सत्ता का केन्द्र उत्तर प्रदेश

Continue Reading सत्ता का केन्द्र उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश उत्तर वैदिक काल में ब्रह्मर्षि देश या मध्य देश के नाम से जाना जाता था। यह वैदिक काल में कई महान ऋषियों, मुनियों जैसे भारद्वाज, गौतम, याज्ञवल्क्य, वशिष्ठ, विश्वामित्र और वाल्मीकि आदि की तपोभूमि रहा।

गौरवशाली बिहारी

Continue Reading गौरवशाली बिहारी

बिहार का नाम आते ही हमारे मन में हिंसा, संस्थानिकीकरण, अपहरण, गुंडई, रंगदारी, पिछड़ापन, बेरोजगारी, उद्योग रहित और एक जातिग्रस्त राज्य की कल्पना मन में आती है। भारतीय रेलें बिहारी पहचान की सबसे बड़ी वाहक हैं।

‘माय होम इंडिया’ अपनत्व का एक सेतु

Continue Reading ‘माय होम इंडिया’ अपनत्व का एक सेतु

‘माय होम इंडिया’ स्वयंसेवी संस्था है, जिसका संकल्प पूर्वोत्तर भारत और शेष भारत के बीच पारस्परिक भाईचारे और अपनत्व की भावना को और सशक्त बनाना है।

कांग्रेस धराशायी, भाजपा अप्रासंगिक

Continue Reading कांग्रेस धराशायी, भाजपा अप्रासंगिक

पूरा देश दम साधे उत्तर प्रदेश चुनावों की ओर टकटकी लगाए देख रहा था। 6 मार्च को देश में अन्य चार राज्यों मणिपुर, गोवा, उत्तराखंड और पंजाब के चुनाव नतीजे भी घोषित हुए लेकिन जो चुनावी जुनून उत्तर प्रदेश के नतीजों को लेकर देश में था, उसके आगे सारे समाचार फीके हो गए। उत्तर प्रदेश की राजनीति ने हमेशा से देश की राजनीति को प्रभावित किया है।

उत्तर प्रदेश में जातिगत समीकरण ही अहम

Continue Reading उत्तर प्रदेश में जातिगत समीकरण ही अहम

आजादी के बाद देश का सबसे बड़ा प्रदेश होने के नाते, लोकसभा में 80 और राज्यसभा में 39 सांसद उत्तर प्रदेश से जाते रहे हैं, और हमेशा उसकी खनक केन्द्र की सत्ता में दिखी है। देश को सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री इसी राज्य ने दिये हैं।

End of content

No more pages to load