बाबासाहब के ‘शहर की ओर चलो’ का अर्थ

Continue Reading बाबासाहब के ‘शहर की ओर चलो’ का अर्थ

ग्राम विकास’ शब्द आजकल सभी ओर छाया हुआ है। भारत गांवों का देश होने के कारण यदि गांवों का विकास होगा तो देश का विकास अपने आप होगा ऐसी संकल्पना महात्मा गांधी ने पिछली सदी में रखी थी। ग्राम विकास की संकल्पना पर उनकी ‘ग्रामस्वराज’ यह पुस्तक प्रसिद्ध है।

बाबासाहब के घनिष्ठ सहयोगी

Continue Reading बाबासाहब के घनिष्ठ सहयोगी

किसी आंदोलन को प्रगतिपथ पर ले जाने का काम नेता से ज्यादा उसके सहयोगी कार्यकर्ता सक्षमता से करते हैं। कोई आंदोलन या अभियान इसलिए जोर पकड़ता है क्योंकि कार्यकर्ता विचारों का वाहक है। इसका उदाहरण है कि डॉ. आंबेडकर का आंदोलन। १९२४ से डॉ. बाबासाहब आंबेडकर सामाजिक जीवन में आंदोलन जारी रहा।

वोटों की पिटारी और यूपीए

Continue Reading वोटों की पिटारी और यूपीए

सन 2004 में मनमोहन सिंह के नेतृत्व में यूपीए की सरकार सत्तारूढ़ हुई। उसके पहले अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार सत्ता में थी। तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने अपने कार्यकाल में देश को विकास के मार्ग पर आगे बढ़ाने के भरसक प्रयास किये थे।

उद्योजक सेवा पुरुष मिलिंद कांबले

Continue Reading उद्योजक सेवा पुरुष मिलिंद कांबले

‘नौकरी करने के लिए नहीं, नौकरी देने के लिए हम पैदा हुए हैं। उद्योग में सफलता प्राप्त करें। अपना छोटा‡बड़ा उद्योग स्थापित करें और सफल बनें। सम्मान से जीयें। नौकरी मांगते रहने की अपेक्षा नौकरी देने वाले बनें।’ यह संदेश है श्री मिलिंद कांबले का।

बाबा साहब और धम्म

Continue Reading बाबा साहब और धम्म

‘मनुष्य’ को ही केन्द्र में रखा। उन्होंने कर्मकाण्ड रहित धम्म को ही स्वीकार किया और देश बाह्य धर्मों को नकार दिया। तथागत द्वारा बताए गये मार्ग पर चलते हुए समाज और मनुष्य को जोड़ने का कार्य किया।

End of content

No more pages to load