शुरु हुई मुंबई की लाइफ लाइन, सिर्फ इन लोगों को मिलेगा यात्रा का अधिकार

  • 15 जून से शुरु हो रही मुंबई की लोकल ट्रेनें
  • 15 मिनट के अंतर पर चलेगी ट्रेन
  • जरूरी सुविधा से जुड़े लोग ही कर सकेंगे यात्रा 
  • ट्रेन में भी बनानी होगी 2 गज की दूरी
कोरोना वायरस की इस महामारी के बीच आखिरकार मुंबई की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेन सोमवार से फिर से शुरू हो रही है। राज्य की उद्धव सरकार काफी समय से केंद्र से यह मांग कर रही थी कि लोकल ट्रेन शुरू की जाए क्योंकि मुंबई के आसपास के इलाकों में रहने वाले जरूरी कामों से जुड़े कर्मचारियों को यात्रा करने में परेशानी होती है जिसके बाद सरकार ने सोमवार इसे हरी झंडी दिखा दी।
 
 
पश्चिन रेलवे को मिली 73 ट्रेनें
चर्चगेट से विरार और दहानू के बीच कुल 73 ट्रेनें चलाई जाएंगी हालांकि इनकी समय सारणी पिछले दिनों जैसी नहीं है सभी ट्रेनें सुबह 5:30 बजे से रात के 11:30 बजे के बीच ही चलेंगे और एक ट्रेन से दूसरी ट्रेन के बीच 15 मिनट का अंतर रखा गया है।
 
 
जरुरी लोगों को ही यात्रा की परमिशन
सरकार की तरफ से ट्रेन की सुविधा सिर्फ उन लोगों के लिए शुरू की जा रही है जो लोग जरूरी सेवाओं से जुड़े हैं जैसे पुलिस, मीडिया, सफाई कर्मी, डॉक्टर, हॉस्पिटल स्टाफ और मेडिकल से जुड़े लोग। मुंबई से दूर विरार, दहानू रोड, कल्याण, कर्जत और पनवेल जैसे इलाकों से आने वालों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था ऐसे में राज्य सरकार ने केंद्र से मांग की थी की लोकल ट्रेनों को शुरू किया जाए।
 
सेंट्रल को मिली 200 ट्रेनें
सेंट्रल लाइन पर 200 ट्रेन चलाने की इजाज़त दे दी गई है इस सुविधा के शुरू होने से कसारा, कर्जत और पनवेल जैसे इलाकों में रहने वाले लोगों को सुविधा मिलेगी और कम समय और कम खर्च में वह मुंबई पहुंच सकेंगे लेकिन इस समय ट्रेन में यात्रा करना इतना आसान नहीं होगा। यात्रा करने से पहले स्टेशन पर आपको अपना आईडी कार्ड दिखाना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि आप किसी जरूरी सुविधा से जुड़े हुए हैं। आप को टिकट लेते समय भी अपना पहचान पत्र दिखाना होगा
 
 
प्रतिदिन 1.25 लाख लोग कर सकते है यात्रा
सरकार ने बाकी लोगों से निवेदन किया है स्टेशन पर भीड़ इकट्ठा ना करें। यह ट्रेन की सुविधा सिर्फ उन लोगों को दी जाएगी जो किसी जरूरी सेवाओं से जुड़े होंगे लेकिन इस दौरान भी बीमार और कंटेनमेंट जोन से आने वालों को भी स्टेशन पर एंट्री नहीं दी जाएगी। साथ ही यात्रा के दौरान यात्रियों को 2 गज की दूरी का पालन करना होगा। 1200 की क्षमता वाले ट्रेन के डिब्बों में अब मात्र 700 यात्री ही सफर करेंगे। सरकार के मुताबिक 1 दिन में करीब 1.25 लाख लोग ट्रेन में यात्रा कर सकते हैं

आपकी प्रतिक्रिया...