कार्य सम्राट- गोपाल शेट्टी

किसी भी कार्यकर्ता की, राजनीतिक नेता की पहचान अथवा सामाजिक सम्पर्क उसके कार्य से विकसित होता है। राजनीतिक क्षेत्र में तो ऐसी पहचान काफी महत्वपूर्ण होती है। लेकिन इस तरह की पहचान बनाने के लिए सस्ती लोकप्रियता के पीछे लगने की अपेक्षा ठोस और सकारात्मक काम कर अपनी पहचान बनाने वाले बिरले ही होते हैं। बोरिवली के वर्तमान विधायक गोपाल शेट्टी का इसमें पहला क्रमांक है। आगामी लोकसभा चुनाव में वे उत्तर मुंबई निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार हैं।
पिछले 22 वर्षों से राजनीतिक क्षेत्र में गोपाल शेट्टी कार्यरत हैं और नगर सेवक से विधायक बनने के बाद उनके कार्य की कक्षाएं विस्तारित हुईं। बोरिवली क्षेत्र में ‘उद्यान सम्राट’ के रूप में उनकी ख्याति है। बोरिवली पूर्व व पश्चिम में अनेक खेल के मैदान, उद्यान विकसित कर उन्हें महापुरुषों के नाम दिए गए हैं। 98% डी.पी. रोड़ बन चुके हैं। सात स्थानों पर डायलेसिस सेंटर आरंभ कर रुग्णों को केवल सौ रु. में डायलेसिस सेवा उपलब्ध कराई गई है।

श्री शेट्टी मात्र ‘उद्यान सम्राट’ ही नहीं, वास्तव में ‘कार्य सम्राट’ भी हैं। उनके कार्य विस्तार को निम्न रूप से रखा जा सकता है-

1.उपमहापौर के रूप में उन्होंने गोराई व मनोरी को पानी आपूर्ति के लिए 216 करोड़ रु. की लागत से विशाल भूमिगत जल आपूर्ति परियोजना आरंभ करवाई।

2. पोईसर में नेताजी सुभाष चंद्र बोस क्रीडांगण, बोरिवली में वीर सावरकर उद्यान, छत्रपति शिवाजी महाराज क्रीडांगण के साथ 40 फुट ऊंची शिवाजी महाराज की प्रतिमा भी स्थापित करवाई। इस तरह विशाल क्रीडांगणों व मनोरंजन पार्कों की स्थापना करवाई।

3. छत्रपति शिवाजी महाराज क्रीडांगण में वातानुकूलित फिटनेस सेंटर, साईबाबा फिटनेस सेंटर, चिकुवाडी वेल्फेयर एसोसिएशन, सप्ताह मैदान युवक मंडल, सिविक पार्क फेडरेशन की स्थापना की।

4. पश्चिमी उपनगरों में 7 डायलेसिस केंद्रों की स्थापना की गई।

5. वरिष्ठ नागरिकों के लिए विशेष केंद्रों और ग्रंथालयों व अन्य सुविधाओं का विकास

6.विभिन्न क्षेत्रों में प्रार्थना सभागृहों की स्थापना की गई।

7. गोराई में जेट्टी पर दोनों सिरों पर मछली बाजार की स्थापना।

8. साईबाबा नगर में जॉगर्स पार्क तथा अन्य उद्यानों में इसी तरह की सुविधा और मध्यम वर्गियों के लिए सुविधाजनक दरों पर स्पोर्ट्स अकादमी की स्थापना।

9. नई सड़कें, वर्तमान सड़कों का विस्तार, पदपथों की सुविधा, यातायात की समस्याओं का निपटारा और बोरिवली स्टेशन के आसपास विकास व सुविधाओं का निर्माण किया गया।

10. युवकों और बच्चों में राष्ट्रीय जागरण के लिए देश के लिए बलिदान करने वाले विभिन्न नेताओं की याद में विभिन्न कार्यक्रम लगातार आयोजित किए जाते रहे हैं।

यह उनके कार्यों की महज मोटी सूची है। इसके अलावा भी अन्य कार्य निरंतर होते रहे हैं। कोई जनहितकारी कार्य आरंभ करना और उसे पूरा करने तक परिश्रमपूर्वक पीछा करना उनकी विशेषता है। इससे स्पष्ट है कि आम जनता के लिए बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का उनका प्रामाणिक प्रयास रहा है। भविष्य में बिजली, पानी, सड़कों के साथ ही ‘स्वास्थ्य सेवा’ महत्वपूर्ण विषय होगा। बदलती जीवन शैली और तनावों के कारण मानवी स्वास्थ्य की समस्या दिन-ब-दिन उग्र होती जा रही है। यह देखकर ही स्वास्थ्य सेवा के लिए ठोस काम करने का उनका इरादा है। यह सारा काम मात्र सरकार की सहायता से ही नहीं होगा, इसके लिए जन सहयोग व धनबल समाज से ही खड़ा करना होगा। वे कहते हैं, ‘समाज की सज्जन शक्ति को जागृत कर उनके सहभाग से कितना भी कठिन काम हो सहज हो सकता है, यह मेरा अनुभव है।’

समस्याएं बोरिवली की हो या मुंबई के किसी भी क्षेत्र की, उन्हें हल करने में वे हमेशा अगुवा रहे हैं। मिसाल के तौर पर वर्ली की कैम्पा कोला सोसायटी का दिया जा सकता है। इस सोसायटी के अनधिकृत निर्माण पर जब प्रशासन ने कार्रवाई की तब अधिकृत फ्लैटधारकों को भी कठिनाई होती थी। इन फ्लैटधारकों के पक्ष में गोपाल शेट्टी और भाजपा खड़े हो गए। उन्होंने मुख्यमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक और महापौर से लेकर आयुक्त तक निवेदन देकर उनके हितों की रक्षा का प्रयास किया। वे न्याय व्यवस्था का सम्मान करते हुए आम आदमी के हितों की रक्षा में हमेशा आगे होते हैं।

यह पूछने पर कि आगामी लोकसभा चुनाव का सामना करते हुए क्या करें, उन्होंने कहा कि देश में परिवर्तन की इस समय आवश्यकता है। युवकों में असंतोष है। उनकी मानसिकता को जानकर विचार करना होगा। राजनीतिक छीनाझपटी के कारण समाज संकट झेल रहा है, यह हम देख ही रहे हैं। देश को संतुलित राजनीतिक शक्ति की जरूरत है। सामान्य जनता का विश्वास जीतने वाली व्यवस्था निर्माण करें और समन्वय का मार्ग अपनाए तो स्थिति में बदलाव आ सकता है। मा. अटलजी के कार्यकाल में इसका हमने अनुभव किया है। अटलजी का दृष्टिकोण प्रत्यक्ष में लाकर मतदाताओं का विश्वास जीतना होगा।

श्री शेट्टी अपने काम को ही प्रचार का मुद्दा मानते हैं। उनका कहना है कि देश में भ्रष्टाचार, भय व भूखबलि का तांडव चल रहा है। इन समस्याओं के समाधान क्या हैं, हम उन्हें किस तरह हल करने वाले हैं यह बताकर ही हम मतदाताओं का विश्वास प्राप्त कर सकते हैं। महाराष्ट्र में हमारी महायुति है। प्रत्येक दल की नीतियां अलग होने के बावजूद हम न्यूनतम सहमति का साझा कार्यक्रम बनाएंगे। महायुति के कारण समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने का अवसर प्राप्त हुआ है। ‘सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ व ‘सामाजिक समरसता’ के आधार पर ‘अस्मिता जागरण’ व ‘विकास की संकल्पना’ पेश करने वाले हैं। हमें केवल सत्ता के लिए सत्ता नहीं चाहिए। हमें सत्ता में इसलिए आना है कि सामान्य व्यक्ति की जीना आसान हो, उनके जीवन में आनंद के क्षण आए। यह ध्यान में रखकर ही प्रचार व प्रसार किया जाएगा।

भविष्य के लिए उन्होंने जनसामान्य के लिए विभिन्न कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाई है। उन्होंने कहा कि बोरिवली में 28 एकड़ पर क्रीडा संकुल बनाने का कार्य चल रहा है। सभी प्रकार के खेलों के लिए यहां स्थान होगा। इसी तरह बोरिवली विभाग में एक बड़े अस्पताल की आवश्यकता है। आज परेल, दादर, बांद्रा में चिकित्सा के लिए जाना होता है। महानगरपालिका, राज्य सरकार और जनसहयोग से यह अस्पताल स्थापित करने की मेरी योजना है। इसके लिए जगह खोजी गई है और शीघ्र ही इसका शिलान्यास होगा।

उन्होंने कहा कि ‘मैं दीर्घकालीन योजना और व्यावहारिक स्तर इस तरह दोहरे मार्ग से प्रयत्न करता हूं।’ उनके प्रयत्नों से इलाके में पानी की समस्या हल हो गई, लेकिन इलेक्ट्रिक मीटर की समस्या उत्पन्न हो रही है। इस दिशा में काम करने का उनका इरादा है। उनकी राय है कि ‘हमारा समाज मुफ्त में कुछ नहीं चाहता; लेकिन अन्यायपूर्ण और अव्यावहारिक बातें उसे सहन नहीं होतीं। यह ध्यान में रख कर समस्याएं हल करनी होंगी।’ उनका कहना है कि राज्य की आघाड़ी सरकार की निष्क्रियता के कारण एसआए योजनाएं ठण्डे बस्ते में चली गई हैं। इस योजना में राजनीतिक अड़चनों को दूर कर गति देने का काम करना होगा। वे अपने क्षेत्र में अत्याधुनिक उच्च तकनीकी और शिक्षा संकुल, विशाल स्पोर्ट्स स्टेडियम, कैंसर और मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल और मानसिक रूप से विकलांगों के लिए प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करना चाहते हैं। रेल मुंबई की जीवनरेखा है और प्रति दिन लाखों यत्रियों को इससे सफर करना पड़ता है। उनकी यात्रा सुखद हो इसके लिए वे भरसक कोशिश करना चाहते हैं। प्रति वर्ष रेल दुर्घनाओं में करीब 3 हजार यात्रियों की जान जाती है। इसे रोकने के लिए रेल प्रशासन को चुस्त बनाने के लिए वे काम करना चाहते हैं। यातायात की समस्या को हल करने के लिए उनका इरादा अंजता सिनेमा के पास भूमिगत पार्किंग सुविधा स्थापित करना है। यह कुछ चुनिंदा कार्यक्रम हैं। समय के अनुसार अन्य कई कार्यक्रम भी हाथ में लिए जाएंगे।

पिछले 22 वर्षों से वे सामाजिक व राजनीतिक क्षेत्र में निरंतर कार्यरत है। नागरिकों के सुख-दुख में वे हमेशा आत्मीयता से शामिल होते रहे हैं। वे लोगों के लिए सहजता से उपलब्ध होते हैं। प्रति दिन बिना नागा वे बोरिवली के अपने कार्यालय में सुबह साढ़े आठ से उपलब्ध होते हैं और इसलिए हजारों बंधु-भगिनी उनसे आसानी से मिल सकते हैं और अपनी समस्याएं पेश कर सकते हैं। लोगों से सहजता से मिलना उनकी खासियत है और उनकी लोकप्रियता का कारण भी।

 

आपकी प्रतिक्रिया...