राज ठाकरे के हिंदुत्व प्रहार को कैसे रोकेगी अघाड़ी सरकार!

महाराष्ट्र में राज ठाकरे बनाम अघाड़ी सरकार का युद्ध पूरी तरह से छिड़ चुका है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने मंगलवार को एक और सभा कर अघाड़ी सरकार पर फिर से हमला बोला और ‘बीजेपी की चिट्ठी’ जैसे बयान पर सफाई दी। राज ठाकरे की रैली का मकसद सिर्फ यह बताना था कि वह बीजेपी की लाइन पर नहीं चल रहे हैं बल्कि हिंदुत्व के मुद्दे पर है जो पहले से लेकर चले आ रहे हैं। राज ठाकरे ने अपनी रैली के दौरान कुछ पुराने विडियो को भी चला कर दिखाया कि वह सन 2018 से मस्जिद पर लगने वाले लाउडस्पीकर को हटाने की मांग कर रहे हैं।

महाराष्ट्र में सरकार बदली लेकिन अजान के लाउडस्पीकर से अभी भी लोगों को सुबह जगना पड़ता है। राज ठाकरे ने सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का भी जिक्र किया और कहा कि वह किसी धर्म के खिलाफ नहीं है लेकिन आप की पूजा पद्धति से किसी को परेशानी नहीं होनी चाहिए जबकि अजान की वजह से दिन में 5 बार लोगों को परेशान किया जाता है। अगर आप को नमाज पढ़ना है तो घर या मस्जिद में पढ़ सकते हैं लेकिन उसे स्पीकर लगा कर दुनिया को सुनाने की क्या जरूरत है।

इस बार भी राज ठाकरे के भाषण में कोई नरमी नहीं थी और उन्होंने एक बार फिर से उद्धव सरकार पर हमला बोला। मनसे की तरफ से सरकार को  3 मई तक का समय मस्जिद से लाउडस्पीकर निकालने के लिए दिया गया है उसके बाद महाराष्ट्र के साथ साथ पूरे देश में मस्जिद के पास हनुमान चालीसा बजाने की धमकी दी गयी है। राज ठाकरे ने अपने भाषण में यह भी कहा कि जो सच्चा मुसलमान होगा उसे मेरे बयान से परेशानी नहीं होनी चाहिए जबकि मुस्लिम समाज के कुछ अराजक तत्व इसे बढ़ा चढ़ाकर पेश करेंगे और लोगों को भड़काने का काम करेंगे। राज ठाकरे ने कहा कि ऐसा कौन सा धर्म है जो दूसरे लोगों को परेशान करता है, उन्होंने गणपति और नवरात्रि का उदाहरण देते हुए कहा कि यह एक सप्ताह तक चलने वाले त्यौहार होते है इसमें भी प्रशासन की तरफ से तमाम गाइडलाइन को मानना पड़ता है जबकि अजान का लाउडस्पीकर दिन में 5 बार बजता है और उस पर प्रशासन का कोई रोक टोक नहीं होता है।

राज ठाकरे ने अपनी सभा में पीएम मोदी से कॉमन सिविल कोड और जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू करने की भी मांग की, हालांकि इस मुद्दे पर बीजेपी पहले से बात कर रही है ऐसे में राज ठाकरे द्वारा इस मुद्दे को हवा देना एक बार फिर सभी को यह सोचने पर मजबूर करता है कि मनसे बीजेपी के बताए रास्ते पर चल रही है। राज ठाकरे एक ऐसे व्यक्ति है जो कुछ भी बोलने और करने की ताकत रखते हैं शायद इसलिए ही अजान जैसे विवादित मुद्दों पर खुल कर बात कर रहे हैं। राजनीतिक दृष्टि से मनसे उतनी मजबूत नहीं है लेकिन फिर भी अपने समर्थकों के बल पर वह किसी काम को करने का दम रखती है इससे पहले भी मनसे ने कई कामों को पूरा किया है हालांकि मनसे का काम करने का तरीका थोड़ा हिंसक होता है शायद इसलिए ही राज ठाकरे ने कहा कि हम राज्य में हिंसा नहीं चाहते हैं लेकिन 3 मई तक लाउडस्पीकर नहीं उतरे तो मनसे अपने स्टाइल में काम करेगी।

महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ हमला बोलने वाले राज ठाकरे पर आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। दरअसल ठाणे सभा के दौरान मंच से राज ठाकरे ने तलवार दिखाई थी जिस पर आर्म्स एक्ट के तहत पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। सभा का यह विडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें राज ठाकरे मंच से तलवार लहराते हुए नजर आ रहे हैं। सभा के तुरंत बाद राज ठाकरे पर केस दर्ज कर क्या महाराष्ट्र सरकार उन्हें डराना चाहती है? हालांकि राज ठाकरे ने सभा के दौरान यह साफ कर दिया है कि वह इस मुद्दे के पीछे हटने वाले नहीं है और महाराष्ट्र सरकार को हर हाल में लाउडस्पीकर को उतारना होगा।

आपकी प्रतिक्रिया...