सुप्रीम कोर्ट से कांग्रेस को झटका, PM Cares Fund से 3100 करोड़ रुपये हुए खर्च

  • पीएम केयर्स फंड को सुप्रीम कोर्ट से राहत
  • कांग्रेस पार्टी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका
  • पीएम केयर्स फंड से 3100 करोड़ हुआ खर्च
  • फंड से 50 हजार वेंटिलेटर की हुई खरीददारी
देश में कोरोना महामारी से लड़ने के लिए पीएम की तरफ से पीएम केयर्स फंड तैयार किया गया था जिसमें दुनिया से लोगों ने दान दिया और इसका उपयोग कोरोना से लड़ने में किया गया लेकिन विपक्षी दल हमेशा से इस फंड पर सवाल उठाते रहे और यह आरोप लगाया कि इस फंड का गलत इस्तेमाल हो रहा है। केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने सबसे ज्यादा सवाल उठाया था और यह आरोप लगाया था कि पीएम केयर्स फंड को पार्टी के हित के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका भी दाखिल की गयी और यह मांग की गयी कि पीएम केयर्स फंड को एनडीआरएफ फंड में ट्रांसफर कर दिया जाये जिस पर सुनवाई करते हुए देश की सर्वोच्च अदालत ने इसे गलत करार दिया और कहा कि पीएम केयर्स फंड एक चैरिटेबल के तौर पर इकट्ठा किया गया है इसलिए इसे एनडीआरएफ में ट्रांसफर नहीं किया जा सकता।
सुप्रीम कोर्ट की तरफ से सुनवाई के बाद सरकार की तरफ से सफाई दी गयी और बताया गया कि पीएम केयर्स फंड से अब तक 3100 करोड़ रुपये खर्च किये गये है जिसमें सिर्फ 2000 करोड़ रुपया 50000 वेंटिलेटर की ख़रीददारी में खर्च हुआ है क्योंकि कोरोना काल में वेंटिलेटर की सबसे ज्यादा जरुरत पड़ रही थी इसके साथ ही करीब 1 हजार करोड़ राज्यों को दिया गया है जिससे दूसरे राज्यों से आ रहे लोगों के लिए क्वारंटाइन सेंटर और खाने पीने पर खर्च किया गया है। पीएम केयर्स फंड की तरफ से 100 करोड़ रुपया कोरोना की दवा तैयार करने के लिए भी दिया गया है जिससे देश जल्द से जल्द इस महामारी से मुक्ति पा सके। 
सरकार की तरफ से बताया गया कि पीएम केयर्स फंड एक रजिस्टर्ड पब्लिक ट्रस्ट है और पूरी तरह से पारदर्शी है इस ट्रस्ट में कितना पैसा आता है और कहां कहां खर्च होता है सबकी जानकारी सरकार की तरफ से समय समय पर साझा की जाती रही है। इस ट्रस्ट को सिर्फ कोरोना महामारी के लिए बनाया गया है और इसका इस्तेमाल भी सिर्फ कोरोना से लड़ाई के लिए किया जा रहा है क्योंकि जिन लोगों ने इस ट्रस्ट में दान दिया है उन्होने कोरोना के लिए दान दिया है इसलिए इसका इस्तेमाल कहीं और नहीं किया जा सकता है।    
राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट से यह मांग की थी कि पीएम केयर्स फंड को एनडीआरएफ में ट्रांसफर किया जाए जबकि कांग्रेस की मनमोहन सरकार के दौरान एनडीआरएफ फंड से राजीव गांधी फाउंडेशन में पैसे ट्रांसफर किये गये थे इसके अलावा और कई बार सरकार ने राजीव गांधी फाउंडेशन में पैसा दिया था जिसका कोई भी आधिकारिक रिकार्ड नहीं है कि यह पैसे कहां पर खर्च किये गये है। बीजेपी की तरफ से यह दावा किया गया है कि राजीव गांधी फाउंडेशन एक पारिवारिक ट्रस्ट है जिसे सिर्फ परिवार और पार्टी के लिए इस्तेमाल किया गया है। राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से भी कई बार पैसा मिला है और उसके बदले में चीन को गलत तरीके से फायदा भी पहुंचाया गया था।

This Post Has One Comment

  1. Anonymous

    CONGRESS IS THIRD CLASS PARTY.

Leave a Reply to Anonymous Cancel reply