सरसंघचालक मोहन भागवत ने सीएम योगी से की मुलाकात, राम मंदिर पर हुई चर्चा

Mohan Bhagwat and Yogi Adityanath
मोहन भागवत जी का अवध प्रांत का दौरा
राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत उत्तर प्रदेश के अवध प्रांत के प्रवास पर है। इस दौरान सरसंघचालक मोहन भागवत ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की, जानकारी के मुताबिक दोनों लोगों के बीच करीब 1 घंटे से अधिक समय तक मुलाकात चली, इस दौरान अयोध्या में चल रहे राम मंदिर निर्माण पर चर्चा हुई। मोहन भागवत जी दो दिवसीय यूपी दौरे पर शनिवार को लखनऊ पहुंचे थे सोमवार को उनके दौरे का आखिरी दिन था। इस दौरान संघ प्रमुख ने कहा कि दुनिया में जितनी भी जातियां है सभी जातियों में महान देश भक्त और श्रेष्ठ लोगों ने जन्म लिया है इसलिए मंदिर, मस्जिद और जलाशय पर सभी का समान अधिकार होना चाहिए। किसी भी समाज में महापुरुष अपने कार्यों की वजह से जाने जाते है और हमें इस को कायम रखना चाहिए और उन्हे उसी दृष्टि से देखना चाहिए।
 
संघ का समाज व देश प्रेम
संघ प्रमुख मोहन भागवत जी ने स्वंय सेवकों को निर्देश देते हुए कहा कि देश हित, प्रकृति के हित, समाज हित और धार्मिक कार्यों को करने वालों का सहयोग करना चाहिए और इसमें बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए इसके साथ ही गौ आधारित खेती और प्राकृतिक खेती के लिए भी लोगों को जागरुक करना चाहिए। संघ प्रमुख भागवत जी ने कोरोना काल के दौरान सभी स्वंय सेवकों से कहा था कि वजह समाज की सामर्थ्य अनुसार सेवा करें वहीं अब फिर से उन्होने सभी स्वंय सेवकों से आग्रह किया है कि कोरोना काल के दौरान बहुत से लोगों की नौकरी चली गयी और वह बेरोज़गार हो गये है ऐसे में उन सभी लोगों की मदद की कोशिश करें और जहां तक मुमकिन हो उन्हे रोज़गार मुहैया कराए। सरसंघचालक मोहन भागवत ने इस दौरान कोरोना काल के दौरान स्वंय सेवकों द्वारा किये गये कार्यों की भी जानकारी साझा की और उन्हे निर्देश दिया कि आप समाज की सेवा में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें। इसके साथ ही उन्होने जानकारी देते हुए कहा कि जल्द ही संघ की तरफ से पर्यावरण को लेकर समाज को जागरुक करने का काम भी शुरु किया जायेगा और लोगों को प्रकृति के बारे में जानकारी दी जायेगी। 
Reader Also Like
 
सरसंघचालक भागवत जी का विघटित परिवार को मंत्र 
मोहन भागवत जी ने देश में लगातार विघटित होते परिवार पर भी सभी को निर्देश दिया और कहाकि आज कल पति-पत्नी और बच्चे को ही परिवार समझा जा रहा है और यही वजह है कि लोग जीवन में ज्यादा परेशान है और डिप्रेशन में जा रहे है। संघ प्रमुख ने कहा कि परिवार सिर्फ पति-पत्नी और बच्चे से ही नहीं होता बल्कि इसमें दादा-दादी, चाचा-चाची, बूआ-फूफा, मौसा-मौसी, भाई-बहन और समाज के कई लोग शामिल होते है लेकिन एकल परिवार को तेजी से बढ़ावा मिल रहा है और संयुक्त परिवार टूटता जा रहा है। 

आपकी प्रतिक्रिया...