हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

चत्रभुज नरसी स्कूल के विद्यार्थी ने बनाए विज्ञान पर वीडियो

Continue Reading

वैसे तो विवान ने अलग-अलग विषयों पर वीडियो बनाए हैं परंतु उसकी रुचि विज्ञान से सम्बंधित वीडियो बनाने में अधिक है। अंतरिक्ष विज्ञान, अलग-अलग प्रकार के गैजेट्स, भविष्य में होने वाला तकनीकी विकास आदि पर विवान ने वीडियो बनाए हैं।

सोशल-मीडिया पर राजनीतिक ‘फैक्ट चेक’

Continue Reading

भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर पिछले कुछ वर्षों से जो हो-हल्ला मचा है, उसका कारण यह नहीं कि किसी की स्वतंत्रता छीनी गई है, बल्कि इसके पीछे टीस यह है कि अब हर व्यक्ति को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए एक मंच मिल गया है।

हिंदी पत्रकारिता दिवस, 30 मई 1826पत्रकारिता की प्राथमिकता को टटोलने का समय

Continue Reading

'हिंदुस्थानियों के हित के हेत' इस उद्देश्य के साथ 30 मई, 1826 को भारत में हिंदी पत्रकारिता की नींव रखी जाती है। पत्रकारिता के अधिष्ठाता देवर्षि नारद के जयंती प्रसंग (वैशाख कृष्ण पक्ष द्वितीया) पर हिंदी के पहले समाचार-पत्र 'उदंत मार्तंड' का प्रकाशन होता है।

हिंदी विवेक का एप्प डाउनलोड करें।

Continue Reading

विगत नौं वर्षों से मासिक पत्रिका के स्वरूप में आपके सम्मुख प्रस्तुत होनेवाली हिंदी विवेक मासिक पत्रिका अब समय के साथ विभिन्न सोशल मीडिया हैंडल्स तथा वेबसाइट पर भी उपलब्ध है। आप सभी से अनुरोध है कि आप गूगल प्ले स्टोर से हिंदी विवेक का एप्प डाउनलोड करें। https://play.google.com/store/apps/details?id=org.hindivivek.cordova साथ…

न्यायपालिका को अधिक मजबूत करना होगा

Continue Reading

स्वाधीनता के बाद अदालतों में आए बदलावों, मुकदमों में होने वाली देरी, उनके कारणों, कसाब मामला व न्याय व्यवस्था की अन्य समस्याओं पर प्रसिद्ध अधिवक्ता उज्ज्वल निकम से हुई बातचीत के महत्वपूर्ण अंश प्रस्तुत है- 

विकास की अवधारणा और सोशल मीडिया

Continue Reading

पछले दो दशकों से इंटरनेट ने हमारी जीवनशैली को बदलकर रख दिया है। एक नये आभासी समाज और समुदाय का निरंतर निर्माण भी हो रहा है। हमारी जरूरतें, कार्य प्रणालियां, अभिरुचियां और यहां तक कि हमारे सामाजिक मेल-मिलाप और सम्बंधों के ताने-बाने को रचने में कंप्यूटर और इंटरनेट ही बहुत हद तक जिम्मेदार है।

उत्तर प्रदेश की पत्रकारिता

Continue Reading

उत्तर प्रदेश में पत्रकारिता का सम्बंध ईसाई मिशनरी विरोध और आजादी के आंदोलन से रहा है। यहां पत्रकार एवं पत्रकारिता दोनों अपनी मिशनरी कार्य शैली के कारण अपनी अलग पहचान बनाने में अग्रणी रहे हैं। हिंदी का पहला अख़बार १८२६ में ‘उदन्त मार्तंड&rsq

मीडिया के मंच पर मानवाधिकार का मुखौटा

Continue Reading

पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर के प्रश्न को राष्ट्रीय से अधिक सभ्यता से जुड़ा प्रश्न मानता रहा है। इसी मान्यता के आधार पर वह इस्लामी दुनिया को यह समझाने में एक हद तक सफल भी रहा है कि गजवा-ए-हिंद अथवा खिलाफत के इस्लामी स्वप्न का सर्वाधिक महत्वपूर्ण पड़ाव जम्मू-कश्

आर्थिक सुनामी, जनता, और मीडिया

Continue Reading

पिछले माह देश ने एक भयंकर सुनामी का सामना किया। यह सुनामी प्राकृतिक नहीं वरन् मानव निर्मित थी। काला धन रखने वालों के होश उड़ाने वाली थी। जी हां! यह सुनामी आर्थिक सुनामी थी। ८ नवम्बर की रात प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक पत्रकार परिषद में कड़े शब्दों में

मीडिया चौपाल में विकास और सरोकारों पर मंथन

Continue Reading

        विज्ञान-विकास और मीडिया पर हरिद्वार के निष्काम सेवा ट्रस्ट     में दो दिवसीय ‘मीडिया चौपाल’ सम्पन्न हुआ। विज्ञान, विकास और सामाजिक सरोकार के विषयों को केन्द्र में रख कर ‘मीडिया चौपाल&

चौपाल की चहल-पहल और सूनापन

Continue Reading

मैं बुन्देलखण्ड के एक गांव की चौपाल हूं। यहां की स्थानीय बोली में चौपाल को ‘अथाई’ कहते हैं जो शायद ‘अस्थायी’ का अपभ्रंश है, क्योंकि यहां की चहल-पहल अस्थायी और अनियमित रहती है। यहां कुछ भी पहले से निश्चित नहीं होता। लोग अनायास एक

End of content

No more pages to load

Close Menu