आत्मरक्षा में भी बने आत्मनिर्भर

Continue Readingआत्मरक्षा में भी बने आत्मनिर्भर

बात उन दिनों की है जब बिहार एक तथाकथित गरीबों के मसीहा बने महाडकैत की मुट्ठी में था,सभी तरह के अपराधी चाहे वे छोटेमोटे पॉकेटमार, अपहरणकर्ता हों या नक्सली संगठन जैसे संगठित समूह,, निर्भीक निश्चिन्त और अनियंत्रित थे।पूर्वजों द्वारा बनाये भव्य सुविधासम्पन्न घर के होते हमारे परिजन गाँव छोड़कर शहरों…

सुनियोजित हिंसा की नई सुरक्षा चुनौती

Continue Readingसुनियोजित हिंसा की नई सुरक्षा चुनौती

हिंदू धर्म की शोभा यात्राओं पर हमले का क्रम राजधानी दिल्ली तक पहुंच गया । जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती की शोभायात्रा पर भीषण हमला और आगजनी ठीक वैसे ही है जो हम मध्य-प्रदेश के खरगोन से गुजरात के खंभात तक देख चुके हैं । राजस्थान के करौली से लेकर देश…

End of content

No more pages to load