मन की बात: रमजान पर करें ज्यादा इबादत ताकी कोरोनामुक्त हो भारत

  • प्रधानमंत्री ने अक्षय तृतीया और रमजान के लिए दी बधाई
  • रमजान में करें ज्यादा इबादत ताकि कोरोना मुक्त हो देश 
  • कोरोना योद्धाओं के योगदान का इतिहास होगा गवाह 
  • 500 टन दवाओं का पूरे देश में हुआ वितरण 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देश की जनता से मन की बात की इस दौरान उन्होने सबसे पहले सभी को अक्षय तृतीया और रमजान की बधाई दी। मोदी ने कहा कि रमजान के दौरान इस बार कुछ ज्यादा इबादत कीजिए जिससे ईद के पहले देश से कोरोना खत्म हो जाए। मोदी ने कहा कि लॉक डाउन के समय में यह दूसरी मन की बात है लेकिन इस दौरान फोन कॉल्स और ईमेल्स की संख्या पहले के मुकाबले बहुत ज्यादा थी। इस बार कुछ लोगों ने ऐसी बातों को याद दिलाया जो सरकार के दिमाग से निकल चुकी थी। कोरोना के खिलाफ लड़ाई सरकार नहीं बल्कि आम जनता लड़ रही है भारत जैसे विकासशील देश के लिए यह लड़ाई बहुत महत्तवपूर्ण है और भारत इस लड़ाई को जीतेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना ने पूरे देश को एक कर दिया है देश का हर नागरिक कोरोना को हराने के लिए तैयार है। देश का किसान लगातार मेहनत कर रहा है ताकि देश का एक भी नागरिक भूखा ना सोए, कोरोना की इस जंग में हर कोई अपना अपना योगदान दे रहा है। कुछ लोग घर का किराया माफ कर रहे है, कुछ लोग भोजन करवा रहे है, कुछ लोग अपना वेतन और पेंशन सरकारी खाते में जमा कर रहे है, कुछ मजदूर वर्ग जिस स्कूल में रह रहा था उसे ही पेंट करने लगा यानी हर व्यक्ति अपनी कार्यक्षमता के अनुसार योगदान दे रहा है मानों हर नागरिक के अंदर देश के लिए कुछ कर गुजरने की लालसा सी हो गयी है। मैं देश की जनता के इस योगदान के लिए सर झुकाकर उनको नमन करता हूं।

केंद्र सरकार की तरफ से राज्यों तक दवाइयों को पहुंचाने के लिए लगातार प्रयास जारी है और इसे कोरोना वॉरियर्स के द्वारा पूरा किया जा रहा है अब तक करीब 500 टन दवा देश के अलग अलग राज्यों तक पहुंचाई जा चुकी है जिसके लिए देश की सेना का साहस और धर्य सराहनीय योग्य है। इसके साथ ही गरीबों के खाते में पैसा भेजा जा रहा है, उन्हे तीन महीन के लिए मुफ्त में गैस सिलेंडर दिया और जरुरतमंदों को राशन दिया जा रहा है।
प्रधानमंत्री ने राज्य सरकारों के सहयोगी की भी सराहना की और कहा कि राज्य सरकारें इस महामारी में बहुत की अच्छी भूमिका निभा रही है कोरोना की जंग के बाद उनके सहयोग को हमेशा के लिए याद किया जायेगा। पीएम ने स्थानीय प्रशासन की भी तारीफ की और कहा कि प्रशासन भी अपने स्तर पर काफी अच्छा काम कर रहा है। कोरोना की महामारी में पुलिस, डॉक्टर्स, नर्स, सफाईकर्मी सहित उन तमाम लोगों का अतुल्यनीय सहयोगा है जो लगातार इस लड़ाई से जुड़े हुए है ऐसे लोगों को इतिहास में याद किया जायेगा और इनकी मेहनत को सराहा जायेगा। इन योद्धाओं ने अपनी परवाह किये बिना ही लोगों की सेवा की है और उनके खुद के व्यवहार में भी अब परिवर्तन आ रहा है। पुलिस वालों को जब किसी दूसरे को खाना खिलाते हुए देखते है तो वह बहुत ही प्रेरणादायक दृश्य होता है।
मोदी ने आयुर्वेद पर बात करते हुए दुख प्रकट किया और कहा कि हम कभी कभी अपनी शक्तियों को पहचानने से इंकार कर देते है जबकि वही चीज किसी दूसरे के माध्यम से स्वीकार करते है आयुर्वेद भी इसका एक उदाहरण है। भारत आयुर्वेद के लिए सैकड़ों साल से विख्यात है लेकिन आज की युवा पीढ़ी इसे मामने के लिए तैयार नही है लेकिन जब विश्व के बाकी देश इसका अनुसरण करने लगे तब जाकर भारत की युवा पीढ़ी भी धीरे धीरे इसके महतत्व को समझने लगी है।
लॉक डाउन के दौरान हाल ही में बीते त्यौहारों को लेकर मोदी ने सभी का धन्यवाद किया और कहा कि हाल ही में अलग अलग धर्मों के त्यौहार खत्म हुए जिसे लोगों ने बड़ी ही सादगी से घर के अंदर मनाया जिससे लॉक डाउन का नियम नहीं टूटा और लोग भी पूरी तरह से सुरक्षित रहे। पीएम ने ऐसी ही आगे भी लोगों से त्यौहार के दौरान संयम बनाए रखने की अपील की है। रमजान को लेकर पीएम ने सभी से अपील की है कि इस बार इबादत थोड़ा ज्याादा करना होगा ताकि देस ईंद के पहले कोरोना से मुक्त हो जाए।

आपकी प्रतिक्रिया...