करियर के पहले जॉब इंटरव्यू में ऐसे करें सैलेरी की बात 

जब नयी जॉब में इंटरव्यू क्लियर कर लोग आगे बढ़ते हैं तो उस कंपनी के एचआर डिपार्टमेंट से सैलरी को लेकर भी लम्बा डिस्कशन एक जरुरी और आम प्रोसेस है। ऐसे में कई बार सैलरी डिस्कशन में कितनी भी कोशिश कर ली जाए एचआर आपको पिछली जॉब के मुकाबले मनमुताबिक हाइक देने के पक्ष में नहीं दिखाई देता।ऐसे में क्या करें आज हम आपको बताते हैं।

1. कई बार कंपनियां भले ही सैलरी उतनी अच्छी न दें लेकिन उनकी बाकी कई सुविधाएँ इसकी पूर्ति कर देती हैं।ऐसे में अगर एचआर सैलरी नेगोसिएशन में आपकी बात न माने तो कुतर्क न करें और उससे कई सुविधाओं के बारे में पूछे जैसे क्या कोई परफॉरमेंस इंसेंटिव मिलता है, रिवार्ड्स और रिकोग्निशन की प्रक्रिया क्या होती है, मेडिकल इंश्योरेंस और पीएफ को लेकर कम्पनी के क्या प्रावधान हैं आदि? कई बार जॉइनिंग के वक्त कम लेकिन छह या तीन महीने के अन्तराल के बाद भी कम्पनी परफॉरमेंस से खुश होकर एम्प्लोयी की सैलरी बढ़ा देती है इसलिए निराश न होकर सब चीज़ों पर विचार करें।

2. अगर आपको मन मुताबिक सैलरी नहीं मिल रही तो अन्य सुविधाओं में क्या फ्लेक्सिबल वर्क ऑवर्स या वर्क फ्रॉम होम की सुविधा भी दी गयी है अगर ऐसा किया जा रहा है तो मनमुताबिक सैलरी न मिलने के बावजूद ये आपके लिए फायदे का सौदा साबित हो सकती है क्योंकि इससे आपका ऑफिस आने जाने का किराया बच जायेगा और वर्क लाइफ बैलेंस भी बेहतरीन ढंग से बना पाएंगे।इसलिए एच आर से सैलरी पर अड़ने के बजाये अगर ऐसा ऑफर मिले तो तुरंत स्वीकार कर लें।

3. कई बार ऐसा भी होता है कि आपके स्किल्स के मुताबिक आपको मन मुताबिक सैलरी पैकेज नयी जॉब में ऑफर नहीं हो पाता लेकिन कम्पनी जो जॉब प्रोफाइल आपको ऑफर कर रही है उसमें ट्रेनिंग और सीखने के भरपूर मौके देती है।तो सिर्फ पैसों का पक्ष न देखकर बाकी पक्ष भी देखें क्यों कि अगर कम्पनी आपको ग्रूम कर रही है तो इससे आपका ही फायदा होगा जो आपको करियर में आगे भी ले जायेगा।

4. आपका जॉब टाइटल क्या है यह भी आपके करियर के लिहाज से बहुत मायने रखता है जैसे रिसेप्शनलिस्ट से ज्यादा अच्छा को-ऑपरेटिव एग्जीक्यूटिव असिस्टेंट सुनने में अच्छा लगता है।अगर करियर की शुरुआत में आपको कम्पनी ऐसे जॉब टाइटल के साथ एंट्री दे रही है तो सैलरी के फेर में न पड़कर ऐसा मौका न गंवाएं। अच्छा काम करेंगे तो सैलरी बढ़ने के चांस खुद ब खुद बढ़ जाएंगे।

आपकी प्रतिक्रिया...