भारत-चीन सीमा पर हिंसक झड़प, भारत के 3 और चीन के 5 जवान शहीद

  • भारत-चीन सीमा पर सैनिकों के बीच हिंसक झड़प
  • भारत के एक कर्नल सहित दो जवान शहीद
  • चीन के 5 जवान भी हमले में शहीद
  • भारत-चीन सेना के बीच बैठक जारी
 
 
भारत-चीन सीमा पर हिंसक झड़प
भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद सुलझाने की जगह अब और उलझता हुआ दिख रहा है। सोमवार को भारतीय और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प हो गई जिसमें से भारत के एक कर्नल सहित 2 जवान शहीद हो गए। शहीद हुए जनरल इन्फेंट्री बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर थे। वही चीन के भी 5 से अधिक सैनिक इस हादसे में मारे गए। भारत और चीन के बीच ऐसा विवाद करीब 45 साल बाद देखने को मिला था है इससे पहले 1975 में ऐसे हालात बने थे। खबरों की माने तो दोनों सेनाओं के बीच हुई हिंसक झड़प में गोली नहीं चली बल्कि पथराव और लाठी-डंडों से एक दूसरे पर हमला किया गया जिससे दोनों देशों के जवान बुरी तरह से घायल हो गये।
सेना ने दी घटना की जानकारी
भारतीय सेना की तरफ से इस बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि सोमवार रात को गालवन वैली में डी एक्सलेशन प्रोसेस चल रहा था और इसी बीच थोड़ी कहा सुनी के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच पथराव शुरू हो गया जिसमें सेना के एक अफसर और 2 जवान शहीद हो गए। सेना के मुताबिक दोनों देशों की सेनाओं के बड़े अधिकारियों के बीच बैठकर जारी है जिससे हालात को काबू में किया जा सके।
 
चीन की भारत को धमकी
चीन के अखबार द ग्लोबल टाइम्स ने इस खबर की पुष्टि करते हुए भारत पर आरोप लगाया कि भारत की तरफ से सीमा पास पार करने की कोशिश की गई थी और इस दौरान झड़प हुई। चीन के विदेश मंत्रालय ने भी धमकी भरा रवैया दिखाते हुए कहा कि भारत एक तरफा कार्यवाही ना करें नहीं तो मुश्किलें बढ़ सकती हैं। चीनी विदेश मंत्रालय ने इस झड़प के लिए भारत को जिम्मेदार बताया है।
इस साल मई महीने में ही भारत और चीन के बीच सीमा विवाद फिर से उभर कर सामने आया था और दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प देखने को मिली थी लेकिन उस दौरान किसी की जान को कोई खतरा नहीं पहुंचा था। झड़प के दौरान सैनिकों को हल्की चोटें आई थी हालांकि इस विवाद के बाद से सीमा पर माहौल लगातार गरम था। भारत और चीन के सेना के बड़े अधिकारियों के बीच बैठकर भी हुई थी और चीन की तरफ से यह बयान जारी किया गया था कि अब हालात शांत हैं। चीन ने सीमा विवाद को बहुत ही छोटा मुद्दा बताते हुए कहा था कि भारत और चीन इसे बातचीत के जरिए सुलझा लेंगे।

This Post Has 2 Comments

  1. नरेंद्र विष्णु रोकडे

    ये 1962वाला भारत नही, ये2020 वाला भारत है
    भारत माता की जय
    वंदेमातरम

  2. Anonymous

    3 जवान शहीद हुए भारत के और 5 जवान चीन के मारे गए

आपकी प्रतिक्रिया...