संघ दर्शन की साक्षात प्रतिमूर्ति बालासाहब देवरस

Continue Readingसंघ दर्शन की साक्षात प्रतिमूर्ति बालासाहब देवरस

धर्मांतरण केवल पैसों के कारण नहीं होता, अपने समाज में जो कुछ गलत धारणाएं एवं परंपराएं है, उनके कारण भी होता है। अगर धर्मांतरण की समस्या सुलझानी है तो, उसकी ओर देखने का हमारा दृष्टिकोण बदलना होगा। हमारी यह सोच गलत है कि केवल बाहरी शक्तियां ही धर्मांतरण का कारण हैं। बालासाहब का दृष्टिकोण स्पष्ट था। इसी चिंतन से आगे चलकर सामाजिक समरसता विषय प्रारंभ हुआ।

बाला साहेब देवरस जयंती विशेष: व्यायामशाला से सरसंघचालक तक का सफर

Continue Readingबाला साहेब देवरस जयंती विशेष: व्यायामशाला से सरसंघचालक तक का सफर

मधुकर दत्तात्रेय देवरस यानी बाला साहेब देवरस का जन्म मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष पंचमी (11 दिसंबर 1915) को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था। एक साधारण परिवार में जन्मे बाला साहेब देवरस ने अपनी शुरुआती शिक्षा नागपुर से ही पूरी की और लॉ की डिग्री लेकर ''अनाथ विद्यार्थी बस्ती गृह'' में बच्चों…

End of content

No more pages to load