readingअप्रिय विवाद का पटाक्षेप

कृषि कानूनों के मुद्दे पर राजग से नाता तोड़कर अकाली दल की असली मंशा यह थी कि वह खुद को पंजाब के किसानों का सबसे बड़ा हितैषी साबित कर सके। अब जबकि प्रधान मंत्री मोदी ने नए कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा कर दी है तब अकाली दल को भाजपा से पुनः मित्रता करने में कोई दिक्कत होने का प्रश्न ही उपस्थित नहीं होता।

अप्रिय विवाद का पटाक्षेप

Continue Readingअप्रिय विवाद का पटाक्षेप

मोदी सरकार ने लगभग डेढ़ वर्ष पूर्व किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए तीन ऐतिहासिक कृषि कानून बनाए थे जिसका एकमात्र उद्देश्य कृषि के क्षेत्र में क्रांतिकारी सुधारों का मार्ग प्रशस्त करना था लेकिन इन कानूनों को लेकर शुरू से ही अप्रिय विवादों का सिलसिला प्रारंभ हो गया…

जनजातीय समुदाय की प्रगति के लिए मोदी का संकल्प

Continue Readingजनजातीय समुदाय की प्रगति के लिए मोदी का संकल्प

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लगभग साढ़े तीन घंटे के अपने भोपाल प्रवास में मध्यप्रदेश के जनजातीय समाज और भोपाल वासियों को अभिभूत कर दिया । भोपाल वासियों को आधुनिकतम विश्व स्तरीय सुविधाओं से सुसज्जित रानी कमलापति स्टेशन की सौगात देने के पहले प्रधानमंत्री ने जंबूरी मैदान में आयोजित जनजातीय गौरव…

सिंहदेव की मजबूत दावेदारी से धर्मसंकट में कांग्रेस हाईकमान

Continue Readingसिंहदेव की मजबूत दावेदारी से धर्मसंकट में कांग्रेस हाईकमान

आज से लगभग तीन वर्ष पूर्व संपन्न मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभाओं के चुनावों में छत्तीसगढ़ एकमात्र ऐसा राज्य था जहां कांग्रेस की प्रचंड विजय ने डेढ़ दशकों से सत्तारूढ भाजपा को स्तब्ध कर दिया था। भाजपा को डेढ़ दशकों के बाद सत्ता से बाहर दिखाने में  राज्य के जिन…

क्या मुख्य मंत्री चन्नी सिद्धू का मोहरा बनेंगे?

Continue Readingक्या मुख्य मंत्री चन्नी सिद्धू का मोहरा बनेंगे?

अगर कांग्रेस पार्टी चरणजीत सिंह चन्नी के रूप में एक दलित सिख को मुख्यमंत्री बनाकर सत्ता में वापसी का सुनहरा स्वप्न संजोए बैठी है तो उसे यह भी मालूम होना चाहिए कि जनता उसके खेल को अच्छी तरह समझ चुकी है।

पहले रायता फैलाया फिर पंगत से उठ गए सिद्धू

Continue Readingपहले रायता फैलाया फिर पंगत से उठ गए सिद्धू

पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू की राजनीति के मैदान में भी हमेशा चौके छक्के मारने की महत्वाकांक्षा ने पूरी कांग्रेस पार्टी को मुसीबत में डाल दिया है। उनके साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि  राजनीतिक पिच पर  उन्हें  किसी के साथ पार्टनरशिप  पसंद नहीं है। कांग्रेस हाईकमान कमान ने…

End of content

No more pages to load