वैचारिक पुनर्जागरण

वामपंथी साहित्यिक पत्रिका हंस के सालाना आयोजन में आमंत्रण पत्र पर विचारक गोविन्दाचार्य, नक्सल समर्थक नेता वरवरा राव और अरूंधती राय का नाम छप चुका था। बावजूद इसके गोविन्दाचार्य के साथ वरवरा राव और अरूंधती राय ने मंच साझा करने से इंकार कर दिया। जबकि राय को हुर्रियत के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के साथ मंच साझा करने में कोई आपत्ति नहीं थी।

इस साल जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल जनवरी की जगह मार्च 05 से 14 तक चला। यह कोविड 19 का प्रभाव था कि आयोजन को सीमित वक्ताओं और श्रोताओं के बीच करना पड़ा। इस बार डिग्गी पैलेस की तरह यहां निशुल्क प्रवेश की व्यवस्था नहीं थी। ना ही डिग्गी की तरह लंबी कतारें थी। ऐसा लग रहा था कि कोविड ने जेएलएफ को भी अनुशासित कर दिया हो।

05 मार्च से 09 मार्च तक जेएलएफ ऑनलाइन चला और फिर 10 मार्च से 14 मार्च तक ऑन ग्राउंड। ऑन ग्राउंड जेएलएफ में चार समानांतर सत्र थे। फ्रांट लान, दरबार हॉल, मुगल टेन्ट और बैठक। इस पूरे आयोजन को लेकर समाज की राय यही है कि इसे लेफ्ट इको सिस्टम के कुछ प्रोफेशनल्स नमिता गोखले (63), विलियम डेलरिम्पल (54) और संजॉय राय (57) द्वारा प्रारंभ किया गया है। जिसका बैनर टीमवर्क आर्ट्स का है। पूरी दुनिया में लिटरेचर फेस्टिवल को लेकर कोई अध्ययन होगा तो अब जेएलएफ ने अपनी वह जगह बना ली है, जिसके जिक्र के बिना बात पूरी नहीं मानी जाएगी।

इस देश में दशकों से  नैरेटिव पर एक खास विचारधारा का प्रभाव रहा है। उन्होंने जिस किताब को चाहा बेस्ट सेलर बना दिया और जिस लेखक को चाहा कालजयी बना दिया। जिस लेखक को चाहा हासिए पर डाल दिया। यहां तक की सरकारी अकादमियों से लेकर पुरस्कारों चयन समितियों तक में इसी इको सिस्टम के लोग भरे गए। विचारधारा चाहे समाजवादी हो, गांधीवादी हो, नेहरूवादी हो, मैकालेवादी हो, अम्बेडकरवादी हो, चर्चवादी हो या मदरसावादी हो। सभी अपने लिए प्राणवायु एक ही इको सिस्टम से पाते थे। वामपंथी बरगद अपने नीचे सभी को छांव दे रहा था। जब तक यह सब चला, सब ठीक था।

पिछले आठ-दस सालों से एक नई विचारधारा सिर उठा रही है। इस विचारधारा ने वामपंथी बरगद की जड़े हिला दी हैं। वामपंथ के सामने अचानक से खड़ी हुई यह विचारधारा किसी नव क्रांति की तरह है। ऐसा नहीं है कि इस विचार का जन्म पिछले आठ सालों में हुआ है। यह सच है कि इस विचार को प्यार, प्रसार और बाजार का आधार  पिछले आठ-दस सालों में मिला है। इससे पहले स्थापित नैरेटिव से अलग जाने का मतलब होता था, अंधे कुंए में जाना। प्रकाशन संस्थान, फिल्म, मीडिया और विश्वविद्यालयों तक में वामपंथी बरगद ने अपने गेट कीपर लगा रखे थे। जिसे पार करके कोई अंदर दाखिल नहीं हो सकता था। यह एक अलग ही किस्म का अंडरवर्ल्ड था।

अब विक्रम संपत, साई दीपक, अभिनव प्रकाश, गुरू प्रकाश, मोनिका अरोरा, राजीव तुली, कपिल कुमार, कपिल मिश्रा, अनंत विजय, शंकर शरण, आनंद रंगनाथन, अनुज धर, मकरंद परांजपे, नुपूर जे शर्मा जैसे अनगिनत नाम उस विशाल वामपंथी बरगद के बरक्स खड़े नजर आ रहे हैं। जिससे पहले की तरह पूरे विचार की उपेक्षा कर पाना विचारधारा के लिए कठीन हो रहा है। वर्ना वामपंथी असहिष्णुता का आलम यह था कि दिवंगत साहित्यकार मंगलेश डबराल, राज्य सभा सांसद राकेश सिन्हा के मंच पर जाते हैं। वहां भाषण देकर आते हैं और बाद में जब इको सिस्टम उन्हें घेरता है तो सफाई में कहते हैं कि उन्हें नहीं पता कि यह राकेश सिन्हा कौन हैं?

असहिष्णुता का आलम यह था कि साहित्यकार उदय प्रकाश गोरखपुर में योगी आदित्यनाथ के हाथों सम्मानित होते हैं। जब इको सिस्टम विरोध करता है तो सफाई देते हैं कि उनका पारिवारिक आयोजन था। इसलिए उन्हें योगीजी के हाथों से सम्मान लेना पड़ा।

असहिष्णुता का आलम यह था कि वामपंथी साहित्यिक पत्रिका हंस के सालाना आयोजन में आमंत्रण पत्र पर विचारक गोविन्दाचार्य, नक्सल समर्थक नेता वरवर राव और अरूंधती राय का नाम छप चुका था। बावजूद इसके गोविन्दाचार्य के साथ वरवर राव और अरूंधती राय ने मंच साझा करने से इंकार कर दिया। जबकि राय को हुर्रियत के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के साथ मंच साझा करने में कोई आपत्ति नहीं थी लेकिन गोविन्दाचार्य के साथ थी। इस नफरत को क्या नाम देना चाहिए? बोल की लब आजाद हैं तेरे? इसीलिए कश्मीर फाइल्स जैसी फिल्में जरूरी हैं। जो असहिष्णुता के उस सच पर से पर्दा हटा पाए, जिसे दशकों से खानकाहों, रिबतों (इस्लामिक मठ) में दफन करके रखा गया है।

विशाल वामपंथी बरगद के बरक्स नैरेटिव का एक छोटा सा पेड़ अब खड़ा हो रहा है। इस विचार को सुनने के लिए लोग तैयार हैं। इस साल मकरंद परांजपे, गुरु प्रकाश, उदय माहूरकर को जिस तरह लोग मंच से सुनना चाह रहे थे, जितनी तालियां बजी इनकी उपस्थिति पर। उससे इतना तो तय है कि देश की बहुसंख्य आबादी इस विचार को जानना चाहती है। इसे सुनना चाहती है। सवाल यह है कि इस विचार को क्या नाम दिया जाना चाहिए? जैसाकि वामपंथी बरगद की नैरेटिव आईटी सेल ने ऐसे सभी लोगों को संघी कहना प्रारंभ कर दिया जो उनसे सहमत नहीं है। लेकिन क्या ऐसे सभी लोगों को संघी कहना उचित होगा जो वामपंथी नैरेटिव के समानान्तर एक अलग नैरेटिव के साथ बात कर रहे हैं। ऐसे विचारकों को संघी या राष्ट्रवादी कहना उनके बिछाए जाल में फंसने जैसा है।

वामपंथियों से अलग राय रखने वाले किसी भी विचारक को संघी कहना इसलिए सही नहीं होगा क्योंकि आरएसएस एक सामाजिक-राजनीतिक संगठन है। संगठन के नाते उसका अपना एक अनुशासन है। संगठन की नियमित शाखाएं लगती हैं। यदि कोई लेखक शाखा नहीं आ रहा और संगठन के अनुशासन की पालना नहीं कर रहा फिर उसे संघी कैसे कहा जा सकता है?

राष्ट्रवादी विचार को लेकर इन पंक्तियों के लेखक का मत है कि देश में किसी भी विचारधारा का व्यक्ति हो उसे राष्ट्रवादी होना ही चाहिए। यदि आप एक खास विचारधारा के व्यक्ति को राष्ट्रवादी कहेंगे और इस शब्द का प्रयोग विनोद के लिए करेंगे तो समाज में एंटी नेशनल का नैरेटिव तो स्थापित होगा ही। पूरे देश को राष्ट्रवाद का सम्मान करना चाहिए। आपकी विचारधारा कोई भी हो लेकिर आप पहले राष्ट्रवादी बनिए। एक समय कांग्रेस खुद को राष्ट्रवादी नेताओं का राजनीतिक संगठन ही मानती थी। फिर पूरी पार्टी वामपंथियों के प्रभाव में आकर राष्ट्रवाद से दूर होती चली गई।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राष्ट्रीय सह सरकार्यवाह मनमोहन वैद्य के अनुसार – ”ना ‘राष्ट्रवाद’ शब्द भारतीय है और ना ही उसकी अवधारणा भारतीयता को जताता है।  आज देश जिस पायदान पर खड़ा है, आज जिस तरीके से भारत की शान विदेशों में बढ़ी है, आज हर क्षेत्र में देश तरक्की कर रहा है, इसके पीछे राष्ट्रीय जागरण है, जिसके लंबे प्रयास के परिणामस्वरूप देश मे मूलभूत परिवर्तन आया है। वामपंथी विचारों के लोगों ने इसे ‘राष्ट्रवादी’ कहना शुरू किया है. वास्तव में यह ‘ राष्ट्रीय’ आंदोलन है ‘राष्ट्रवादी’ नहीं।”

अब सवाल फिर वहीं आकर ठहर जाता है कि दूसरी तरफ सूचि लंबी होती जा रही है। यह जो विचारकों की लंबी श्रृंखला खड़ी है सामने। जो विचारधारा का नया मठ तैयार करने को तैयार है। इस वैचारिक पुनर्जागरण को नाम क्या दें? इस पर पूरे विचार परिवार में बहस की बहुत जरूरत है।

आपकी प्रतिक्रिया...