मुंबई किसी के बाप की नहीं! कंगना को मिली Y कैटेगरी की सुरक्षा

आखिर मुंबई किस की है? मराठी मानुष की, जिनकी यह जन्मभूमि है या फिर उन प्रवासी लोगों की जिनकी यह कर्मभूमि है या फिर उन नेताओं की जो वोट के लिए इसे अपना बनाए बैठे है। करीब दशकों से यह  लड़ाई देखने को मिल रही है जब मुंबई को लेकर कुछ राजनेता दावा कर देते है कि यह सिर्फ मराठी मानुष की है और उनका ही यहां पर अधिकार है जबकि उन लोगों को बड़ी ही आसानी से बाहर कर दिया जाता है जिनकी यह कर्मभूमि है और जिन्होंने मुंबई की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में बड़ा योगदान दिया है। भारत के संविधान की बात करें उसमें यह साफ लिखा है कि भारत का नागरिक पूरे देश में कहीं भी जाकर रह सकता है और अपनी रोजी रोटी के लिए रोज़गार कर सकता है।
सुशांत सिंह राजपूत केस में जहां मुंबई पुलिस पर सवाल उठ रहे है वहीं अब इसमें महाराष्ट्र बनाम बाहरी की लड़ाई भी नजर आ रही है। एक्ट्रेस कंगना शुरु से ही सुशांत सिंह राजपूत के समर्थन में नजर आ रही है जबकि खबरों के मुताबिक मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार का रवैया समर्थन वाला नजर नही आ रहा है और सरकार के समर्थन वाली पार्टी के कुछ नेताओं ने तो सुशांत के खिलाफ भी बयानबाज़ी की थी जिसके लिए उनकी आलोचना भी हुई थी। सुशांत केस को लेकर अब एक्ट्रेस कंगना रनौत और शिवसेना नेता संजय राउत आमने सामने आ चुके है। दरअसल कंगना ने एक ट्वीट में कहा कि मुंबई की हालत पीओके जैसी हो चुकी है और वह अब वहां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही है जिसके बाद से शिवसेना ने कंगना पर आरोप लगाने शुरु किये और उन्हे मेंटल तक कह दिया। संजय राउत ने उन्हे फिर से मुंबई ना लौटने की धमकी दी।

कंगना ने भी एक के बाद एक ट्वीट कर महाराष्ट्र के नेता संजय राउत पर हमला बोला और उन्हे भी धमकी दी कि वह मुंबई लौट रही है जिससे रोकना है वह रोक कर दिखाए। कंगना ने महाराष्ट्र सरकार को जवाब देने के लिए एक वीडियो भी जारी किया जिसमें उन्होने सरकार के साथ साथ मुंबई पुलिस को भी कटघरे में खड़ा कर दिया। कंगना ने अपने वीडियो में कहा कि उन्हे अभिव्यक्ति की आजादी है और वह पूरे देश में कहीं भी जा सकती है। कंगना ने अपने वीडियो में आमिर खान और नसरुद्दीन शाह को भी कटघरे में खड़ा किया।

महाराष्ट्र सरकार के साथ जारी विरोध के चलते कंगना रावत की जान को खतरा बताया जाने लगा है जिसके बाद केंद्र सरकार की तरफ से कंगना को वाई कैटेगरी की सुरक्षा प्रदान करने का फैसला किया गया है। इस सुरक्षा प्रणाली में कुल 11 पुलिसकर्मी कंगना की सुरक्षा में हमेशा तैनात रहेंगे। वहीं गृह मंत्रालय की तरफ से मिली सुरक्षा के बाद कंगना ने एक ट्वीट कर गृह मंत्री अमित शाह का धन्यवाद किया।

आपकी प्रतिक्रिया...