सावधान! बचे हुए तेल का फिर से इस्तेमाल कर रहे हैं?

जब बात हो रही हो भारतीय किचन की, तो कुकिंग ऑयल का जिक्र सबसे पहले आता है। यह भारतीय किचन का एक ऐसा खाद्य पदार्थ है, जिसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है। लेकिन आपने अक्सर देखा होगा कि भारतीय खाने में जुगाड़ करना लोगों की आदत में शुमार हो चुका है।जैसे कि रात के खाने को नए ट्विस्ट के साथ नाश्ता बना कर पेश करना, उसी प्रकार दोपहर के बचे हुए खाने को ट्विस्ट के साथ रात के खाने में परोसना। इस तरह के जुगाड़ हम आए दिन भारतीय व्यंजनों में देखते हैं।

एक ही तेल का इस्तेमाल बार-बार 

जब खाने के तेल की बात आती है, तो इसका इस्तेमाल भी हम  बार-बार करने लगते हैं। उदाहरण के तौर पर जिस तेल में भजिये तले गए हों, उसमें पापड़ तल लिए जाते हैं और फिर भी यह तेल बच जाए, तो इसे सब्जी में इस्तेमाल करते हैं। लेकिन यदि आप कुकिंग ऑयल का इस्तेमाल दोबारा करते हैं, तो यह आपकी सेहत को मुश्किल में डाल सकता है।एक्सपर्ट्स की मानें, तो तेल के बार-बार इस्तेमाल से आपको कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। आइए जानते हैं कैसे!

कब ना करें तेल का इस्तेमाल?

सबसे पहले इस बात को जान लें कि जब तेल को बार-बार गर्म किया जाता है, तो इसमें मौजूद न्यूट्रिएंट्स धीरे-धीरे खत्म होने लगता है और साथ ही इसमें कैंसर पैदा करने वाले तत्व बनने लगते हैं। यदि आप जानना चाहते हैं कि खाना बनाने के लिए इस्तेमाल किए जानेवाला तेल खाने लायक है या नहीं, तो आपको इसकी जानकारी तेल के रंग से हो जाएगी। यदि किसी तेल को आप सामान्य से गाढ़ा और गहरे रंग का पाए, तो इसका इस्तेमाल कभी ना करें। ऐसे तेल का इस्तेमाल करना आपकी सेहत को बिगाड़ सकता है।

ना करें तेल का दोबारा उपयोग 

एक्सपर्ट्स की माने तो बचे हुए तेल में फ्री रेडिकल्स निर्मित हो जाते हैं और यही फ्री रेडिकल्स आपकी सेहत के साथ खिलवाड़ कर सकते हैं। तेल को बार-बार गर्म करने पर इसकी सुगंध खत्म हो जाती है, जिसका अर्थ यह है कि इसमें मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट खत्म हो गए हैं। एंटी ऑक्सीडेंट के खत्म हो जाने पर इसमें कैंसर पैदा करने वाले तत्व तेजी से बढ़ते हैं।

इस्तेमाल किए हुए तेल को दोबारा इस्तेमाल में लाने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ती है। साथ ही मानसिक बीमारियां, हृदय संबंधी तकलीफ और उदर विकार भी बढ़ने लगते हैं। जब कैंसर की बात हो, तो इस्तेमाल किए गए तेल को बार-बार उपयोग में लाने से पेट का कैंसर हो सकता है।खास तौर पर ऐसा तेल उपयोग में लाने से बच्चों पर इसका बुरा असर होता है। यह तेल उनकी इम्यूनिटी पर असर डालता है।

ध्यान रखें कि हमेशा अच्छी क्वालिटी का तेल ही उपयोग में लाएं। यदि आप लो क्वालिटी का तेल इस्तेमाल में लाते हैं, तो गर्म करने पर इस में झाग बनने लगती है। इसका मतलब है कि तेल में मिलावट है और इसे एडल्ट्रेटेड ऑयल के साथ मिलाकर बनाया गया है, जो शरीर के अंदरूनी भागों को नुकसान पहुंचा सकता है। 

यदि आप फिर भी तेल का दोबारा इस्तेमाल करना चाहें, तो इसे हमेशा छान कर इस्तेमाल करें। जिससे इसमें मौजूद गाढ़ा पदार्थ दूर हो जाए और यह खाने लायक हो जाए। यदि आप इन बातों का ख्याल रखते हैं, तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाएगा।

आपकी प्रतिक्रिया...