सचिन पायलट ने कहा, सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं

  • सचिन पायलट से छिना उपमुख्यमंत्री और अध्यक्ष का पद
  • कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने बीजेपी पर लगाया आरोप
  • पायलट ने कहा सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं
  • बीजेपी की बुधवार को होगी बैठक 

     
  • राजस्थान में कांग्रेस में जारी तूफान लगातार बढ़ता जा रहा है और तमाम कोशिश के बाद भी सचिन पायलट की पार्टी की दूरी बढ़ती जा रही है। सचिन पायलट अब ना तो राजस्थान के उप मुख्यमंत्री है और ना ही राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष, उनसे दोनों ही पद ले लिया गया है सचिन पायलट ने भी तेजी दिखाते हुए अपना ट्वीटर अकाउंट भी अपडेट किया और उस पर से उप मुख्यमंत्री और राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद को निकाल दिया। सचिन के ट्विटर हैंडल पर अब वह सिर्फ एक विधायक की हैसियत से है। 

    सचिन पायलट की बगावत को मध्य प्रदेश के ज्योतिरादित्य सिंधिया से जोड़ कर देखा जा रहा था और सभी को यह उम्मीद थी कि सचिन पायलट की बगावत के साथ ही मध्य प्रदेश की तर्ज पर राजस्थान की राजनीति में बदलाव देखने को मिलेगा लेकिन यहां ऐसा कुछ भी नहीं हुआ और अशोक गहलोत सचिन पायलट पर भारी पड़ गये और अभी तक की मानें तो आंकड़ों के मुताबिक राजस्थान में कांग्रेस सरकार बचाने में कामयाब भी रहेगी हालांकि यह राजनीति है यहां कुछ भी निश्चित नहीं होता है वहीं सचिन ने उन लोगों को धन्यवाद दिया जो उनके साथ खड़े है और ट्वीट कर कहा कि सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं हो सकता।

    कांग्रेस की तरफ से राजस्थान में जारी बगावत को लेकर बीजेपी पर आरोप लगाया जा रहा है। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरेजावाल ने कहा कि बीजेपी राज्य की चुनी हुई सरकार को गिराने पर लगी हुई है। सुरजेवाला ने कहा कि सरकार ने कुछ एजेंसियों की बदौलत विधायको को डराने की कोशिश की और राजस्थान की चुनी हुई सरकार को गिराने पर तुली हुई है यह लोकतंत्र की हत्या है।
    राजस्थान बीजेपी भी इस ताक में है कि मौका मिले और राजस्थान की राजनीति को बदल दिया जाए लेकिन फिलहाल ऐसा होता नजर नहीं आ रहा है अभी तक कांग्रेस के पास पूर्ण बहुमत है लेकिन सचिन पायलट के गुट ने फ्लोर टेस्ट की मांग की है। बुधवार को जयपुर में बीजेपी की बैठक होने वाली है जहां कांग्रेस में जारी गतिरोध पर विचार विमर्श किया जायेगा और इस पर भी विचार किया जायेगा कि इस मुश्किल में हालात में पार्टी को आगे किस तरह से काम करना है।

This Post Has One Comment

  1. अविनाश फाटक, बीकानेर. (राजस्थान)

    किसी भी घटना-दुर्घटना का आरोप संघ/भाजपा पर लगाना तो इन सब का मौलिक अधिकार ही बन चुका हैl
    परंतु आज अशोक गहलोतजी ने,अपने ही दल के सचिनजी पायलट एवं उनके साथियों पर जिस अभद्रता से एवं स्तरहीन भाषा में आरोप लगाए हैं,वह निंदनीय हैl क्या यही कांग्रेस की संस्कृति एवं वास्तविक चरित्र है? कल यदि कोई,उनके इन वक्तव्यों के साथ न्यायालय में पहुंच जाए,तो गहलोतजी को मूंह छुपाने के लिये भी जगह नहीं मिलेगी.
    जिन ओछे हथखंडों से उन्होंने सचिनजी से बैर निकाला है,वह उनके निम्न स्तर को ही प्रदर्शित करता है.यह उनकी जीत नहीं,घोर पराजय हैl उनके इस आचरण ने, उनके राजनैतिक भविष्य के ताबूत में अंतिम और निर्णायक कील ठोक दी है.भगवान उनका भला करेl

आपकी प्रतिक्रिया...