दूनिया में चौथे नंबर पर पहुंचा भारत, संक्रमण के साथ साथ हो रहा सुधार

  • भारत में संक्रमण का आंकड़ा 3 लाख तक पहुंचा
  • पूरी दूनिया में चौथे नंबर पर पहुंचा भारत
  • अब तक भारत की 0.73 फीसदी आबादी संक्रमित
  • 50 फीसदी लोग स्वस्थ्य होकर जा चुके है घर
 
संक्रमण में चौथे नंबर पर पहुंचा भारत
कोरोना महामारी को लेकर भारत लगातार नये रिकार्ड बनाता जा रहा है और इसी के साथ भारत अब चौथे नंबर पर आ गया है। भारत में संक्रमित लोगों की संख्या करीब 3 लाख पहुंच चुकी है। भारत में हर दिन मिलने वाले संक्रमित की संख्या करीब 9 से 10 हजार के बीच रहती है जबकि अब तक मृतकों का आंकड़ा 300 सबसे अधिक रह चुका है। सरकार के तमाम दावों और योजनाओं के बाद भी संक्रमण पर रोक नहीं लग पा रही है और यह लगातार फैलता जा रहा है। पूरी दुनिया में संक्रमण को लेकर अमेरिका पहले नंबर पर है और वहां करीब 20 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके है दूसरे नंबर पर ब्राजील है जहां संक्रमित लोगों की संख्या 7 लाख से अधिक है तीसरे नंबर पर रुस है जहां कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 5 लाख के अधिक है और चौथे नंबर पर अब भारत पहुंच चुका है जहां संक्रमित लोगों की संख्या 3 लाख तक पहुँच चुकी है।
 
संक्रमण और स्वस्थ्य का है बराबर का अनुपात
भारत में जिस तेजी से संक्रमण फैल रहा है उसी तेजी से लोग ठीक भी हो रहे है इसलिए अभी तक का अनुपात बराबर का चल रहा है मतलब जो कुल 3 लाख लोग संक्रमित हुए है उसमें से करीब 50 फीसदी लोग ठीक हो कर अपने घर जा चुके है। सरकार की तरफ से पेश ताजा आंकड़े में बताया गया कि अभी तक देश की सिर्फ 0.73 फीसदी आबादी ही कोरोना से संक्रमित हुई है लेकिन सरकार की तरफ से यह चिंता जाहिर की गयी कि आने वाले समय में यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। हर दिन संक्रमित और मृतकों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है और एक नया रिकॉर्ड हर दिन बनता है।
 
अन्य बिमारियों से लोग पीड़ित
स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से एक आंकड़ा जारी कर बताया गया कि जिन लोगों की अब तक कोरोना की वजह से मौत हुई है वह पहले से ही किसी अन्य बिमारी से पीड़ित थे और उनके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता खत्म थी। सरकार के मुताबिक जो लोग पूरी तरह से स्वस्थ्य है वह कोरोना की लड़ाई जीत कर वापस लौट रहे है जबकि जो लोग पहले से ही बिमार है उनकी इलाज के दौरान ही मौत हो जा रही है।
 
दिल्ली के बिगड़े हाल
राजधानी दिल्ली के हाल भी बिगड़ते जा रहे है। राजधानी में संक्रमण का आंकड़ा 30 हजार को पार कर गया और मरने वालों की संख्या भी 1 हजार तक पहुंच चुकी है। दिल्ली में पांचवें लॉक डाउन के बाद से केजरीवाल सरकार ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को बाहर निकलने की सुविधा दे दी जिससे लोग बाहर निकलने लगे और संक्रमण ने मात्र कुछ ही दिनों में अपना पैर पूरी दिल्ली में पसार लिया। फिलहाल के लिए यह दिल्ली वासियों के लिए बुरी खबर है और दिल्ली सरकार के लिए भी वहीं दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने फिर से लॉक डाउन लगाने की बात पर विचार कर रही है।

आपकी प्रतिक्रिया...