स्वाभिमान को जागृत करने वाली वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई

Continue Readingस्वाभिमान को जागृत करने वाली वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई

विरला ही कोई ऐसा होगा जो महारानी लक्ष्मीबाई के साहस, शौर्य एवं पराक्रम को पढ़-सुन विस्मित-चमत्कृत न होता हो! वे वीरता एवं संघर्ष की प्रतिमूर्त्ति थीं। उनका जन्म 19 नवंबर 1828 को वाराणसी में हुआ था। मात्र 29 वर्ष की अवस्था में अँग्रेजों से लड़ते हुए 18 जून, 1858 को…

खूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी

Continue Readingखूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी

भारतीय इतिहास वीर गाथाओं से भरा पड़ा है और आज जब  देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है तब इन गाथाओं को स्मरण कर इतिहास को जीवंत करना समीचीन है । महारानी लक्ष्मीबाई की गाथा ऐसी ही एक अनुपम वीरगाथा है । महारानी लक्ष्मीबाई उन महान क्रांतिकारी योद्धाओ में…

सशस्त्र क्रांतिकारी व मानवकल्याण के विचारों के संवाहक महर्षि अरविंद

Continue Readingसशस्त्र क्रांतिकारी व मानवकल्याण के विचारों के संवाहक महर्षि अरविंद

‘कारागार में मुझे एक संदेश प्राप्त हुआ है। ईश्वर ने मुझे यह बताया है कि सनातन धर्म की रक्षा और प्रचार-प्रसार के लिए मेरा जीवन है। मेरा आगे का जीवन स्वयं के लिए नहीं तो अपितु विश्व के कल्याण के लिए है। सनातन धर्म में चैतन्य निर्माण करने के लिए मेरा जीवन समर्पित करना है।’                                                                                                                                 -महर्षि अरविंद

सावरकर और गांधी के संबंधों पर प्रश्न उठाने वाले सच्चाई देखें

Continue Readingसावरकर और गांधी के संबंधों पर प्रश्न उठाने वाले सच्चाई देखें

वीर सावरकर या उनके जैसे दूसरे स्वतंत्रता सेनानियों ने कल्पना भी नहीं की होगी कि उनके देश के लोग ही कभी उनके शौर्य, वीरता और इरादे पर प्रश्न उठाएंगे। वीर सावरकर के साथ त्रासदी यही है कि वैचारिक मतभेदों के कारण एक महान स्वतंत्रता सेनानी, योद्धा, समाज सुधारक, लेखक ,कवि…

कविता में आंदोलन की गूंज

Continue Readingकविता में आंदोलन की गूंज

एक लंबे संघर्ष और बलिदान के पश्चात ही भारत स्वधीन हो सका और देश मेंं गणतन्त्र कि स्थापना हुई । इसके पूर्व सुल्तानों और अंग्रेजों का शासन कैसा था, यह सर्वविदित है ।

End of content

No more pages to load