विनय सीताराम महाजन

हथकरघा उद्योग को जीवित रखने और इसके मजदूरों को उनका हक दिलाने के लिए इचलकरंजी के विनय सीताराम महाजन सर्वोपरि प्रयास कर रहे हैं। सीताराम महाजन की प्राथमिक शिक्षा हुबली में हुई। सन 1978 में उनके पिता इचलकरंजी आये और 1979 में पूरा परिवार यहां स्थानान्तरित हो गया। इचलकरंजी में ही सीताराम महाजन ने पांचवीं से बी. कॉम तक की शिक्षा पूर्ण की। उनके पिता सीताराम महाजन कपड़े का व्यवसाय करते थे। विनय महाजन ने भी अपने बड़े भाई सुनील महाजन के साथ पिता के व्यवसाय में हाथ बंटाना शुरू किया।

व्यवसाय के साथ ही इस परिवार का रुझान सेवा कार्यों की ओर भी रहा। पिता सीताराम महाजन अग्रसेन सेवा ट्रस्ट के माध्यम से सेवा कार्य करते थे। भाई सुनील महाजन अग्रसेन नव युवक मण्डल और साई प्रसाद सेवा मण्डल के माध्यम से कार्य करते हैं। सुनील महाजन ने पार्षद और उपनगर अध्यक्ष के रूप मेंभी कई कार्य किये।

विनय महाजन ने प्राथमिक रूप से घर का कपड़े का व्यवसाय सम्भाला, उसे बढ़ाया और जब वह स्थिर हो गया तो सामाजिक कार्यों की शुरुआत की। सन 2002 में उन्होंने मारवाड़ी युवा मंच के सदस्य से उपाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी निभायी। सन 2003 में लायन्स क्लब ऑफ इचलकरंजी के कोषाध्यक्ष का कार्यभार सम्भाला। सन 2009 में 57 क्लब के कोषाध्यक्षों में से वे सर्वश्रेष्ठ कोषाध्यक्ष चुने गये। सन 2010 में वे राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस की प्रदेश कमेटी के सदस्य चुने गये।

सन 2007 से विनय महाजन हथकरघा मजदूरों की समस्याओं को सुलझाने का भरसक प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने ‘जागृति’ नामक संगठन बनाया है। इस संगठन में लगभग 550 कार्यकर्ता फिलहाल कार्य कर रहे हैं।

बिजली की कटौती और बिल की बढ़ोतरी के विरोध में भी आन्दोलन किये। मजदूरों के दैनिक वेतन को बढ़ाने के लिए भी उन्होंने विभिन्न प्रयास किये। वे लायन्स ब्लड डोनेशन कमेटी के चेयरमैन हैं। उन्होंने अभी तक रक्तदान शिविरों के माध्यम से कई बोतलें रक्त जमा कर ब्लड बैंक को दिया।

अपने कार्यकल में विभिन्न दायित्वों को निभा चुके और विभिन्न समस्याओं को सुलझाने वाले विनय की भविष्य में विभिन्न योजनाएं हैं। वे अपने संगठन के माध्यम से मजदूरों को योग्य दर पर सूत और मिल स्टोर उपलब्ध कराने के लिए प्रयत्नशील हैं। भ्रष्टाचार के विरोध में भी विभिन्न स्तर पर आन्दोलन करने की उनकी योजना है।

आपकी प्रतिक्रिया...