सेवा है यज्ञ कुंड समिधा सा हम जलें”-माय होम इंडिया का मूल मंत्र

सेवा है यज्ञ कुंड समिधा सा हम जलें” जब यह भाव कार्यकर्ताओं का मूल मंत्र बन जाता है तब वैश्विक महामारी का संकट भी उनके सामने छोटा हो जाता है, और वह समाज के अग्रसर होकर सेवा कार्य करने लगते है।
माय होम इंडिया के कार्यकर्ता भी इसी भावना से कोरोना वैश्विक महामारी के संकट के समय में समाज के लिये सेवाकार्य करने का  सरहानीय कार्य कर रहे हैं।  माय होम इंडिया ने अपने इन सेवा कार्यों की शुरूआत प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी के जनता कर्फूय के आव्हान के बाद शुरू कर दी। जिसके तहत पहला कार्यक्रम महाराष्ट्र के मोढ़ में वनवासी वस्ती में किया गया। जिसमें कोरोना से बचने के लिये मास्क और हैंडवॉश वितरण का कार्य किया गया और उसके बाद से ही यह सेवा कार्य निरंतर चलते आ रहे हैं।
माय होम इंडिया ने इन सेवा कार्यों को गति देने के लिये संस्था की कोविड हेल्पलाइन  9321127701 को भी सक्रिय किया।  देश भर में लॉकडाउन के कारण फंसे पूर्वोत्तर के छात्रों तक इसी कोविड हेल्पलाइन के माध्यम से राशन पहुंचाने का कार्य किया गया। ये राशन वितरण का कार्य देश की राजधानी दिल्ली और उसके आस पास के क्षेत्र के अलावा, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, असम, त्रिपुरा, मणिपुर, मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश, हरियाणा, जैसे राज्यों में भी किया । इसके साथ ही संस्था के द्वारा महाराष्ट्र के ठाणे और उत्तरप्रदेश के लखनऊ में सामुदायिक रसोई बनाकर भी जरूरतमंद लोगों को खाना खिलाने का कार्य किया  गया। माय होम इंडिया की लखनऊ और ठाणे सामुदायिक रसोई के जरिये लगभन 29 हजार से ज्यादा लोगो को भोजन वितरण का कार्य किया गया।
देश में जब संपूर्ण लोकडाउन घोषित हुआ तो पूर्वोत्तर के लोगों ने माय होम इंडिया से सहायता की अपेक्षा की।  माय होम इंडिया इन अपेक्षाओं पर खरी उतरी और कुल 33 हजार से ज्यादा लोगों तक कोविड हेल्पलाइन के जरिये सहायात पहुंचाई। जिनमें माय होम इंडिया ने 4208 से ज्यादा परिवारों को राशन किट का वितरण किया।  पके हुए भोजन पैकेड का वितरण 29,263 लोगों को किया।  51 युनिट का रक्तदान देकर स्वास्थ क्षेत्र में भी अपनी सहभागित दिखाई और जब लोगों ने जरूरी मैडिसिन के लिये भी संस्था से संपर्क किया तो संस्था ने उन्हें भी निराश नहीं किया और उन तक मैडिसिन पहुंचाने का भी कार्य संस्था के कार्यकर्ताओं ने किया।
 संकट के समय समाज के लिये कार्य करना ही माय होम इंडिया की परंम्परा है और माय होम इंडिया ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का भाव लेकर समाज के हर संकट में सेवा कार्य करने का काम करती है। इसी के तहत संस्था ने 22 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के आव्हान के बाद से ही सेवा कार्य की शुरूआत कर दी। और देश के हर हिस्से में जहां पूर्वोत्तर के लोगों को संकट हुआ माय होम इंडिया के कार्यकर्ता उनके साथ खड़े दिखाई दीये।  माय होम इंडिया के कोविड-19 के दौर में चलाई गई मुहिम का एक ही मकसद रहा कि समाज के लोगों की इस संकट के समय सहायता की जाये।  इसके तहत माय होम इंडिया के कार्यकर्ताओं ने देश के 18 राज्यों में पूर्वोत्तर के लोगों को हेल्पलाइन देना का कार्य किया और जहां जैसा संकट दिखाई दिया माय होम इंडिया ने हर संकट में पूर्वोत्तर वासियों का साथ निभाया और लोगों का इस संकट की घड़ी में उत्साह बढ़ाया।ज के लिये सेवाकार्य करने का  सरहानीय कार्य कर रहे हैं।  माय होम इंडिया ने अपने इन सेवा कार्यों की शुरूआत प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी के जनता कर्फूय के आव्हान के बाद शुरू कर दी। जिसके तहत पहला कार्यक्रम महाराष्ट्र के मोढ़ में वनवासी वस्ती में किया गया। जिसमें कोरोना से बचने के लिये मास्क और हैंडवॉश वितरण का कार्य किया गया और उसके बाद से ही यह सेवा कार्य निरंतर चलते आ रहे हैं।
माय होम इंडिया ने इन सेवा कार्यों को गति देने के लिये संस्था की कोविड हेल्पलाइन  9321127701 को भी सक्रिय किया।  देश भर में लॉकडाउन के कारण फंसे पूर्वोत्तर के छात्रों तक इसी कोविड हेल्पलाइन के माध्यम से राशन पहुंचाने का कार्य किया गया। ये राशन वितरण का कार्य देश की राजधानी दिल्ली और उसके आस पास के क्षेत्र के अलावा, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, असम, त्रिपुरा, मणिपुर, मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश, हरियाणा, जैसे राज्यों में भी किया । इसके साथ ही संस्था के द्वारा महाराष्ट्र के ठाणे और उत्तरप्रदेश के लखनऊ में सामुदायिक रसोई बनाकर भी जरूरतमंद लोगों को खाना खिलाने का कार्य किया  गया। माय होम इंडिया की लखनऊ और ठाणे सामुदायिक रसोई के जरिये लगभन 29 हजार से ज्यादा लोगो को भोजन वितरण का कार्य किया गया।
देश में जब संपूर्ण लोकडाउन घोषित हुआ तो पूर्वोत्तर के लोगों ने माय होम इंडिया से सहायता की अपेक्षा की।  माय होम इंडिया इन अपेक्षाओं पर खरी उतरी और कुल 33 हजार से ज्यादा लोगों तक कोविड हेल्पलाइन के जरिये सहायात पहुंचाई। जिनमें माय होम इंडिया ने 4208 से ज्यादा परिवारों को राशन किट का वितरण किया।  पके हुए भोजन पैकेड का वितरण 29,263 लोगों को किया।  51 युनिट का रक्तदान देकर स्वास्थ क्षेत्र में भी अपनी सहभागित दिखाई और जब लोगों ने जरूरी मैडिसिन के लिये भी संस्था से संपर्क किया तो संस्था ने उन्हें भी निराश नहीं किया और उन तक मैडिसिन पहुंचाने का भी कार्य संस्था के कार्यकर्ताओं ने किया।
इस सेवा कार्य के बारे में संस्था के मैनेजिंग ट्रस्टी विनय पाण्डेय .ने कहा है कि  संकट के समय समाज के लिये कार्य करना ही माय होम इंडिया की परंम्परा है और माय होम इंडिया ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का भाव लेकर समाज के हर संकट में सेवा कार्य करने का काम करती है। इसी के तहत संस्था ने 22 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के आव्हान के बाद से ही सेवा कार्य की शुरूआत कर दी। और देश के हर हिस्से में जहां पूर्वोत्तर के लोगों को संकट हुआ माय होम इंडिया के कार्यकर्ता उनके साथ खड़े दिखाई दीये।  माय होम इंडिया के कोविड-19 के दौर में चलाई गई मुहिम का एक ही मकसद रहा कि समाज के लोगों की इस संकट के समय सहायता की जाये।  इसके तहत माय होम इंडिया के कार्यकर्ताओं ने देश के 18 राज्यों में पूर्वोत्तर के लोगों को हेल्पलाइन देना का कार्य किया और जहां जैसा संकट दिखाई दिया माय होम इंडिया ने हर संकट में पूर्वोत्तर वासियों का साथ निभाया और लोगों का इस संकट की घड़ी में उत्साह बढ़ाया।

This Post Has 3 Comments

  1. Sant lal Yadav

    Kudos to the initiative & appreciation to the entire team.

  2. Anonymous

    The way My Home India is working is really inspirational and appreciable.

  3. Sanghamitra Majumdar

    Bahut achcha Karta kar rahein hain aap

आपकी प्रतिक्रिया...