उत्तर-दक्षिण के बीच दरार बढ़ाती कांग्रेस!

Continue Reading उत्तर-दक्षिण के बीच दरार बढ़ाती कांग्रेस!

अगले कुछ महीने में पश्चिम बंगाल और असम सहित चार राज्यों में चुनाव होने वाले है। सभी राजनीतिक पार्टियाँ अपना अपना प्रचार भी शुरु कर चुकी है किसी की रथ यात्रा निकल रही है तो कोई मछलियाँ पकड़ रहा है जी हां हम बात कर रहे है राहुल गांधी की…

मोदी की तारीफ पर घिरे आजाद, कांग्रेसियों को क्यों है मोदी से नफ़रत?

Continue Reading मोदी की तारीफ पर घिरे आजाद, कांग्रेसियों को क्यों है मोदी से नफ़रत?

जून 2018 में जब प्रणब मुखर्जी संघ के एक कार्यक्रम में शामिल हुए तो उनकी पार्टी ने ही उनका विरोध शुरु कर दिया जबकि संघ के कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस की आलोचना तो दूर उसका जिक्र तक नहीं हुआ था फिर पार्टी के ही वरिष्ठ नेताओं में से एक प्रणब…

पद्मनाभ स्वामी मंदिर: सातवें दरवाजे के खुलते ही आ जायेगा प्रलय !

Continue Reading पद्मनाभ स्वामी मंदिर: सातवें दरवाजे के खुलते ही आ जायेगा प्रलय !

दक्षिण भारत का पद्मनाभ स्वामी मंदिर। यह मंदिर अपने धनवान होने के लिए जाना जाता है लेकिन इसके साथ ही मंदिर के कई रहस्य भी है जो कम लोगों को ही पता है। कुछ सालों पहले यह मंदिर पूरे देश में चर्चा का विषय था और उसकी वजह थी मंदिर…

स्टार्टअप, उद्यमिता और बैंकिंग को मिलेगी मजबूती

Continue Reading स्टार्टअप, उद्यमिता और बैंकिंग को मिलेगी मजबूती

नए केंद्रीय बजट में ऐसे अनुकूल प्रावधान हैं, जिनसे कोरोना महामारी के नकारात्मक प्रभावों से बैंकिंग क्षेत्र और भारतीय अर्थव्यवस्था को बहुत जल्द उबारने में मदद मिलेगी। स्टार्टअप, उद्यमिता, कृषि, रोजगार और बैंकिंग क्षेत्र की मजबूती के लिए उठाए जा रहे कदमों से अर्थव्यवस्था और अधिक गतिशील होगी।

समय रहते चेत गया हमारा देश

Continue Reading समय रहते चेत गया हमारा देश

माइक्रो ब्लॉगिंग सोशल मीडिया साइट्स ने संवाद के स्थान पर अफवाह के तंत्र को मजबूत करने का काम किया है। देश को आर्थिक और सामाजिक तौर पर कमजोर बनाने वाले षड्यंत्रों का हिस्सा बनने का काम किया है। यह अच्छा हुआ कि हमारा देश समय रहते चेत गया है।

योग से ठीक करें आधे सिर का दर्द (Migraine)

Continue Reading योग से ठीक करें आधे सिर का दर्द (Migraine)

'माइग्रेन या अधकपारी' यह आधुनिक युग की एक समस्या है और देश की एक बड़ी जनसंख्या इससे प्रभावित भी है। इससे ऑफिस जाने वाले या कहें कि खास कर वह लोग ज्यादा प्रभावित है जो कम्पयूटर या फिर लैपटॉप का इस्तेमाल ज्यादा करते है हालांकि कुछ ऐसे भी लोग इससे…

अध्यात्म एवं विज्ञान की प्रगति में ही मानवहित

Continue Reading अध्यात्म एवं विज्ञान की प्रगति में ही मानवहित

यह समझ सभी में निर्माण होने की आवश्यकता है कि अध्यात्म को अपंग एवं विज्ञान को अंधा बनाने से मनुष्य का कोई भी हित साध्य नहीं होगा। विज्ञानवादी अध्यात्म को चुनौती देकर अध्यात्म की अवहेलना न करें और अध्यात्मवादियों की ओर से वैज्ञानिक मूल्यों को पैरों तले न रौंदा जाए।

संत रैदास- धर्मांतरण के आदि विरोधी, घर वापसी के सूत्रधार

Continue Reading संत रैदास- धर्मांतरण के आदि विरोधी, घर वापसी के सूत्रधार

संत रैदास के नेतृत्व में उस समय समाज में ऐसा जागरण हुआ कि उन्होंने धर्मांतरण को न केवल रोक दिया बल्कि उस कठिनतम और चरम संघर्ष के दौर में मुस्लिम शासकों को खुली चुनौती देते हुए देश के अनेकों क्षेत्रों में धर्मांतरित हिन्दुओं की घर वापसी का कार्यक्रम भी जोरशोर से चलाया। धर्मांतरण के खतरों से आगाह कराने वाले वे पहले संत थे।

बालाकोट एयर स्ट्राइक: वायु सेना का आतंकियों से 90 सेकेंड का बदला

Continue Reading बालाकोट एयर स्ट्राइक: वायु सेना का आतंकियों से 90 सेकेंड का बदला

26 फरवरी 2019 की रात पाकिस्तान कभी नहीं भूल सकता है क्योंकि इसी दिन पाकिस्तान की सरज़मी पर भारत की सेना ने ऐसा तांडव किया था कि पाकिस्तानी आतंकियों की जान पर बन आयी थी और वह अपनी जान बचाने के लिए भाग रहे थे लेकिन इस ऑपरेशन की खास…

मोटापा: दवा नहीं योग से कम करें मोटापा

Continue Reading मोटापा: दवा नहीं योग से कम करें मोटापा

  आज के समय में शरीर का वजन बढ़ना बेहद ही आम बात हो चुकी है और इसके पीछे कोई एक कारण नही है। हमारा शरीर हमारी संस्कृति और परंपरा से बिल्कुल अलग हो चुका है यह पूरी तरह से अब पाश्चात्य सभ्यता के साथ जी रहा है जिससे शरीर…

नामुमकिन को भी मुमकिन करते है मेट्रो मैन श्रीधरन!

Continue Reading नामुमकिन को भी मुमकिन करते है मेट्रो मैन श्रीधरन!

'मेट्रो मैन' नाम से विख्यात ई श्रीधरन की काबिलियत से देश का करीब हर नागरिक परिचित है और उनके इस जज़्बे को सलाम भी करता है। 12 जून 1932 को केरल में जन्मे श्रीधरन पेशे से सिविल इंजीनियर है हांलाकि श्रीधरन देश के कोई पहले सिविल इंजिनियिर नही है जिसके लिए…

महात्मा ज्योतिबा फुले क्रांतिकारी समाज सुधारक

Continue Reading महात्मा ज्योतिबा फुले क्रांतिकारी समाज सुधारक

19 वीं शताब्दी के प्रबोधनकाल के अधिकांश समाजसुधारक उच्चवर्णीय थे तथा उनके सुधार का विषय सफेदपोश शहरी थे। इस पार्श्वभूमि में महात्मा ज्योतिबा फुले बहुजन, दलित, किसान की उन्नति के लिए वातावरण निर्माण करने वाले बहुजन समाज के पहले समाज सुधारक, वैचारिक लेखक थे। भारत में स्त्री शिक्षा की नींव इन्होंने ही रखी, उनके शैक्षणिक विचारों तथा कार्यों का स्वयं ब्रिटिश लोगों ने खुला सम्मान किया था। महात्मा फुले के पूरे कार्य में उनकी पत्नी सावित्री बाई का बहुमूल्य योगदान रहा है।

End of content

No more pages to load