विकास दूबे को जानकारी देने वाला पुलिसकर्मी निलंबित, आरोपी के घर को प्रशासन ने किया ध्वस्त

  • विकास दूबे को जानकारी देने वाला पुलिसकर्मी निलंबित
  • जिला प्रशासन ने विकास दूबे के घर को किया ध्वस्त
  • विकास दूबे के सहयोगियों के 2200 मोबाइल सार्विलांस पर 
  • आरोपी के परिवार और सहयोगियों से पूछताछ जारी
सार्विलांस पर लगे है 2200 मोबाइल
उत्तर प्रदेश का कानपुर इनकाउंटर इस समय सुर्ख़ियो में बना हुआ है पुलिस और क्रिमिनल विकास दूबे के बीच हुए मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गये जिसके बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस विकास दूबे को जड़ से मिटाने पर तुली हुई है। पुलिस की तरफ से लगातार छापेमारी जारी है और विकास के परिवार और सहयोगियों को लगातार गिरफ्तार किया जा रहा है और उनसे कड़ी पूछताछ की जा रही है। इसके साथ ही विकास दूबे और उनके करीबियों के मोबाइल फोन भी टैप किये जा रहे है जिसमें पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। विकास दूबे को पुलिस की कार्रवाई की जानकारी देने वाला खुद एक पुलिस कर्मचारी निकला जिसने छापेमारी की खबर विकास दूबे को पहले ही दे दी थी जिससे आरोपी विकास दूबे पूरी तरह से सतर्क हो गया था।
आरोपी को सूचना देने वाला विनय तिवारी निलंबित
दरअसल कानपुर के चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी की इनकाउंटर की रात विकास दूबे से कई बार मोबाइल पर बात हुई थी जिसके बाद उन्हे निलंबित कर दिया गया है। सूत्रों की मानें तो विनय तिवारी ने पुलिस की सारी गुप्त सूचना विकास दूबे को समय से पहले ही दे दी थी जिसके बदले में उन्हे मोटी रकम भी ऑफर हुई थी। 8 पुलिस वालों की मौत के बाद पुलिस ने विकास दूबे सहित कुल 2200 लोगों का मोबाइल सर्विलांस पर डाला है और सभी संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है। विनय तिवारी पर यह भा आरोप लगा है कि छापेमारी की रात वह सबसे पीछे थे और बाकी लोगों को सहयोग नहीं कर रहे थे जैसे की उन्हे होने वाली घटना के बारे में जानकारी थी। थाना प्रभारी विनय तिवारी से भी एसटीएफ पूछताछ कर रही है और यह जानकारी निकालने में लगी हुई है कि आखिर विनय तिवारी और विकास दूबे का आपसी कनेक्शन क्या है। फिलहाल विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया है।
उधर जिला प्रशासन ने विकास दूबे के घर पर तोड़क कार्रवाई शुरु कर दी है। नियमों का उल्लंघन करके विकास दूबे ने घर बनाया था और बहुत से लोगों की जमीन भी गलत तरीके से हड़प ली थी। विकास दूबे के खिलाफ 60 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज है। विकास दूबे पर दंबगई और राजनीतिक पहुंच की वजह से कोई कार्रवाई नहीं हो पा रही थी लेकिन अब पानी सर से उपर जा चुका है जिससे अब जितने भी केेस विकास दूबे के खिलाफ होंगे सब एक साथ खोले जा रहे है।
 
हिस्ट्रीसीटर विकास के घर को प्रशासन ने तोड़ा
उत्तर प्रदेश पुलिस ने विकास दूबे को गिरफ्तार करने के लिए उनके घर पर छापा मारा था लेकिन विकास दूबे को इसकी सूचना पहले ही मिल गयी और वह अपने लोगों के साथ पहले से तैयार बैठा था पुलिस के आते ही विकास दूबे की तरफ से फ़ायरिंग शुरु हो गयी जिसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गये। इस मुठभेड़ के बाद से पुलिस प्रशासन विकास दूबे की खोज में लगा हुआ है। मुख्यमंत्री योगी ने भी आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश जारी किए है।

This Post Has 3 Comments

  1. Anonymous

    is vikash dube ka enkauntar hona chahiye

  2. Gopal Patel

    भारत देश में कई राजकीय नेता एवं दुबे जैसे गुंडों की सांठगांठ की वजहसे स्वार्थकरण चल रहा है। और योगीजी जैसे नेताही इसे योग्य अंजाम दे सकते है। योगिजी के शासनकाल में उत्तर प्रदेश की एक नई छबि तयार होगी।उत्तर प्रदेश को अबतक कई भोगी मिले अब योगी आए है काफी हदतक कचरे की सफाई होगी।
    गोपाल पटेल, औरंगाबाद( महाराष्ट्र)

  3. Anonymous

    गुंडा आतंकियों अपराधियों को सीधे मौत की सजा होनी चाहिए बीच सड़क पर उन्हें गोली से मारना कुत्तों से कटवाना हाथ कलम करना इतिहास दंड देने चाहिए जिससे अन्य लोग शिक्षा लेकर कभी भी कोई भी अनैतिक काम करने से डरें सरकार का यह कर्तव्य है कि जो भी देश विरोधी समाज विरोधी राष्ट्र विरोधी अथवा अनैतिक कार्य करें उसे कड़ी से कड़ी सजा दे मैं सरकार के कार्यों से सहमत हूं नारायण

आपकी प्रतिक्रिया...