देवभूमि हिमाचल-एक अनूठी पहल

‘ये किस कवि की कल्पना का चमत्कार है?
ये कौन चित्रकार है, ये कौन चित्रकार है–?

देवभूमि हिमाचल प्रदेश पर कदम रखते ही ये पंक्तियां जुबान पर आ जाती हैं- ‘ईश्वर की अनोखी संरचना’, ‘प्रकृति का अनूठा उपहार’- कितना मोहक कितना सुखद।

प्रकृति की ये अलौकिक सुंदरता, अनुपम छटा, हरी-भरी वादियां व शुद्ध वातावरण के साथ-साथ जब हर तरफ सुव्यवस्था व सुशासन हो, तो जीवन कितना सुलभ, कितना सुगम हो जाता है, यह नजारा हिमाचल प्रदेश में देखने को मिल रहा है। यहां के मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने भारतीय जनता पार्टी के सबल सेनापति के रूप में हिमाचल प्रदेश का कुशल नेतृत्व करके राष्ट्रीय स्तर पर इसे निखारा है। इससे देश व पार्टी दोनों गौरवान्वित हुए हैं। चहुंमुखी प्रतिभा के धनी, सरल व मृदुभाषी, व्यक्तित्व के साथ कर्तव्यनिष्ठ व दृढ़ इरादे-निश्चय ही एक विशिष्ट व्यक्तित्व की पहचान है। पिछले 50 माह के कार्यकाल में उच्चतम मापदंड़ों पर खरे उतरकर प्रो. धूमल जी की टीम ने 64 कीर्तिमान स्थापित करके-अपनी उच्च-क्षमता व जनता के प्रति निष्ठा का उदाहरण प्रस्तुत किया है। इस महान उपलब्धि पर बधाई देते हुये भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नितिन गडकरी ने एक जनसभा में कहा कि जिस तरह ‘सचिन तेंदुलकर ने सौ सेंचुरी बनाई है-’ उसी तरह हमारे घूमल जी भी 100 (पुरस्कार) सेंचुरी बनाकर ही चैन लेंगे, इसके प्रति मैं पूरी तरह से आश्वस्त हूं। आज देश में दिन-प्रतिदिन रुपये का अवमूल्यन हो रहा है, किसान आत्महत्या कर रहे हैं, युवकों को रोजगार नहीं मिल रहा है। इंडस्ट्रीज कमजोर होती जा रही हैं, शेयर मार्केट में मंदी छाई है। देश भुखमरी के कगार पर है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था चरमरा रही है। केंद्र सरकार की स्थिति डांवाडोल है, ऐसे समय हिमाचल प्रदेश जैसा पहाड़ी प्रदेश जिस गति से उन्नति कर रहा है, उसकी जितनी सराहना की जाये कम है।

प्रो. प्रेम कुमार घूमल के नेतृत्व में एक कार्यकाल के चार वर्षों में 64 कीर्तिमान स्थापित कर विभिन्न संस्थाओं, एन.जी.ओ, समाचारपत्र समूह, विदेशी संस्थाओं, केन्द्र सरकार-सभी की नजरों में हिमाचल प्रदेश आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। केवल चुनावी वादे पूरे करने तक दायरा सीमित न रखकर वायदों से आगे बढ़कर आम आदमी की बेहतरी तथा प्रदेश का विकास तेजगति से करने का काम भारतीय जनता पार्टी शासित हिमाचल प्रदेश में हो रहा है। विभिन्न प्रतिष्ठित ऐजेंसियों द्वारा राज्यों में किए गए कार्यों के सर्वेक्षणों में बेस्ट परफॉर्मिग स्टेट के रूप में हिमाचल प्रदेश सामने आया है। एक मासिक पत्रिका की ओर से कराए गए सर्वेक्षण में ओवर ऑल परफॉरमेस के लिए ‘बेस्ट बिग स्टेट’ उभर कर आया है। शिक्षा, पर्यावरण, माइक्रोइकानॉमी, निवेश, हाऊसिंग डेवलपमेट जैसे विकास सूचकों में भी हिमाचल प्रदेश धूमल जी के नेतृत्व में प्रथम स्थान पर रहा है।

कृषि, ढांचागत विकास व उपभोक्ता बाजार में भी हिमाचल श्रेष्ठ पाया गया है। सर्वेक्षण में हिमाचल प्रदेश को कृषि क्षेत्र में नई पहल व बेहतर कार्य करने के लिये स्टेट एग्रीकल्चर लीडरशिप अवार्ड-2010 से सम्मानित किया गया। देश- विदेश के पर्यटकों का आकर्षण केंद्र बना हिमाचल प्रदेश दिन-प्रतिदिन पर्यटकों का पसंदीदा स्थल बन कर उभर रहा है। बेस्ट ट्रेवल डेस्टीनेशन तथा शिमला को बेस्ट मांउटेन हिल स्टेशन से नवाजा गया है।

पर्यावरण पर विशेष ध्यान केंद्रित करके प्रदेश सरकार ने हिमाचल प्रदेश को प्रदूषण मुक्त-देवभूमि बनाने का संकल्प पूरा किया है। सर्वेक्षण में महिला सशक्तीकरण, रोजगार सृजन तथा पर्यावरण संरक्षण के लिये ‘डायमंड स्टेट एवार्ड’ से सम्मानित किया गया है। एक अन्य सर्वेक्षण में हिमाचल प्रदेश ओवर ऑल पर फॉरर्मेंस, पूंजी निवेश व माइक्रोइकोनोमी में फास्टेस्ट मूवरस्टेट से नवाजा गया है। ये सभी कीर्तिमान सरकार की जनाभिमुख नीति व आम-आदमी के विकास की ओर प्रतिबद्धता दर्शाते हैं।

पिछले 50 माह के कार्यकाल में उच्चतम मापदंड़ों पर खरे उतरकर प्रो. धूमल जी की टीम ने 64 कीर्तिमान स्थापित कर-अपनी उच्च- क्षमता व जनता के प्रति निष्ठा का उदाहरण प्रस्तुत किया है। इस महान उपलब्धि पर बधाई देते हुये भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नितिन गडकरी ने एक जनसभा में कहा कि जिस तरह ‘सचिन तेंदुलकर ने सेंचुरी बनाई है-’ उसी तरह हमारे घूमल- जी 100 (पुरस्कार) सेंचुरी बनाकर चैन लेंगे, इसके प्रति मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं।

सड़क, शिक्षा व स्वास्थ्य पर यह पहाड़ी प्रदेश स्वर्गीय दीनदयाल उपाध्याय जी के अंत्योदय संकल्पना को साकार करके समाज के अंतिम व्यक्ति की सुख- समृद्धि को बढ़ावा देकर उनके जीवन-स्तर में आमूल परिवर्तन का सपना लेकर प्रो. प्रेम कुमार धूमल जी और उनकी कार्य कुशल टीम काम कर रही है। ‘अटल स्वास्थ्य सेवा’ जैसी अदभुत कल्पना उन्होंने साकार कर दिखाई है। समाज का कोई भी घटक 104 नंबर पर फोन करके ऐंबुलेंस सेवा प्राप्त कर सकता है और तुरंत सरकारी अस्पताल में उसकी दवा और इलाज की व्यवस्था होती है। यह क्रियान्वयन करके आम आदमी की चिंता करने वाला हिमाचल प्रदेश अपने आप में एक मिसाल के तौर पर उभरा है।

केरल को पीछे छोड़ कर पहले क्रमांक का साक्षर राज्य बना हिमाचल प्रदेश अब ‘शिक्षा का हब’ बनने जा रहा है। उच्चस्तरीय नये पाठ्यक्रम, विश्वविद्यालय, महाविद्यालयों को प्रारंभ करके उच्च शिक्षा की गुणवत्ता के साथ-साथ बाहर के विद्यार्थियों को आकर्षित करना और प्रदेश की जनता को रोजगार उपलब्ध कराना, व्यापार, बढ़ाना, ऐसे दूरदर्शी कार्य इसी सरकार की देन है। विशेष कर प्रोफेशनल व तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के लिये प्रदेश के छात्रों का बाहर जाने से रोकने में भी सरकार ने सफलता अर्जित की है।

‘दीनदयाल किसान बागवान’ योजना का रूप साकार करके कृषि पैदावार में विविधता लाकर कृषि आर्थिकी को बढ़ाने के साथ रोजगार के अवसर भी सृजन सरकार ने उपलब्ध कराए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में जन-जीवन का ध्यान रखकर 300 करोड़ रुपये की लागत से दूध गंगा योजनाओं ने भी मूर्त रूप लिया है। एपल रिप्लांटेशन प्रोजेक्ट के माध्यम से सेवा के लिये प्रसिद्ध हिमाचल ने पुराने पेड़, जिसकी पैदावार कम हो गई, उसमें गुणवत्ता में वृद्धि व अधिक पैदावार के प्रयास करने शुरू किए गए हैं। ‘पारदर्शी व संवेदनशील प्रशासन’ का ध्येय लेकर भ्रष्टाचार से लड़ने के लिये हिमाचल सरकार ने ‘ई-गर्वनेस’ प्रचलित करके ‘प्रशासन जनता के द्वार’ नामक कार्यक्रम आयोजित कर निश्चय ही विशेष पहल की है।

हिमाचल प्रदेश विशेष न्यायालय विधेयक जनता को न्याय दिलवाने की उल्लेखनीय पहल है। पॉली हाउस निर्माण योजना के तहत हिमाचल प्रदेश सरकार ने 8,740 पॉली हाउस बनाकर एक बड़े क्षेत्र को संरक्षित खेती के अधीन किया है। सबका हित सबका कल्याण ध्येय रखने वाले प्रो. धूमल जी ने प्रगति व जन कल्याण का नया अध्याय रचकर समाज के हर वर्ग को लाभान्वित किया है। प्रो. धूमल जी से एक साक्षात्कार के मध्य, जब यह प्रश्न रखा कि अपने इतने कीर्तिमान स्थापित करने व उच्चतम सफलता ही प्राप्त करने के पीछे क्या कारक है, व आप इसका श्रेय किसको देते हैं, तो उन्होंने अपने सरल उत्तर में कहा कि मैं इसे ईश्वर की कृपा अपने सहयोगियों की क्षमता व जनता का प्रेम मानता हूं’

पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी जी का प्रिय प्रदेश हिमाचल प्रदेश आने वाले दिनों में और भी प्रगति कर देश के विकास में अपना योगदान देगा, ऐसी आशा है। निश्चितरूप से प्रगति, विकास व जनहित के पथ पर हिमाचल सभी प्रदेशों के लिये अनुकरणीय रहेगा। हिमाचल प्रदेश सरकार भाजपा की सफलता की पहचान है’ और शिखरों को छूता-हिमाचल पूरे देश की शान है।

 

आपकी प्रतिक्रिया...