अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था ने मनाया स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव

Continue Readingअपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था ने मनाया स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव

पुणे. वानवडी स्थित अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था व संशोधन केंद्र में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ ध्वजारोहण कर ७५ वां स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव मनाया गया. इस दौरान संस्था के सेवानिवृत्त कर्मचारियों सहित कोरोना योद्धाओं का सम्मान किया गया. प्रमुख अतिथि के रूप में सेवा सहयोग फाउन्डेशन के अध्यक्ष व…

अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था के शत प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण

Continue Readingअपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था के शत प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण

अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था व सशोधन केंद्र के सभी विद्यार्थी दसवी की परीक्षा में शत प्रतिशत उत्तीर्ण हुए है. जिससे दिव्यांग विद्यार्थियों का नाम तो रोशन हो ही रहा है, साथ ही संस्था का भी नाम रोशन हो रहा है|

गोवंश रक्षा से होगा शुद्ध पौष्टिक दुग्ध उत्पादन

Continue Readingगोवंश रक्षा से होगा शुद्ध पौष्टिक दुग्ध उत्पादन

देशी गाय का मिलावट रहित शुद्ध सात्विक पौष्टिक दूध हमारे बच्चों का अधिकार है और वह उन्हें किसी भी हाल में मिलना ही चाहिए। यह सरकार का भी परम दायित्व है कि वह शुद्ध दूध प्रत्येक भारतवासी को उपलब्ध कराये। स्वस्थ भारतवासी के आधार पर ही देश शक्तिशाली होगा और यह सर्वविदित है कि शक्तिशाली देश ही दुनिया में आर्थिक महाशक्ति बनने की योग्यता रखता है।

नेतृत्व निर्माण करनेवाले नेता -राम भाऊ म्हालगी

Continue Readingनेतृत्व निर्माण करनेवाले नेता -राम भाऊ म्हालगी

दिनांक 19 अक्टूबर को 'रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी' की स्थापना की गई। प्राचीन गुरुकुल के समान प्रकृति के सान्निध्य में भाईंदर-उत्तन में स्थापित इस प्रबोधिनी में अब विविध प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। नेतृत्व प्रशिक्षण के लिए तो वहां विशेष  पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रम है।रामभाऊ की जन्म शताब्दी निकट ही है। उनका कार्य भी लगातार चल रहा है। नेतृत्व निर्माण करने वाला ऐसा नेता बिरला ही मिलेगा!

तुलादान ने बढ़ाया मुख्यमंत्री का मान

Continue Readingतुलादान ने बढ़ाया मुख्यमंत्री का मान

समस्त महाजन संस्था के मैनेजिंग ट्रस्टी एवं भारतीय जीवजंतु कल्याण बोर्ड के सदस्य गिरीश भाई शाह ने बताया कि तुलादान को प्रोत्साहित करने के लिए समस्त महाजन संस्था ऐसे कार्यक्रम नित्य करती रही है। ऐसा देखा गया है कि जिन्होंने भी तुलादान में हिस्सा लिया है ऐसे दानवीरों की कीर्ति चारों दिशाओं में फैली है और उनकी यश पताका सदैव फहराती रही है। उनमें से एक,अपने यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी हैं, जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने भी तुलादान किया था और उन्ही के पदचिन्हों पर चलते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने भी तुलादान कर गोवंश एवं पशुधन संरक्षण के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

सेवा भारती ने दिल्ली में खड़ी की आइसोलेशन सेंटरों की श्रृंखला

Continue Readingसेवा भारती ने दिल्ली में खड़ी की आइसोलेशन सेंटरों की श्रृंखला

संकट के समय में समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी के निर्वहन के लिए लोग किस तरह तन-मन-धन से लगे हुए हैं, इसे इन आइसोलेशन सेंटर में प्रत्यक्ष रूप से देखा जा सकता है। सेवा भारती के सभी आइसोलेशन सेंटर में डॉक्टर्स जहां नि:शुल्क अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। वहीं स्थानीय समाज व संस्थाओं के सहयोग से मरीजों के लिए भोजन, दवाएं तथा अन्य आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। कई आइसोलेशन सेंटर से हर दिन कोरोना को मात देकर अपने घर लौट रहे लोगों को देखकर सेवाभावी कार्यकर्ताओं का उत्साह और बढ़ रहा है।

एच. जे. दोशी हॉस्पिटल का कोरोना काल में योगदान

Continue Readingएच. जे. दोशी हॉस्पिटल का कोरोना काल में योगदान

मेडिकल डायरेक्टर डॉ. वैभव देवगिरकर के संग अधिकतर ऐसे कर्मचारी थे जो घड़ी की ओर देखते ही नहीं थे ताकि आपदा की यह घड़ी टल जाये। अपने निर्धारित कार्य को करते हुए भी स्टाफ को जो भी कार्य दिया गया या कहा गया उन्होंने उसे पुरे मनोयोग से पूरा किया।

सेवागाथा – नन्हें बच्चो का गूंजता – किल्लोल (आनंद)

Continue Readingसेवागाथा – नन्हें बच्चो का गूंजता – किल्लोल (आनंद)

अपने मन की मिट्टी को इतना उपजाऊ बनाओ, कि दुख की एक- एक बूंद अंकुरित होकर, छायादार, फलदार वृक्ष बनकर संपूर्ण राष्ट्र के काम आए। इसी दृढ़ निश्चय और पुनीत भाव का परिणाम है, “श्री पुजित रुपाणी मेमोरियल ट्रस्ट" राजकोट।कभी विद्यार्थी परिषद के प्रांत संगठन मंत्री रहे, आज गुजरात के मुख्यमंत्री श्रीमान विजय रुपाणी और उनकी पत्नी श्रीमती अंजलि जी द्वारा यह ट्रस्ट, उनके दिवंगत पुत्र पुजित की स्मृति में स्थापित किया गया था।

सावित्रीबाई फुलेः स्त्री शिक्षा की अग्रणी प्रणेता

Continue Readingसावित्रीबाई फुलेः स्त्री शिक्षा की अग्रणी प्रणेता

दुनिया में लगातार विकसित और मुखर हो रही नारीवादी सोच की ऐसी ठोस बुनियाद सावित्री बाई और उनके पति ज्योतिबा ने मिल कर डाली, जिसने भारत में महिला शिक्षा एवं सशक्तिकरण की नींव रखी।

केवल बछिया पैदा करने की जादुई तरकीब रक्षक या भक्षक?

Continue Readingकेवल बछिया पैदा करने की जादुई तरकीब रक्षक या भक्षक?

एक तरफ देश के कई राज्यों में गोवंश की हत्या को लेकर बड़े कानून बनाए जा रहे हैं, लेकिन दूसरी तरफ देश में नर गोवंश पर  अपराध बढ़ता ही जा रहा है क्योंकि मशीनीकरण की वजह से बैलों का प्रयोग करीब-करीब खत्म हो गया। लेकिन प्राकृतिक या ऑर्गेनिक खेती के बढ़ते प्रचलन से बैलों के प्रयोग की एक नई आशा जागी है।

भारत की अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी!

Continue Readingभारत की अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी!

भारत एक कृषि प्रधान देश! भारत एक कृषि प्रधान देश माना जाता है लेकिन अब यहां भी ऐसे हालात हो गये है कि अगर देश की जीडीपी गिरती है तो बेरोज़गारी भी तेजी से पैर पसारने लगती है। कोरोना वायरस महामारी के दौरान देश में महीनों तक पूर्ण रूप से…

शिक्षा का भविष्य और भविष्य की शिक्षा

Continue Readingशिक्षा का भविष्य और भविष्य की शिक्षा

नई शिक्षा नीति का उद्देश्य ज्ञान आधारित जीवंत समाज का विकास रखा गया है जिसे प्राप्त करने के लिए विद्यालयों, महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों को पर्याप्त लचीला बनाया जाएगा। यह भारतीय शिक्षा पद्धति को राष्ट्रीय सांस्कृतिक चेतना के अनुरूप संपूर्ण शिक्षा व्यवस्था को लोकतांत्रिक बनाने के प्रयास की अभिव्यक्ति है।

End of content

No more pages to load