गाय बैल के प्रेम को ख़त्म करता मॉडर्न युग

Continue Readingगाय बैल के प्रेम को ख़त्म करता मॉडर्न युग

जहाँ लोग अब अपने और पराए में आकलन लगा रहे हैं वहीं 90 के दशक में लोग पराए को भी अपना मानते थे और पराए को भी इतना प्यार देते थे कि सामने वाला भी अपने और पराए में फर्क नहीं कर पाता था। लोगों की ऐसी संवेदना रहती थी…

मुंशी प्रेमचंद की गाय बनाम राष्ट्रीय पशु

Continue Readingमुंशी प्रेमचंद की गाय बनाम राष्ट्रीय पशु

गौकशी के एक मामले की सुनवाई करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण टिप्पणी की है कि गाय भारत की संस्कृति का अभिन्न अंग है, अतएव इसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए। न्यायालय ने जावेद नामक व्यक्ति की जमानत याचिका खारिज करते हुए यह बात कही। जावेद पर…

End of content

No more pages to load