हिंदी विवेक : we work for better world...

***प्रकाश नरके ****

एन. वी. इलेक्ट्रोटेक्नीका प्रा.लि.संस्था के मैनेजिंग
डायरेक्टर की जिम्मेदारी प्रकाश नारके अत्यंत कुशलता से संभाल रहे हैं। विगत ३५ वर्षों से वे इस संस्था के माध्यम से विद्युत उद्योग के क्षेत्र में अपना योगदान दे रहे हैं। बिजली आपूर्ति करने के लिए आवश्यक सेवा वे निजी एवं सरकारी प्रकल्पों को दे रहे हैं। वैसे ही अपने कार्यक्षेत्र में उद्योग प्रारंभ करने की इच्छा रखनेवाले अनेक युवाओं को प्रकाश नारके अपना बहुमूल्य योगदान दे रहे हैं। उनके सहयोग से विद्युत उद्योग क्षेत्र में अपना उद्योग स्थिर करनेवाले अमित टेकचंदानी एक ऊर्जावान युवा हैं।
गत ३५ वर्षों से अपनी संस्था के माध्यम से ऊर्जा के क्षेत्र में अपना योगदान देने वाले प्रकाश नारके स्वतः उच्च शिक्षितइंजीनियर हैं। विद्युत क्षेत्र में उनका स्पेशलाइजेशन है। जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड भारत में विद्युत क्षेत्र में एक बड़ी कंपनी थी। विद्युत मांग की सभी आवश्यकताओं का उत्पादन करनेवाली यह संस्था अब रनायडर इलेक्ट्रीक इन्फ्रास्ट्रक्चर के नाम से जानी जाती है। प्रकाश नारके जी कहते हैं, ‘‘हम इस संस्था के एसोसिएट्स हैं। हम उनके चैनल पार्टनर हैं।’’
प्रकाश नारके जीईसी में रिजनल हेड़ मैनेजर के रुप में नौकरी करते थे। नौकरी से एक बड़े उद्योग के मालिक के रूप में प्रकाश नारके जी की यात्रा रही है। पूरी जिद से यश प्राप्त कर आज विद्युत के क्षेत्र में यशस्वी एवं अनुभवी संस्था के रूप में उनका परिचय है।
गत ६८ वर्षों में भारत पूर्ण रुप से प्रकाशमान नहीं हुआ यह शोकांतिका है। यह मत व्यक्त करते हुए प्रकाशजी कहते हैं कि आज भी महाराष्ट्र सहित अन्य राज्यों के गांवों में अंधेरे का ही साम्राज्य दिखाई देता है।
आज सर्व दूर यही दिखाई देता है कि ऊर्जा न होने के कारण विकास नहीं हो रहा है। इसके पूर्व इसका नियोजन ही ठीक ढंग से नहीं हुआ कि सामान्य व्यक्ति अपने जीवन में बिजली का पर्याप्त उपयोग कर सके। उसका ही यह परिणाम है। बिजली की मांग व आपूर्ति में बड़ा अंतर है। १४-१५ साल पूर्व विद्युत उत्पादन में अग्रसर रहने वाला महाराष्ट्र पिछले कुछ वर्षों में दयनीय अवस्था में आ गया है। इससे राजनीतिक व प्रशासकीय इच्छाशक्ति का अभाव परिलक्षित होता है।
अमित टेकचंदानी से व्यावसायिक रूप से हमारे सम्बंध हैं। व्यवसाय के निमित्त जुड़ने वाली हमारी संस्था है। अमित अत्यंत ‘‘विजनरी’’ व्यक्तित्व है। अमित एक युवा होने के बावजूद भी उसने सिध्द कर दिया है कि उम्र एवं ‘वीजन’ का कोई सम्बंध नहीं है। सतत सीखने की इच्छा, नवीनता की लगन, व्यवसाय में आने वाले अनुभवों से सीखने की तैयारी यही उनके यश का रहस्य है।
अपने कर्मचारी वर्ग की ओर भी अमित का दृष्टिकोण सकारात्मक है। कर्मचारी वर्ग का मनोबल बढ़ाने के लिए उन्होंने योग के वर्ग प्रारंभ किए। प्रबंधन कौशल बढ़े इसलिए उसका प्रशिक्षण लिया। केवल उद्योग-उद्योग शाब्दिक रूप से न कहते हुए उद्योग के लिए आवश्यक टीम तैयार की। जो अच्छा है उसे स्वयं में एवं संस्था में ढ़ूंढ़ने का गुण अमित में है। इसलिए उसके चारों ओर अच्छे लोगों का समूह है। यही उसके यश की कहानी भी है।
अमित की संस्था लीना पावरटेक इंजिनियर प्रा.लि. और मैंने पावर सेक्टर में अनेक प्रकल्पों पर काम किया है। एम.एस.ई.बी. में क्वालिटी एवं परिणामकारक कार्य करना कैसे संभव है यह अमित से मैंने सीखा। नवी मुंबई एवं कल्याण में एम.एस.ई.बी. के बड़े बड़े काम अमित ने किए हैं। काम के समय आनेवाली अड़चनों पर कैसे मात की जाती है यह अमित से सीखने लायक है। यह उनका कौशल है। कुछ हाई वोल्टेज पैनल रेल्वे लाइन के पास के गोडाउन में लगा कर रखे थे। उनमें अचानक आग लग गई। उस आग में ये अत्यंत महत्व के पैनल जल कर राख हो गए। ऐसे समय पुनः नए पैनल तैयार करने हेतु अमित की संस्था ने संपर्क किया। कोलकाता, बड़ौदा इत्यादि जगहों पर संपर्क कर ये हाई वोल्टेज पैनल पुनः तैयार कर लिए। यह सारा काम निश्चित समय में पूरा कर के दिया गया। इसके कारण इस क्षेत्र में अमित का नाम समयबद्ध काम करनेवाले व दिया हुआ वचन पूरा करने वाले में हो गया है।

प्रधानमंत्री ने २०२२ तक प्रत्येक घर में बिजली पहुंचाने का जो संकल्प किया है वह सौ प्रतिशत पूरा हो सकता है। मोदीजी के काम करने का ढंग सबसे निराला है। उनको सबका साथ मिलना महत्व का है और योजनापूर्वक अनुशासन के साथ काम करना आवश्यक है। विविध राज्यों के बिजली बोर्डों के अधिकारियों को विश्वास में लेकर यह पूर्ण किया जा सकता है। नरेन्द्र मोदी ने देश को ऊर्जावान बनाने का जो संकल्प किया है उसको पूरा करने के लिए अमित टेकचंदानी सरीखे युवकों को अपनी काबिलियत दिखाने का मौका मोदी सरकार को देना चाहिए। मोदी का आवाहन एक आंदोलन बनना चाहिए। उसमें देश के तरूणों को सहभागी होना चाहिए। प्रकाशमान भारत यह मोदी के साथ पूरे देश का स्वप्न होना चाहिए।
अमित टेकचंदानी विजनरी युवक है। भविष्य में मिलनेवाले मौके एवं अमित का कौशल इस आधार पर वह अपनी संस्था बहुत आगे लेकर जाएगा। इस परिवर्तन की प्रक्रिया में अमित जैसे युवकों को मौका मिलना महत्व का है।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu