सिंहदेव की मजबूत दावेदारी से धर्मसंकट में कांग्रेस हाईकमान

Continue Readingसिंहदेव की मजबूत दावेदारी से धर्मसंकट में कांग्रेस हाईकमान

आज से लगभग तीन वर्ष पूर्व संपन्न मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभाओं के चुनावों में छत्तीसगढ़ एकमात्र ऐसा राज्य था जहां कांग्रेस की प्रचंड विजय ने डेढ़ दशकों से सत्तारूढ भाजपा को स्तब्ध कर दिया था। भाजपा को डेढ़ दशकों के बाद सत्ता से बाहर दिखाने में  राज्य के जिन…

क्या मुख्य मंत्री चन्नी सिद्धू का मोहरा बनेंगे?

Continue Readingक्या मुख्य मंत्री चन्नी सिद्धू का मोहरा बनेंगे?

अगर कांग्रेस पार्टी चरणजीत सिंह चन्नी के रूप में एक दलित सिख को मुख्यमंत्री बनाकर सत्ता में वापसी का सुनहरा स्वप्न संजोए बैठी है तो उसे यह भी मालूम होना चाहिए कि जनता उसके खेल को अच्छी तरह समझ चुकी है।

पहले रायता फैलाया फिर पंगत से उठ गए सिद्धू

Continue Readingपहले रायता फैलाया फिर पंगत से उठ गए सिद्धू

पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू की राजनीति के मैदान में भी हमेशा चौके छक्के मारने की महत्वाकांक्षा ने पूरी कांग्रेस पार्टी को मुसीबत में डाल दिया है। उनके साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि  राजनीतिक पिच पर  उन्हें  किसी के साथ पार्टनरशिप  पसंद नहीं है। कांग्रेस हाईकमान कमान ने…

घर की चारदीवारी में कैद हो गईं अफगान महिलाएं

Continue Readingघर की चारदीवारी में कैद हो गईं अफगान महिलाएं

हाल में ही अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर जब तालिबान ने कब्जा किया तब वहां के राष्ट्रपति अशरफ गनी अपने निवास स्थान में नहीं थे। वे तालिबान के डर से पहले ही देश छोड़कर भाग गए थे और साथ में काफी कैश भी अपने साथ ले गए थे हालांकि कुछ…

खुली हवा से अंधेरी सुरंग में लौटता अफगानिस्तान

Continue Readingखुली हवा से अंधेरी सुरंग में लौटता अफगानिस्तान

लगभग दो दशकों तक अपनी सेनाओं के जरिए अफगानिस्तान में तालिबान आतंकियों को काबू में रखने के बाद जब अमेरिका ने वहां से अपने सैनिकों की निकासी शुरू की थी तभी से यह आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं कि समूचे  अफगानिस्तान पर  दुबारा तालिबान का कब्जा होने में अब…

अघोषित विभाजन की ओर बढ़ती कांग्रेस !

Continue Readingअघोषित विभाजन की ओर बढ़ती कांग्रेस !

पूर्व  केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल कांग्रेस पार्टी के उन वरिष्ठ नेताओं के बीच बड़ी हस्ती रखते हैं जो पिछले एक साल से पार्टी में पूर्णकालिक अध्यक्ष के चुनाव की मांग कर रहे हैं। एक साल पूर्व इन नेताओं ने बाकायदा सामूहिक पत्र लिखकर अपनी आवाज बुलंद करने की कोशिश भी की थी परंतु उन्हें अपनी कोशिशों में कोई सफलता नहीं मिली ।

भयभीत न हों लेकिन सतर्क तो हो जाएं..

Continue Readingभयभीत न हों लेकिन सतर्क तो हो जाएं..

पिछले कुछ महीनों से देश के वैज्ञानिक और चिकित्सा विशेषज्ञ लगातार यह आशंका व्यक्त कर रहे हैं कि अगस्त में कोरोना की तीसरी लहर देश के अनेक हिस्सों में अपना असर दिखा सकती है। केरल , कर्नाटक, तमिलनाडु सहित कुछ दक्षिणी राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामलों में अचानक आई…

सभी संप्रदायों में परस्पर प्रेम और सौहार्द्र

Continue Readingसभी संप्रदायों में परस्पर प्रेम और सौहार्द्र

 सरसंघचालक जी ने गाज़ियाबाद के जिस कार्यक्रम में अपने उक्त विचार व्यक्त किए उसका आयोजन चूंकि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के तत्वावधान में किया गया था इसलिए उन्होंने अपने  संबोधन में उन मुद्दों पर अपने विचारों को और साफगोई के साथ प्रस्तुत किया जिनके बारे में संघ की विचारधारा को लेकर जब तब  उंगलियां उठाई जाती हैं परंतु संघ प्रमुख ने दो टूक लहजे में यह कहने में भी कोई संकोच नहीं किया कि उनका संबोधन इमेज मेकओवर की एक्सरसाइज नहीं है और संघ इमेज की परवाह भी नहीं करता क्योंकि उसका संकल्प पवित्र है। जो भी राष्ट्रहित की बात करता है संघ उसके साथ है। संघ प्रमुख ने यह भी कहा कि राजनीति के माध्यम से जोड़ने का काम नहीं किया जा सकता।

चीन के मकड़जाल में फंसता श्रीलंका

Continue Readingचीन के मकड़जाल में फंसता श्रीलंका

श्रीलंका को चीन ने इतने भारी भरकम कर्ज के बोझ से लाद रखा है कि उसके अंदर चीन का विरोध करने का साहस ही नहीं बचा है। श्रीलंका की इसी मजबूरी का फायदा उठा कर उसने श्रीलंका से पहले हम्बनटोटा बंदरगाह हथिया लिया और अब श्रीलंका में कोलंबो पोर्ट सिटी बनाने की मंशा भी पूरी होने जा रही है।

असम में भाजपा फिर मारी बाजी

Continue Readingअसम में भाजपा फिर मारी बाजी

कुल मिलाकर असम के विधानसभा चुनाव हेतु मतदान के तीनों चरण संपन्न हो जाने के बाद भाजपा नीत गठबंधन आत्मविश्वास से लबरेज़ दिखाई दे रहा है और कांग्रेस नीत महागठबंधन (महाजोत) इस उम्मीद में ख़ुश हो रहा है कि 2 मई को होने वाली मतगणना उसे सत्ता की दहलीज तक पहुंचा सकती है, लेकिन, इसमें दो राय नहीं हो सकती कि मतों का समीकरण भाजपा के पक्ष में है।

भाजपा की विशाल फौज पर भारी पड़ीं अकेली दीदी

Continue Readingभाजपा की विशाल फौज पर भारी पड़ीं अकेली दीदी

हाल में ही देश के चार राज्यों पश्चिम बंगाल,केरल, असम और तमिलनाडु तथा केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में  संपन्न विधानसभा चुनावों के  नतीजे सामने आ चुके हैं । भारतीय जनता पार्टी नीत गठबंधनअसम में लगातार दूसरी बार सत्ता में आने में सफल रहा है परंतु पश्चिम बंगाल में पहली बार सत्ता में आने का उसका सुनहरा स्वप्न बिखर गया है लेकिन यह कहना भी ग़लत नहीं होगा कि पांच साल पहले संपन्न विधानसभा चुनावों में  जिस पार्टी को मात्र तीन सीटों पर जीत का स्वाद चखने का अवसर मिला हो उसने इन चुनावों में जो शानदार जीत हासिल की है वह निःसंदेह उसके लिए एक ऐसी ऐतिहासिक उपलब्धि है जिस पर गर्वोन्नत होने का उसे पूरा अधिकार है ।

बंगाल में भाजपा का पलड़ा भारी

Continue Readingबंगाल में भाजपा का पलड़ा भारी

पश्चिम बंगाल के चुनावी रण में ममता बनर्जी को भाजपा ने मुश्किल में डाल रखा है लेकिन भाजपा की सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि वह अब तक ऐसा कोई चेहरा नहीं खोज पाई है जिसे वह ममता बनर्जी के सामने भावी मुख्यमंत्री के रूप में प्रस्तुत कर सके।

End of content

No more pages to load