भाजपा की विशाल फौज पर भारी पड़ीं अकेली दीदी

Continue Readingभाजपा की विशाल फौज पर भारी पड़ीं अकेली दीदी

हाल में ही देश के चार राज्यों पश्चिम बंगाल,केरल, असम और तमिलनाडु तथा केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में  संपन्न विधानसभा चुनावों के  नतीजे सामने आ चुके हैं । भारतीय जनता पार्टी नीत गठबंधनअसम में लगातार दूसरी बार सत्ता में आने में सफल रहा है परंतु पश्चिम बंगाल में पहली बार सत्ता में आने का उसका सुनहरा स्वप्न बिखर गया है लेकिन यह कहना भी ग़लत नहीं होगा कि पांच साल पहले संपन्न विधानसभा चुनावों में  जिस पार्टी को मात्र तीन सीटों पर जीत का स्वाद चखने का अवसर मिला हो उसने इन चुनावों में जो शानदार जीत हासिल की है वह निःसंदेह उसके लिए एक ऐसी ऐतिहासिक उपलब्धि है जिस पर गर्वोन्नत होने का उसे पूरा अधिकार है ।

बंगाल में भाजपा का पलड़ा भारी

Continue Readingबंगाल में भाजपा का पलड़ा भारी

पश्चिम बंगाल के चुनावी रण में ममता बनर्जी को भाजपा ने मुश्किल में डाल रखा है लेकिन भाजपा की सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि वह अब तक ऐसा कोई चेहरा नहीं खोज पाई है जिसे वह ममता बनर्जी के सामने भावी मुख्यमंत्री के रूप में प्रस्तुत कर सके।

नजरबंदी में रहकर भी नहीं सुधरे फारुख अब्दुल्ला

Continue Readingनजरबंदी में रहकर भी नहीं सुधरे फारुख अब्दुल्ला

मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने का साहसिक और ऐतिहासिक फैसला जिन दिन किया था उसके पहले ही उसने यह अनुमान लगा लिया था कि नेशनल कांफ्रेंस के मुखिया फारुख अब्दुल्ला, उनके बेटे उमर अब्दुल्ला और पीपुल्स…

बहुत सीमित है इस चिराग की रोशनी का दायरा

Continue Readingबहुत सीमित है इस चिराग की रोशनी का दायरा

केंद्र में सत्तारूढ राजग के एक घटक लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग .पासवान ने बिहार विधान सभा के आगामी चुनाव जदयू के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के नेतृत्व में नहीं लडने का फैसला कर लिया है इसलिए उन्होंने राज्य में राजग से नाता तोडने की घोषणा कर दी…

हाथरस में योगी की सूझबूझ की परीक्षा

Continue Readingहाथरस में योगी की सूझबूझ की परीक्षा

देश के सबसे बडे राज्य उत्तरप्रदेश के मुखंयमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना काल में अपनी अद्भुत संवेदनशीलता से सारे देश में जो अलग पहिचान बनाई थी उसे हाथरस में एक दलित लडकी के साथ की गई दरिंदगी की भयावह घटना इतना धूमिल कर दिया है कि योगी अब बचाव की…

नकारा नेतृत्व की नाकामी से डूब रही कांग्रेस की नैय्या  

Continue Readingनकारा नेतृत्व की नाकामी से डूब रही कांग्रेस की नैय्या  

 सलमान खुर्शीद के इस बयान में भले ही कड़वी सच्चाई छुपी हो, परंतु उनके इस बयान पर पार्टी में विवाद चल गया है। कांग्रेस के प्रवक्ता राशिद अल्वी इसे घर को आग लग गई, घर के चिराग से कहावत का जिक्र करते हुए कहा कि राहुल गांधी गलत नहीं थे।  उन्हें कुछ नेताओं का समर्थन नहीं मिला, इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया।

कांग्रेस के लिये मुसीबत बनते चिदंबरम!

Continue Readingकांग्रेस के लिये मुसीबत बनते चिदंबरम!

चिदंबरम के विरुद्ध लुक आउट नोटिस जारी करना भी सीबीआई का आश्चर्यजनक कदम था ,परंतु सीबीआई को यह विकल्प चुनने के लिए दरअसल चिदंबरम ने ही विवश किया।

टीम मोदी

Continue Readingटीम मोदी

लोकसभा चुनाव की मतगणना की तारीख के ठीक एक सप्ताह बाद केंद्र में मोदी सरकार का  दुबारा गठन हो गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने  राष्ट्रपति भवन में एक भव्य कार्यक्रम में पीएम मोदी एवं उनके मंत्रियों को शपथ दिलाई।

कांग्रेस को मिली संजीवनी

Continue Readingकांग्रेस को मिली संजीवनी

कांग्रेस को एकदम ’जीत गए, जीत गए’ के मोड में नहीं आ जाना चाहिए और यह भी मानने की ज़रूरत नहीं है कि तीन राज्यों की ही तरह दूसरी जगहों पर भी लोग भाजपा से निराश होंगे और कांग्रेस को जीत दिला देंगे। इसी तरह, भाजपा को भी यह नहीं…

कठिन परिस्थितियों में उभरा व्यक्तित्व

Continue Readingकठिन परिस्थितियों में उभरा व्यक्तित्व

प्रधानमंत्री मोदी में देश में बदलाव लाने की ललक, ऊर्जा एवं स्फूर्ति, कठिन चुनौतियों से निपटने का साहस वैसे ही बरकरार है। विपक्ष ने उनके विरोध में मुसीबतें खड़ी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। लेकिन उन्होंने बखूबी उसका सामना किया और सबसे लोकप्रिय राजनेता के रूप में बने हैं।

गुजरात चुनाव भाजपा जीती, पर

Continue Readingगुजरात चुनाव भाजपा जीती, पर

गुजरात चुनाव में प्रधान मंत्री मोदी का करिश्माई नेतृत्व और भाजपा के अध्यक्ष अमित शाही का रणनीतिक कौशल काम आया, अन्यथा कांग्रेस के नेतृत्व में विरोधियों के हुए जमावड़े का कड़ा सामना करना संभव न होता. परिणामों ने कांग्रेस में नई जान फूंक दी है, देखना है कि यह उत्साह कब तक और कितना कायम रहेगा.

सरकार की नीतियां और किसान आंदोलन

Continue Readingसरकार की नीतियां और किसान आंदोलन

अगर किसानों का आक्रोश शांत नहीं हुआ तो इसका असर अगले साल होने वाले विधान सभा चुनावों पर भी पड़ने के संकेत हैं। भाजपा सरकार को इसे चुनौती के रूप में स्वीकार करने के साथ ही किसानों के हितों की चिंता करनी होगी तभी किसान खुश होगा और उसके सत्तासीन होने की भी उम

End of content

No more pages to load