राहुल गांधी ने ट्वीटर पर पीएम का किया अपमान,

  • राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के खिलाफ किया ट्वीट
  • ट्वीट के दौरान राहुल ने सरेंडर को लिखा सुरेंद्र
  • ट्वीटर पर राहुल का लोगों ने उड़ाया मज़ाक
  • शाहनवाज़ हुसैन ने राहुल गांधी पर बोला हमला
भारत और चीन के बीच जारी तनाव को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर हुई है कांग्रेस पार्टी सहित तमाम विपक्षी दल इस मुश्किल घड़ी में सरकार का सहयोग करने की जगह सरकार से ही सवाल कर रहे है। विपक्ष की माने तो सारा दोष भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का है जबकि उनकी नजर में चीन हर तरफ से सही है। भारत चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने एक सर्वदलीय बैठक भी बुलाई थी और सभी को इस मुद्दे से रूबरू भी करवाया था। बैठक के दौरान कांग्रेस पार्टी को छोड़ ज्यादातर पार्टियों ने खुलकर सरकार का समर्थन किया था और कहा था कि चीन को हर तरफ से मुंह तोड़ जवाब दिया जाना चाहिए।
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार प्रधानमंत्री मोदी पर सवालों की बौछार लगाए हुए हैं लेकिन रविवार को राहुल गांधी अपने ही एक ट्वीट को लेकर बुरी तरह से ट्रोल होने लगे। प्रधानमंत्री के खिलाफ ट्वीट करते हुए राहुल गांधी ने लिखा कि नरेंद्र मोदी वास्तव में सरेंडर (surrender) मोदी हैं लेकिन इस दौरान राहुल गांधी की सरेंडर की अंग्रेजी गलत हो गई और वह सुरेंद्र (Surendera) हो गई।

राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद यूजर्स ने उनका जमकर मज़ाक उड़ाया, एक यूजर्स ने राहुल गांधी की शी जिनपिंग के साथ की एक फोटो भी शेयर कर दी और लिखा Here is u!

लेकिन सवाल यह है कि राहुल गांधी का इस तरह से प्रधानमंत्री का मज़ाक उड़ाना कितना सही है? विपक्ष का विरोध सरकार को लेकर रहता है और यह होना भी चाहिए लेकिन प्रधानमंत्री जो पूरे देश का होता है और वह देश का पंत प्रधान होता है ऐसे में उसका मज़ाक बनाना देश का मज़ाक बनाने जैसा है शायद राहुल गांधी राजनीति के चक्कर में देश की गरिमा भूल रहे है।
भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता शाहनवाज़ हुसैन ने ट्वीट कर राहुल गांधी पर करारा प्रहार किया, देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल राहुल गांधी कर रहे हैं वैसे अपमान जनक शब्दों का इस्तेमाल दुश्मन देश का नेता भी भारत के प्रधानमंत्री के लिए नहीं करता लेकिन राहुल गांधी लगातार प्रधानमंत्री और देश दोनों का अपमान करते जा रहे हैं।

इससे पहले शनिवार को भी राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को लेकर ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने लिखा था कि प्रधानमंत्री ने चीन के सामने सरेंडर कर दिया है। राहुल गांधी ने यह भी पूछा था कि अगर वह जमीन चीन की थी तो भारत के सैनिकों को शहीद क्यों होना पड़ा। सिर्फ इतना ही नहीं भारत चीन सीमा विवाद को लेकर राहुल गांधी हर दिन सरकार से एक सवाल पूछते हैं हालांकि कई बार राहुल गांधी को अपने ही सवालों को लेकर बुरी तरह से आलोचना झेलनी पड़ी थी।

राहुल गांधी ने सरकार से सवाल किया था कि भारत के सैनिकों को चीन के सामने बिना हथियार के क्यों भेजा गया था? जिस पर सरकार की तरफ से उनका कड़ा मज़ाक बनाया गया और यह कहा गया कि भारत और चीन के बीच कांग्रेस की ही सरकार में समझौता हुआ था कि भारत चीन के सैनिक कभी भी हथियार के साथ आमने-सामने नहीं आएंगे।
पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून की रात को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें भारतीय सेना के एक कर्नल समेत 20 जवान शहीद हो गए थे वही झड़प में चीन के भी 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर आई थी हालांकि चीन ने आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं की जबकि चीन के कुछ मीडिया ने 5 जवानों के हताहत होने की खबर छापी थी। पूरी दुनिया इस बात को जानती है कि चीन में मीडिया पर सरकार का पूरा नियंत्रण है और मीडिया सरकार के खिलाफ कोई भी लेख नहीं लिख सकती और चीन सरकार अपनी नाक बचाने के लिए अपने खिलाफ कोई भी लेख नहीं छपने देती।

आपकी प्रतिक्रिया...