कचरे से कंचन बन रहा मछदी गांव।

प्रधानमंत्री मोदी ने 29 सितंबर को की मन की बात में सुखेत मॉडल की चर्चा – बिहार के मधुबनी जिले की सुखेत पंचायत का मछदी गांव व पंचायत स्थित कृषि विज्ञान केंद्र देश भर में सुर्खियों में आ गया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने 29 सितंबर को मन की बात कार्यक्रम में इस गांव की चर्चा की है। दरअसल इस गांव में एक सराहनीय पहल की जा रही है। इस गांव में स्थापित कृषि मॉडल के द्वारा एक किसान से प्रति दिन 20 किलो गोबर व कचरा दो माह तक (1200 किलो) लेने पर उस किसान को एक गैस सिलेंडर दिया जा रहा है। इसके दो बड़े फायदे हैं। एक कचरे से गांव को निजात मिल रही है। दूसरा गोबर से गांव को किसानों को वर्मी कंपोस्ट भी मिल जाता है और 1200 किलो गोबर देने पर एक घरेलू गैस सिलेंडर भी मिल रहा है। मछदी गांव सुखेत पंचायत में है, इसलिए इसे सुखेत मॉडल नाम दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 अगस्त को अपने मन की बात में इस मॉडल की चर्चा की। इस गांव में गोबर व कचरे के बदले गैस सिलेंडर देने की शुरुआत चार फरवरी 2021 को हुई थी। डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रमेश चंद्र श्रीवास्तव ने इस यूनिट का उद्घाटन किया था। अभी पंचायत के मछदी गांव के 44 महिला किसान इस योजना से जुड़ी है।
सुखेत मॉडल को अपनाकर गंदगी और प्रदूषण मुक्त हो रहा मछदी गांव :
कृषि विज्ञान केंद्र सुखेत से संबद्ध इस यूनिट के शुरू हो जाने से गांव में गंदगी व प्रदूषण कम हो रहा है। कचरे से कंचन योजना की शुरुआत के लिए मछदी गांव को चिन्हित कर तीन कट्टा जमीन को किसान से लीज पर लिया गया। उसके बाद यहां के किसानों को प्रेरित कर गोबर इस यूनिट को देने को कहा गया। शुरुआत में कुछ कम किसान ही इस यूनिट से जुड़े। वर्तमान में 44 किसान इस योजना से जुड़े हैं। सभी को 60 दिन तक केवल 20 किलो गोबर व कचरा देना होता है। इसके बदले में इन्हें 60 दिन के बाद गैस सिलेंडर दी गई है। 12 सौ किलो पूरा होने के बाद सिलेंडर उपलब्ध करा दिया जाता है।
अब मछदी गांव में नहीं रहता है कचरा :
रेखा देवी, रानी देवी, लालू देवी, मुन्नी देवी, ललिता देवी, सिंदुर देवी आदि ने कहा कि इस योजना की शुरुआत से पहले गांव की स्थिति कचरे व गोबर से पटा रहता था। पहले गोबर को सड़कों पर ही फेंक दिया जाता है। कचरे का अंबार इस गांव में लगा रहता था। लेकिन, इस योजना की शुरुआत के बाद अब गांव की सड़कों पर अब कचरा नहीं रहता है और न ही गोबर का ढेर दिखता है।
एक सौ किसानों को जोड़ने का लक्ष्य :
सुखेत मॉडल पर दो यूनिट लगाये गये हैं। इसमें 14-14 पक्का वर्मी बेड लगाया गया है, जिससे गोबर व कचरा को दिलाकर वर्मी कंपोस्ट बनाया जाता है। इसकी कीमत एक क्विंटल की 600 होती है। कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय शोधकर्ता आशुतोष यादव ने कहा कि 100 किसान को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। अभी 44 महिला किसानों को इसमें जोड़ा गया है। कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक इसे देखते रहते हैं। योजना की सफलता के बाद डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय इसकी शुरुआत पटना के मोकामा और सुपौल में करने जा रहा है। मोकामा प्रखंड के औटा गांव में इस तकनीक को आगे बढ़ाने के लिए मोकामा घाट ट्रस्ट को जिम्मेदारी दी गई है। वहां पांच दर्जन से अधिक परिवार जुड़ गए हैं।

आपकी प्रतिक्रिया...