वेब चैनल्स कि मनोरंजक दुनिया

***निहारिका पोल ***
    

       मनोरंजन और हम मनुष्यों का नाता बहुत ही पुराना है। प्राचीन काल में नाटक और नृत्य नाटिकाओं से लेकर टेलीविजन आने के बाद धारावाहिकों तक मनोरंजन के अनेक साधन मनुष्य के पास रहे हैं। मनोरंजन के बिना जीवन है ही क्या? समय बदला और समय के साथ मनोरंजन के साधन भी बदले। आज मनोरंजन की आभासी दुनिया का प्रमुख साधन है इंटरनेट। जिस प्रकार टी.वी. पर अनेक चैनल और उन चैनलों पर अनेक धारावाहिक आते हैं, उसी प्रकार आज इंटरनेट पर भी अनेक वेब चैनल्स उपलब्ध हैं। टी.वी. पर हर विषय के अनुसार अलग-अलग चैनल हैं, उसी प्रकार इंटरनेट पर यूट्यूब वेब साइट पर लगभग हर विषय को समर्पित चैनल्स हैं। दोनों मे फर्क केवल इतना है कि टी.वी. पर उपस्थित चैनलों पर आपको आपके मनपसंद कार्यक्रम के लिए सही समय की राह देखनी पड़ती है। वेब की दुनिया पूर्णत: मनुष्य की सुविधा के लिए बनाई गई है, अत: यहां पर हम जब चाहे जहां चाहे, जिस वक्त और जैसे चाहें इन वेब चैनल्स के माध्यम से पसंदीदा कार्यक्रम देख सकते हैं।
क्या है ये वेब चैनल?
      इंटरनेट पर सूचनाओं का और जानकारी का भंडार रहता है। हर विषय से संबंधित वेब साइट्स इंटरनेट पर उपलब्ध हैं। परंतु आज केवल वेब साइट्स होना ही काफी नहीं है। प्रत्येक वेबसाइट का एक चैनल उपलब्ध होना भी आवश्यक है जिसके माध्यम से इन वेब साइट्स तक आसानी से पहुंचा जा सके। यूट्यूब नामक वेबसाइट विविध प्रकार के वीडियो के संग्रहण के लिए प्रसिद्ध है। इस वेब साइट ने सर्व प्रथम वेब चैनल की संकल्पना को जन्म दिया। इस वेब साइट पर अपना चैनल बना कर विविध समूह वीडियो डालते हैं। और इन वेब चैनल्स के माध्यम से अनेक अलग-अलग विषयों के अनुसार जानकारी और मनोरंजन के विविध आयाम जनता तक पहुंचते हैं। पाश्चात्य देशों में यह संकल्पना भारत की तुलना में पुरानी है। परंतु भारत में वेब चैनल्स की शुरुआत अभी ५-६ वर्ष पहले ही हुई है। भारत में मनोरंजन के क्षेत्र में सर्वप्रथम टी.वी.एफ. नामक वेब चैनल ने अपने कदम रखे। इनका पांच भागों वाला परमनेंट रूममेट्स धारावाहिक युवाओं में बहुत लोकप्रिय रहा। और इसके पश्चात ए.आय.बी., सुपर वुमन, निशा मधुलिका, वाह शेफ, जैसे अनेक चैनल्स आते गए। आज इन चैनल्स की अपनी एक दुनिया तैयार हो चुकी है।
विविध विषयों पर आधारित चैनल्स
     विषयों के अनुसार इन वेब चैनल्स का विभाजन किया गया है। इसमें महत्वपूर्ण बात यह है कि चैनल की लोकप्रियता के लिए इसमें सबस्क्राइब का उपाय होता है। इस बटन पर क्लिक करने के पश्चात चैनल्स पर आने वाले नए वीडियो या अन्य किसी अपडेट की जानकारी दर्शकों को मिलती है। जिस चैनल के जितने अधिक सबस्क्राइबर्स होते हैं, उस चैनल की लोकप्रियता उतनी ही अधिक होती है।
      

 मनोरंजन: टी.वी. पर मनोरंजन के जो भी चैनल्स उपलब्ध हैं, उन सभी के वेब चैनल्स भी यूट्यूब पर उपलब्ध हैं। इनमें लोगों का सबसे पसंदीदा चैनल स्टार प्लस माना जाता है। इसके ८ लाख से भी उपर सब्सक्राइबर्स हैं। इसके असावा सोनी, झी टीवी, कलर्स, एण्ड टी.वी. ये भी जनता द्वारा काफी पसंद किए जा रहे हैं। इन पर आने वाले कार्यक्रम देखने के लिए दर्शकों कों रात के ८ या ९ बजने का इंतजार नहीं करना पडता। वे जब चाहे अपने पसंदीदा धारावाहिकों का लुत्फ उठा सकते हैं। इसके अलावा कुछ ऐसे भी चैनल्स हैं जो टी.वी पर उपलब्ध नहीं हैं। इनमें सब से अधिक लोकप्रिय है टी.वी.एफ. एंटरटेंमेंट- जिसका पूरा नाम है द वायरल फीवर। २०१० में इसका आगमन हुआ और यह आते ही साथ युवाओं में लोकप्रिय हो गया। यह चैनल आयआयटी के विद्यार्थी अर्णब कुमार और उनके साथियों की खोज है। इस चैनल के परमनेंट रूम मेट्स, पिचर्स यह धारावाहिक युवाओं द्वारा काफी पसंद किए गए। इसके अलावा काफी विवादित ए.आय.बी. चैनल भी युवाओं की पसंद रहा है। यूट्यूब पर मनोरंजन क्षेत्र के करीब १००० से भी अधिक भारतीय चैनल्स उपलब्ध हैं। भारतीय डिजिटल पार्टी, टी सीरीज, अल्ट्रा हिंदी ऐसे कई वेब चैनल्स प्रसिद्ध हैं।
खाद्य संस्कृति : भारतीय खाद्य संस्कृति की चर्चा तो दूर दूर तक होती है। अनेक देशों के लोग केवल यहां की खाद्य संस्कृति की तारीफ सुन कर भारत आते हैं। इसी खाद्य संस्कृति को आधार मानते हुए यूट्यूब पर अनेक वेब चैनल्स आए हैं। इनमें अलग-अलग तरह के खाद्य पदार्थ, उन्हें बनाने की विधि और अनेक नए खाद्य प्रयोगों के बारे में जानकारी मिलती है। यूट्यूब पर प्रथम खाद्य चैनल के रूप में इंडियन फूड नेटवर्क नामक चैनल उभर कर आया। इसकी खासियत ग्रामीण भारत की खाद्य संस्कृति से लेकर सामान्य भारतीय खाद्य पदार्थों को इन वीडियोज के माध्यम से संपूर्ण दुनिया तक पहुंचाना है। इसके लगभग २ लाख सब्सक्राइबर्स हैं। इसके अलावा मंजुलाज किचन, इंडियन कुकिंग, वाह शेफ ऐसे अनेक वेब चैनल्स उपलब्ध हैं।
नृत्यकला : भारत में नृत्यकला का इतिहास बहुत पुराना रहा है। आज इसका स्वरूप बदल गया है। नृत्य कला सीखने के लिए अनेक लोग आज इन वेब चैनल्स का उपयोग कर रहे हैं। भारतीय सिनेमा की पसंदीदा अदाकारा माधुरी दीक्षित और उनके साथियों ने मिल कर डान्स विथ माधुरी नृत्य चैनल शुरू किया है, जिसकी युवाओं में काफी चर्चा रही है। इस चैनल के लगभग १ लाख से अधिक सबस्क्राइबर्स हैं। इसके अलावा इंडियन डान्स सोसायटी एवं मनमोहिनी इंडियन डांस स्कूल ये प्रचलित नृत्य वेब चैनल्स हैं।
खेल विषयक वेब चैनल्स : भारत में खेलों के लिए प्रेम बहुत पुराना है। टी.वी. पर खेलों के लिए समर्पित अनेक चैनल्स हैं, उसी प्रकार यूट्यूब पर भी खेलों के लिए अनेक चैनल्स समर्पित हैं। इसमें टेन स्पोर्ट्स, स्टार स्पोर्ट्स, ईएसपीएन, सॉकर एम, फॉक्स स्पोर्ट्स आदी पाश्चात्य चैनल प्रचलित हैं।

समाचार चैनल : भारत में पिछले कुछ सालों में समाचार चैनलों का स्वरूप बदला है। चिल्लाचोट वाले इन चैनलों के अब यूट्यूब पर भी चैनल्स शुरू हो गए हैं। इनमें सर्वाधिक सबस्क्राइबर्स वाला समाचार वेब चैनल झी न्यूज है। यह यूट्यूब का पहला २४ बाय ७ समाचार वेब चैनल है। इसके अलावा एबीपी न्यूज, आयबीएन न्यूज, ऐसे अनेक समाचार वेब चैनल उपलब्ध हैं।
पर्यटन विषयक वेब चैनल : पर्यटन भारत में नया उभरता हुआ क्षेत्र है। इस विषय पर यूट्यूब पर अनेक भारतीय वेब चैनल्स हैं। इन चैनल्स पर भारत के विविध सुंदर पर्यटन स्थलों के वीडियोज उपलब्ध हैं। कुछ विरल पर्यटन स्थलों का भी समावेश इनमें किया गया है। इसमें सिड द वॉन्डरर, सिद्धार्थ जोशी नामक भारतीय यूट्यूबर द्वारा शुरु किया गया चैनल है। असके सबस्क्राइबर्स सर्वाधिक हैं। इसके अलावा कुंझुम टी.वी, संकारा सबमरीन्स और द ट्रैवल प्लॅनर आदि चैनल्स भारतीय जनता को पर्यटन के लिए उद्युक्त कर रहे हैं।
     भारत में वी-लॉगिंग की संकल्पना पिछले कुछ सालों में बहुत विकसित हुई है। केवल वेब साइट्स के ही नहीं तो यूट्यूब पर भी लॉगिंग करने वाले लोगों, जिन्हें यूट्यूबर्स कहते हैं, के भी अनेक चैनल्स हैं। इनमें गर्लियाप्पा, ग्रीकी रणजीत, शहजादे श्रॉफ, कौस्तव घोष, जोएला, कानन गिल, अनुषा ऐसे अनेक वी-लॉगर्स शामिल हैं। एक सामान्य व्यक्ति भी आज स्वयं का यूट्यूब वेब चैनल शुरू कर सकता है। इंटरनेट पर वेब चैनल की इस दुनिया ने सामान्य व्यक्तियों को अपने अंदर के गुण, हुनर लोगों तक पहुंचाने और लोगों को जानकारी देते हुए उनका मनोरंजन करने के लिए प्रेरित किया है। आने वाले समय में यह दुनिया और भी विस्तृत होगी इसमें कोई दो राय नहीं है।

                                                                 मो. ः ९०१११५८५०९

आपकी प्रतिक्रिया...