प्रियंका गांधी का सरकार पर हमला, महाराष्ट्र पर राहुल-प्रियंका के विचार में दिखा मतभेद!

  • प्रियंका गांधी ने सरकार के कामकाज पर उठाया सवाल
  • सरकार से कहा राजनीति नहीं काम का समय है
  • महाराष्ट्र पर राहुल-प्रियंका के विचार में मतभेद
  • महाराष्ट्र में बढ़ते संक्रमण पर जताया दुख 
कुछ दिन पहले राहुल गांधी ने महाराष्ट्र में संक्रमण बढ़ने पर शिवसेना और एनसीपी को जिम्मेदार ठहराया था और कहा था कि कांग्रेस पार्टी महाराष्ट्र में डिसीजन मेकर नहीं है जबकि गुरुवार को प्रियंका गांधी ने एक वीडियो संदेश में शिवसेना – एनसीपी का बचाव करते हुए कहा कि महाराष्ट्र एक बुरे संक्रमण से गुजर रहा है ऐसे में सभी पार्टियों को महाराष्ट्र सरकार की मदद करनी चाहिए। कांग्रेस के राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के बयान में अलग-अलग विचार झलक रहे हैं जिससे यह साफ नहीं हो पा रहा है कि आखिर कांग्रेस महाराष्ट्र सरकार के समर्थन में है या फिर विरोध में।
सरकार की राजनीति पर सवाल
कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुरुवार को एक बार फिर सरकार पर हमला बोला और कहा कि सरकार को इस समय किसी भी तरह की राजनीति नहीं करनी चाहिए हालांकि इस दौरान प्रियंका गांधी ने किसी भी तरह का सीधा आरोप नहीं लगाया और ना ही यह बताने में कामयाब हो सकी कि सरकार किस तरह की राजनीति कर रही है। जबकि सरकार की तरफ से हमेशा यह दावा किया जा रहा है कि वह सभी की मदद कर रही है। प्रियंका गांधी ने पूरे देश में परेशान श्रमिकों की चिंता जाहिर की और अलग-अलग घटनाओं का भी जिक्र किया, उन्होने कहा कि कोई बैलगाड़ी से घर जा रहा है तो कोई बेटी अपने पिता को साइकल पर बिठाकर सैकड़ो किमी की यात्रा कर रही है।
फिर निकला “बस की राजनीति” का जिन्न
वीडियो संदेश में प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश में बस का मुद्दा उठाया और योगी सरकार को घेरने की कोशिश की, प्रियंका गांधी ने आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में सिर्फ राजनीति के चलते कांग्रेस की बसों को मदद के लिए इस्तेमाल नहीं किया गया हालांकि उन्होंने इस दौरान यह भी बताया कि योगी सरकार को कांग्रेस की तरफ से यह कहा गया था कि वह चाहे तो बसों पर बीजेपी और योगी के पोस्टर लगाकर बसों को मदद के लिए चला सकती है। प्रियंका गांधी ने कहा कि इस महामारी के दौरान कांग्रेस का हर कार्यकर्ता देश सेवा के लिए तैयार है। कांग्रेस लगातार उन लोगों के पक्ष में आवाज उठा रही है जो इस महामारी में परेशान है। प्रियंका गांधी ने कहा कि देश की जनता का हम सभी पर कर्ज है और यह समय उसे चुकाने का है जनता ने हमेशा सभी राजनीतिक दलों का साथ दिया है इसलिए इस मुश्किल घड़ी में हमें उनका साथ देना चाहिए।
 
प्रियंका गांधी की सरकार से मांग
प्रियंका गांधी ने सरकार के सामने कुछ सुझाव भी रखे, उन्होंने सरकार से अपील करते हुए कहा कि हर जरूरतमंद परिवार को ₹10000 की फौरन मदद देनी चाहिए। मजदूरों के लिए उनके घरों तक सुरक्षित और मुफ्त यात्रा का इंतजाम करना चाहिए। जहां तक संभव हो सरकार को उन्हीं के राज्यों में रोजगार का इंतजाम करना चाहिए। मनरेगा में काम कर रहे लोगों को 100 दिन की जगह अब साल में 200 दिन का रोजगार सुनिश्चित करना चाहिए। छोटे उद्योगों को लोन देने की जगह सरकार को आर्थिक मदद देनी चाहिए इससे देश की अर्थव्यवस्था और करोड़ों नौकरियां एक साथ बचाई जा सकती हैं।

आपकी प्रतिक्रिया...