भारतीय राजनीति में नरेंद्र “मोदी” होने के मायने

Continue Readingभारतीय राजनीति में नरेंद्र “मोदी” होने के मायने

भारत 'नवनिर्माण' की अमृत बेला से गुजर रहा है। 'अंत्योदय' के दर्शन में विकास को ढाल कर 'राष्ट्रोदय' की स्वर्णिम संकल्पना को साकार करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस युगांतरकारी 'नव निर्माण' के वास्तुकार हैं। वंचितों, शोषितों, उपेक्षितों, उपहासितों, किसानों और महिलाओं के सर्वांगीण उत्थान को समर्पित यह  'निर्माण प्रक्रिया' भारत…

चुनौतियों से भरा जीवन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी जन्मदिन की शुभकामनाएं

Continue Readingचुनौतियों से भरा जीवन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जीवन बहुत ही संघर्षों के बीच गुजरा है और अब भी शायद कुछ ऐसा ही बीत रहा है हालांकि उन्होने जो मुकाम हासिल किया है वह आम लोगों के बस की बात नहीं है उसके लिए एक विशेष संघर्ष की ही जरूरत होती है। बेहद साधारण परिवार से…

किस राजनीतिक दल से किसान आंदोलन को मिल रहा फंड?

Continue Readingकिस राजनीतिक दल से किसान आंदोलन को मिल रहा फंड?

केंद्र सरकार के कृषि बिल के बाद से किसानों को आंदोलन शुरू हुआ और इसे करीब 9 महीने हो चुके हैं लेकिन अभी तक आंदोलन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है जबकि सरकार और किसानों के बीच में 2 दर्जन से अधिक बार बैठक हो चुकी है फिर…

व्यक्ति,परिवार,राष्ट्र निर्माण के आराध्य गणपति

Continue Readingव्यक्ति,परिवार,राष्ट्र निर्माण के आराध्य गणपति

भगवान् गणपति जी के दो स्वरूप हैं । एक आध्यात्मिक जो सूक्ष्म है, अदृश्य है और दूसरा सांसारिक जो स्थूल है और दृश्यमान । हमारे शरीर में कुल पाँच गण हैं, प्रत्येक गण में पांच सूत्र । इस प्रकार ये कुल 25 गणसूत्र कहलाते हैं जिनसे हम काम करते हैं,…

भगवान श्रीगणेश के जन्म का रहस्य

Continue Readingभगवान श्रीगणेश के जन्म का रहस्य

भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान श्रीगणेश सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। भगवान श्री गणेश अग्र पूज्य, गणों के ईश गणपति, स्वस्तिक रूप तथा प्रणव स्वरूप हैं। उनकी पूजा के बगैर कोई भी मंगल कार्य शुरू नहीं होता। इन्हें विघ्न विनाशक और बुद्धि प्रदाता भी कहा जाता है। इसके स्मरण…

महिलाएं क्यों रखती हैं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत?

Continue Readingमहिलाएं क्यों रखती हैं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत?

उत्तर भारत में 'तीज' के नाम से महिलाओं का बहुत ही प्रचलित व्रत होता है हालांकि यह काफी कठिन होता है क्योंकि इस दिन महिलाओं को बिना अन्न व जल के पूरा दिन और रात रहना होता है। सूर्योदय के बाद से अगले सूर्योदय तक व्रत करने वाली महिला अन्न-जल…

भारत में हिन्दू-मुस्लिम के पूर्वज एक – मोहन भागवत

Continue Readingभारत में हिन्दू-मुस्लिम के पूर्वज एक – मोहन भागवत

सरसंघचालक मोहन जी भागवत ने एक बार फिर हिन्दू व मुसलमानों को लेकर बयान दिया और कहा कि हिन्दू और मुसलमानों के पूर्वज एक ही थे और देश का हर नागरिक हिन्दू है। सरसंघचालक के इस बयान के बाद से राजनीति में उबाल आना तो आम बात है क्योंकि कुछ…

मुंशी प्रेमचंद की गाय बनाम राष्ट्रीय पशु

Continue Readingमुंशी प्रेमचंद की गाय बनाम राष्ट्रीय पशु

गौकशी के एक मामले की सुनवाई करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण टिप्पणी की है कि गाय भारत की संस्कृति का अभिन्न अंग है, अतएव इसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए। न्यायालय ने जावेद नामक व्यक्ति की जमानत याचिका खारिज करते हुए यह बात कही। जावेद पर…

विज्ञान और रोजगार में संस्कृत की बड़ी भागीदारी

Continue Readingविज्ञान और रोजगार में संस्कृत की बड़ी भागीदारी

आमतौर से भारत ही नहीं दुनिया में अंग्रेजी को विज्ञानऔर रोजगार की भाषा माना जाता है। किंतु अब यहमिथक व्यापक स्तर पर टूटता दिख रहा है। नई शिक्षानीति का यदि निष्पक्षता और ईमानदारी से पालन होता हैतो वह दिन दूर नहीं जब हम संस्कृत समेत अन्यभारतीय भाषाओं को पूर्ण रूप…

अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था ने मनाया स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव

Continue Readingअपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था ने मनाया स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव

पुणे. वानवडी स्थित अपंग कल्याणकारी शिक्षण संस्था व संशोधन केंद्र में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ ध्वजारोहण कर ७५ वां स्वतंत्रता दिन अमृत महोत्सव मनाया गया. इस दौरान संस्था के सेवानिवृत्त कर्मचारियों सहित कोरोना योद्धाओं का सम्मान किया गया. प्रमुख अतिथि के रूप में सेवा सहयोग फाउन्डेशन के अध्यक्ष व…

बहन बेटियों की रक्षा का कवच बनना होगा

Continue Readingबहन बेटियों की रक्षा का कवच बनना होगा

आज फिर से जरूरत है उसी देश भक्ति और देश प्रेम की जिसमें आक्रोश था! गुस्सा था! गुलामी की जंजीरों को उखाड़ फेंकने का जज्बा था l हालांकि विद्रोह की आग तो 1857 से भड़कनी शुरू हो गई थी, और तमाम क्रांतिकारियों  ने आजादी के इस यज्ञ में अपने जीवन…

स्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी

Continue Readingस्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी

स्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी जन्म        :-  १९ /१२/1922 स्वर्गारोहण:-  ०१/०८/२०२१ भारत के उत्तर पूर्वांचल के मणिपुर राज्य के इंफाल से ४० कि.मी.दूर थोबाल जिलेके काकचिंग गाव में वनवासी कल्याण आश्रम का बालक छात्रावास है।जिसमें मरींग नागा जनजाति के अधिकांश बालक रहते हैं।सन १९८९ क दिसंबर माह था।जबरदस्त ठंड रहती…

End of content

No more pages to load