एक थी प्रगति

Continue Reading एक थी प्रगति

नारी के बारे अश्लील लिखा तो वो सच्चा नारी विमर्श और कहीं नारी शालीनता के साथ कर्तव्यपरायण हो गई तो वो दकियानूस, पिछड़ी, मानों विमर्श ने नारियों का ठेका इन प्रगतिशीलों को, वादियों को दे रखा हो। और, दलित विमर्श की तो बात ही मत पूछो इस शब्द को तो इतना आइसोलेट किया कि एक छोटे से खाने में कैद हो गया।

लॉलीपॉप का नशा

Continue Reading लॉलीपॉप का नशा

लॉलीपॉप मानवाधिकारों का एकाधिकार हो चली है, लालीपॉप की मिठास को विषाक्त रसायन में बदल देने वाला अधिकार। जी हां रसायन, केमिकल। ये केमिकल ऐसा रिएक्शन हैं कि देश द्रोहियों के शवों पर मानवता के लहू में उबाल आ जाता है और शहीदों के लहू में न जाने कौन सा वायरस है कि सारे परजीवियों, सहजीवियों, बुद्धिजीवियों की जुबाने क्वारनटाईन पर चली जाती हैं।

End of content

No more pages to load