ग्लोबल वार्मिंग के खतरे

Continue Readingग्लोबल वार्मिंग के खतरे

विश्व के महान वैज्ञानिक आइंस्टीन ने कहा था कि दो वस्तुएं असीमित हैं- पहला ब्रह्मांड और दूसरा मानव द्वारा की जाने वाली मूर्खताएं। भूमंडलीय ऊष्मीकरण (ग्लोबल वार्मिंग) भी मानव के भौतिक विकास की अंधी दौड़रूपी मूर्खता का ही परिणाम है। भूमंडलीय ऊष्मीकरण का अर्

मेक इन विलेज

Continue Readingमेक इन विलेज

ब्रीटिश शासन के पहले भारत वर्ष एक समृद्ध राष्ट्र था, भारतीय अर्थव्यवस्था मुख्यत: कृषि एवं ग्रामीण लधु उद्योगों पर आधारित थी। अधिकांश जनसंख्या की जीविका का साधन कृषि व्यवस्था थी जो कि पूर्णरूपेण आत्मनिर्भर एवं परस्पर आश्रित थी। भारतीय कृषि मुख्यत: खाद्य

जातिगत आरक्षण और आधुनिकभारतीय ॠषि डॉ. आंबेडकर

Continue Readingजातिगत आरक्षण और आधुनिकभारतीय ॠषि डॉ. आंबेडकर

देश मेंे स्वतंत्रता के ६७वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। हमारे देश में रेल, सड़क एवं हवाई सेवाओं में वृद्धि हुई है। इंटरनेट, फेसबुक, व्हाटस्एप, ट्वीटर के इस युग में ‘वसुधैव कुटुंबकम्’ का नारा पुष्ट हो रहा है। सारा विश्व ‘ग्लोबल विलेज’ बन गया है। हमारी वर्चुवल गतिशीलता बढ़ी है।

End of content

No more pages to load