लिंक आ गई क्या?

अरे सुनते हो चिंटू के क्लास की लिंक आ गई क्या? आ गई हो तो जरा ज्वाइन करा दो, मम्मी ने किचन का काम निपटाते हुए  कहा

अरे ना बाबा ना तुम तो जानती हो टेक्नोलॉजी के अल्फाबेट में मुझे सिर्फ डब्ल्यू फॉर व्हाटसएप आता है। चिंटू के पापा ने गुड मॉर्निंग मैसेजस की अदला बदली करते हुए कहा। उधर 4 साल का चिंटू टॉकिंग टॉम से मम्मी पापा की नकल करने को कह रहा था।

ऑफलाइन क्लास हो या ऑनलाइन बच्चों के पढ़ाने का पट्टा तो मैं अपने नाम ही लिखा के लाई हूँ। मम्मी भुनभुनाई। वैसे तो चिंटू मोबाइल का एप-एप पहचानता है। बस क्लॉस जॉइन करना नहीं आता।  मोबाइल का प्रशिक्षण तो उसने अभिमन्यु की तरह पेट में ही ले लिया था जब मम्मी उस पर ही टिका कर मोबाइल चलाती थी और वह अंदर ही एक एक गुर सीख रहा था। बाहर आने के बाद सुबह उठने का वीडियो, ब्रश करने का वीडियो, नहाने का वीडियो, खाने का वीडियो, सोने का वीडियो सब चलाना आता है ।

बरहाल  लिंक आ गई, स्कूल वालों के स्पष्ट निर्देश हैं कि छोटे बच्चों के साथ उनके पेरेंट्स ऑनलाइन क्लास में बैठे। क्लास शुरु हो गई पाँच मिनट भी नहीं बीते और चिंटू को भूख लग आई। मम्मी ने जल्दी से मेगी का बाउल पकड़ाया और क्लास पर ध्यान देने को कहा। उधर मैम ने भी ऐतराज जताया कि पैरंट्स बच्चों को नाश्ता पहले करा दें क्लास डिस्टर्ब नहीं होनी चाहिए इधर चिंटू की नूडल्स खत्म हुई उधर पेट सरलीकरण को आतुर हो गया। मम्मी ने वीडियो ऑफ किया और नोट्स लिए। इधर अंग्रेजी की क्लास खत्म क्या हुई। उधर चार कप चाय और पूरा अखबार चाट चुके पप्पा जी को हिदायत दी गई लिंक आ जाये तो बता देना मैं जरा किचन निबटा लूँ। व्हाट्सएप पर समाजसेवा में लीन पप्पाजी भूल ही गए की लिंक आ गई है।

हे भगवान पाँच मिनट हो गये क्लास शुरू होने को और आप हैं कि…मम्मी का टेंशन हाई पर था।

उधर चिंटू बाबा सब-वे-सर्फर का तीसरा चैलेंज पूरा करने में जुटे हैं, मम्मी बस ये कर लेने दो फिर जॉइन कर लेंगे चटाक चिंटू के गाल बजे और क्लास जॉइन हो गई। चिंटू गुस्से में बार बार विडिओ बंद कर देता। आधी पगार का गुस्सा निकालती मैडम पालको पर चीख पड़ती है पेरेंट्स सभी अपना वीडियो ऑन रखेंगे। छुट्टियों की भी पूरी फीस भरने वाले पालक अपराधियों की तरह सर झुकाएँ अपने अपने बच्चों को डाँट रहे थे। चिंटू ने फिर वीडियो ऑफ कर दिया मैडम फिर चीखी चिंटु’स मदर पे युअर अटेंशन प्लीज़। अदर वाइस आई रिमूव यू।चिंटू की मम्मी आपे से बाहर थी। नालायक तेरी वजह से मुझे इत्ती बातें सुननी पड़ी। इत्ती तो मैने अपनी टीचर से भी न सुनी थी। बिल्कुल अपने पापा पे गया है। एक बार में कोई बात समझता ही नहीं, ढीठ है बिल्कुल उनकी तरह बाप के गुण तो आयेंगे ना आखिर।  और इन मैडम को देखो, जरा सा वीडियो क्या बंद हो गया क्लास से निकाल देगी। जब क्लास में सामने बैठता था तो कभी चिंता न हुईं कि बच्चा लिख रहा है कि नहीं, समझ में आया कि नहीं। अब घर में हैं तो फोड़ दो माँ बाप के सर ठीकरा। आत्मा के शीतलीकरण में उसे ध्यान ही नहीं रहा कि चिंटु ने ऑडियो और विडियों दोनों ऑन कर दिये हैं। गनीमत है ये क्लास खत्म हो गई।

हिंदी की क्लास शुरू हुई मैडम ने कविता की पंक्तियाँ गाई पानी बरसा झम झम झम, छाता लेकर ..अचानक पास में खेल रहा मैडम का बच्चा रोने लगा मैडम ने जिंगल बेल का विडियों लगाकर बच्चे के हाथ में टैब पकड़ाया इधर चिटू बाबा बिखर गए मुझे भी ऐसा टैब चाहिए, रो रो कर चिंटु बाबा सो गये हैं। अब क्लास निर्विघ्न चल रही है। मैडम शान्ति से पढ़ा रही है। मम्मी चैन से पढ़ रही है ऑन लाइन क्लास में।

 

आपकी प्रतिक्रिया...