हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

आज इतवार था। महक बहुत खुश थी क्योंकि उसके मम्मी पाप आज उसे मछलीघर दिखाने वाले थे। इसी लिए आज महक जल्दी से उठ गयी और तैयार हो गयी। नाश्ता किया और फिर सब मछलीघर देखने के लिए चल पड़े।

मछलीघर बहुत बड़ा था।  लेकिन रंग बिरंगी और  छोटी बड़ी मछलियाँ देखने के लिए महक दौड़ दौड़ कर हर मछली के टैंक की तरफ भागी जा रही थी।

नीला सा पानी और उसमे तैरती मछलियाँ कभी इधर जाती कभी उधर जाती, कभी छोटी छोटी चट्टानों के पीछे छिप जाती, कभी मस्ती करते हुए एक दूसरे से मुँह मिलाती मानो एक दूसरे से बातें कर रही हों।  कभी मुँह से पानी के बुलबुले निकालती।

यह सब देख महक के मन में विचार आया कि काश! मैं मछली होती तो मैं भी इसी तरह पानी में तैरती और मस्ती करती।

This Post Has One Comment

Leave a Reply to रमाशंकर वैश्य Cancel reply

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: