भारतीय राजनीति में नरेंद्र “मोदी” होने के मायने

Continue Readingभारतीय राजनीति में नरेंद्र “मोदी” होने के मायने

भारत 'नवनिर्माण' की अमृत बेला से गुजर रहा है। 'अंत्योदय' के दर्शन में विकास को ढाल कर 'राष्ट्रोदय' की स्वर्णिम संकल्पना को साकार करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस युगांतरकारी 'नव निर्माण' के वास्तुकार हैं। वंचितों, शोषितों, उपेक्षितों, उपहासितों, किसानों और महिलाओं के सर्वांगीण उत्थान को समर्पित यह  'निर्माण प्रक्रिया' भारत…

चुनौतियों से भरा जीवन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी जन्मदिन की शुभकामनाएं

Continue Readingचुनौतियों से भरा जीवन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जीवन बहुत ही संघर्षों के बीच गुजरा है और अब भी शायद कुछ ऐसा ही बीत रहा है हालांकि उन्होने जो मुकाम हासिल किया है वह आम लोगों के बस की बात नहीं है उसके लिए एक विशेष संघर्ष की ही जरूरत होती है। बेहद साधारण परिवार से…

भारत में हिन्दू-मुस्लिम के पूर्वज एक – मोहन भागवत

Continue Readingभारत में हिन्दू-मुस्लिम के पूर्वज एक – मोहन भागवत

सरसंघचालक मोहन जी भागवत ने एक बार फिर हिन्दू व मुसलमानों को लेकर बयान दिया और कहा कि हिन्दू और मुसलमानों के पूर्वज एक ही थे और देश का हर नागरिक हिन्दू है। सरसंघचालक के इस बयान के बाद से राजनीति में उबाल आना तो आम बात है क्योंकि कुछ…

विज्ञान और रोजगार में संस्कृत की बड़ी भागीदारी

Continue Readingविज्ञान और रोजगार में संस्कृत की बड़ी भागीदारी

आमतौर से भारत ही नहीं दुनिया में अंग्रेजी को विज्ञानऔर रोजगार की भाषा माना जाता है। किंतु अब यहमिथक व्यापक स्तर पर टूटता दिख रहा है। नई शिक्षानीति का यदि निष्पक्षता और ईमानदारी से पालन होता हैतो वह दिन दूर नहीं जब हम संस्कृत समेत अन्यभारतीय भाषाओं को पूर्ण रूप…

अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था ने मनाया स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव

Continue Readingअपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था ने मनाया स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव

पुणे. वानवडी स्थित अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था व संशोधन केंद्र में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ ध्वजारोहण कर ७५ वां स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव मनाया गया. इस दौरान संस्था के सेवानिवृत्त कर्मचारियों सहित कोरोना योद्धाओं का सम्मान किया गया. प्रमुख अतिथि के रूप में सेवा सहयोग फाउन्डेशन के अध्यक्ष व…

बहन बेटियों की रक्षा का कवच बनना होगा

Continue Readingबहन बेटियों की रक्षा का कवच बनना होगा

आज फिर से जरूरत है उसी देश भक्ति और देश प्रेम की जिसमें आक्रोश था! गुस्सा था! गुलामी की जंजीरों को उखाड़ फेंकने का जज्बा था l हालांकि विद्रोह की आग तो 1857 से भड़कनी शुरू हो गई थी, और तमाम क्रांतिकारियों  ने आजादी के इस यज्ञ में अपने जीवन…

स्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी

Continue Readingस्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी

स्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी जन्म        :-  १९ /१२/1922 स्वर्गारोहण:-  ०१/०८/२०२१ भारत के उत्तर पूर्वांचल के मणिपुर राज्य के इंफाल से ४० कि.मी.दूर थोबाल जिलेके काकचिंग गाव में वनवासी कल्याण आश्रम का बालक छात्रावास है।जिसमें मरींग नागा जनजाति के अधिकांश बालक रहते हैं।सन १९८९ क दिसंबर माह था।जबरदस्त ठंड रहती…

संकल्पशक्ति से होगा अखंड भारत का निर्माण

Continue Readingसंकल्पशक्ति से होगा अखंड भारत का निर्माण

जो राष्ट्र अपनी सीमाओं का विस्तार नहीं करता वह धीरे-धीरे सिमटता चला जाता है और अपने पतन को प्राप्त होता है. भारत के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ इसलिए आज हम सिमट कर रह गए है. ऐसे समय में अखंड भारत की संकल्पना ही वह एकमात्र उर्जा शक्ति है…

14 अगस्त विशेष : भारत विभाजन की त्रासदी

Continue Reading14 अगस्त विशेष : भारत विभाजन की त्रासदी

कहते हैं आगे बढ़ने के प्रयासों के दौरान पड़ने वाले आराम दायक पड़ावों को मंजिल मान लिया जाए, तो फिर प्रगति के रास्ते अवरुद्ध हो जाते हैं। यही बात भारत की खंड-खंड आजादी को संपूर्ण आजादी मान लिए जाने पर लागू होती है। दुर्भाग्य की बात तो यह है कि…

राष्ट्रनिर्माण का उत्तरदायित्व

Continue Readingराष्ट्रनिर्माण का उत्तरदायित्व

स्वतंत्रता का 75 वां वर्ष किसी देश के लिए महोत्सव का अवसर होने के साथ आत्मनिरीक्षण का भी समय होता है। यह इसलिए आवश्यक है, क्योंकि दासता से मुक्ति संघर्ष हमें सही दिशा में काम करने के लिए अभिप्रेरित करेगा। भारत राष्ट्र के संदर्भ में सबसे महत्वपूर्ण बिंदु यह ध्यान…

महिला सशक्तिकरण पर टिका देश का भविष्य

Continue Readingमहिला सशक्तिकरण पर टिका देश का भविष्य

जब हमारा देश आजाद हो चुका है, तो नारी आजाद क्यों नहीं है, ? यह सवाल मेरी अंतरात्मा को बहुत कचोटता है l मजदूर तबके से लेकर शिक्षित परिवारों तक की महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार होती रहती है ।नारी के बढ़ते हुए कदमों को पुरुषों की सत्ता स्वीकार नहीं कर…

सुबह का भूला

Continue Readingसुबह का भूला

आरुषि अभी तक सोफे पर पड़ी सुबक रही थी। आज उसे रह-रह कर रोना आ रहा था। साथ ही उसे पछतावा भी हो रहा था कि उसने अपने पिता समान स्वसुर पर घ्ाूरते रहने का आरोप लगाया था। इतना ही नहीं उसने तो यह भी कहा था कि वे उसके साथ कुछ गलत करना चाहते हैं।

End of content

No more pages to load