पैसा और प्यार

Continue Reading पैसा और प्यार

कहा जाता है कि पैसे से प्यार नहीं खरीदा जा सकता। ज़ाहिर है यह प्यार का विचार है। पैसा इस बारे में क्या सोचता है, यह जानने के लिए मैंने पैसे बात की -

धन का भजन

Continue Reading धन का भजन

 इस रंग बदलती दुनिया में धर्म के बजाय धन का महत्व सभी सीमाएं पार कर रहा है। जैसे बहुत-से गुंडे नेताओं को हटा कर देश सेवा की कुर्सी फर बैठ गये हैं, उसी तरह एक दिऩ धन भी धर्म को हटा कर उसकी गद्दी फर बैठ जाएगा। धन की फूजा तो अब भी होती है, फिर तो बाकायदा फ्रार्थना शुरू हो जाएगी। मैंने भी उसकी एक स्तुति लिखी है। आफको जम जाए तो याद करके रख लीजिए, किसी दिन काम आएगी।

राष्ट्र के नाम संदेश

Continue Reading राष्ट्र के नाम संदेश

एक समय यह देश इतना महान था कि सोने की चिड़िया कहलाता था। फिल्मों में गाने लिखे जाते थे - ‘‘जहां डाल-डाल फर सोने की चिड़ियां करती हैं बसेरा...’’ लेकिन, सोने की चिड़िया यहां फर तभी तक थी, जब तक उसके फंख नहीं निकले।

ईमानदारी : कुछ छुट्टा विचार

Continue Reading ईमानदारी : कुछ छुट्टा विचार

अर्फेो देश में ईमानदारी का कोई महत्व नहीं है। मुफ्त में मिलती है न। हालांकि दुनिया में कोई भी चीज़ मुफ़्त में नहीं मिलती, लेकिन ईमानदारी मिलती है। ईमानदारी मुफ़्त में मिल तो जाती है, लेकिन उसे अर्फेााने की कीमत काफ़ी बडी होती है।

End of content

No more pages to load