स्कूलों में भगवत गीता की पढ़ाई हो अनिवार्य!

Continue Readingस्कूलों में भगवत गीता की पढ़ाई हो अनिवार्य!

गीता उस महाभारत का हिस्सा है जिसका युद्ध 18 दिनों तक चला था और इस युद्ध ने इतिहास रच दिया लेकिन इस युद्ध के बीच से निकली यह गीता हमें नैतिकता, समाज कल्याण और हमारे कर्तव्यों के बारे में बताती है। गीता हमें यह बताती है कि हमें समय समय…

दुनिया में भारत और हिन्दू धर्म का बजा डंका

Continue Readingदुनिया में भारत और हिन्दू धर्म का बजा डंका

हिंदुत्व की बात शुरू होते ही सबसे पहले जिस सन्यासी का नाम याद आता है वो नाम अधिकांश लोगों के लिए स्वामी विवेकानंद का होगा। उन्हें ख़ास तौर पर उनके “शिकागो व्याख्यान” के लिए याद किया जाता है।  ये जो सर्व धर्म सम्मलेन हो रहा था, वो शिकागो के एक…

स्वामी विवेकानन्द जी की राष्ट्रीय प्रेरणा

Continue Readingस्वामी विवेकानन्द जी की राष्ट्रीय प्रेरणा

सन १८६३ के प्रारंभ में, १२ जनवरी को स्वामी विवेकानंद का जन्म हुआ हैं उस समय देश की परिस्थिति कैसी थी? १८५७ के क्रन्तियुध्द की ज्वालाएं बुझ रही थी।  यह युध्द छापामार शैली में लगभग १८५९ तक चला। अर्थात स्वामी विवेकानंद के जन्म के लगभग ४ वर्ष पहले तक इस…

स्वामी विवेकानंद: कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति से बदल सकता है भारत

Continue Readingस्वामी विवेकानंद: कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति से बदल सकता है भारत

युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को बंगाल में हुआ था। उनका बचपन का नाम नरेंद्र दत्त था। स्वामी विवेकानंद की जयंती को देश में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन युवाओं को कुछ करने की प्रेरणा देता है। हमारे देश…

50वां विजय दिवस: 1971 युद्ध में भारत ने पाक को दिया था करारा जवाब

Continue Reading50वां विजय दिवस: 1971 युद्ध में भारत ने पाक को दिया था करारा जवाब

भारत में हर साल 16 दिसंबर को 'विजय दिवस' के रूप में मनाया जाता है। इस बार भारत और बांग्लादेश में 50वीं विजय दिवस वर्षगांठ मनाई जायेगी। इस दिन भारत को पाकिस्तान पर जीत हासिल हुई थी और बांग्लादेश एक अलग देश बना था इससे पहले तक इसे पूर्वी पाकिस्तान…

अमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

Continue Readingअमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

कई अमेरिकी राज्यों ने अक्टूबर माह को हिंदू विरासत माह घोषित किया है। उनका मानना है कि हिंदू धर्म ने अपनी अद्वितीय विरासत से अमेरिका के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 1960 के दशक में बहुत से अमेरिकियों का हिंदू धर्म से परिचय 'ध्यान' व 'साधना' के माध्ये से…

रॉयल इंडियन एयरफोर्स से इंडियन एयरफोर्स तक का सफर

Continue Readingरॉयल इंडियन एयरफोर्स से इंडियन एयरफोर्स तक का सफर

''नभः स्पृशं दीप्तम'' भारतीय वायु सेना की स्थापना आजादी से पहले ही हो चुकी थी लेकिन तब ब्रिटिश सरकार की तरफ से उसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स नाम दिया गया था जबकि आजादी के बाद रॉयल शब्द को निकाल दिया गया और यह इंडियन एयरफोर्स यानी भारतीय वायुसेना बन गयी। 8…

Everything About Snow Leopard In Hindi | गिरि राजा हिम तेंदुआ के बारे में हिंदी में

Read more about the article Everything About Snow Leopard In Hindi | गिरि राजा हिम तेंदुआ के बारे में हिंदी में
Snow Leopard
Continue ReadingEverything About Snow Leopard In Hindi | गिरि राजा हिम तेंदुआ के बारे में हिंदी में

हिम तेंदुआ जिद्दी और तेजतर्रार प्राणी हैा वह 15 मीटर तक की छलांग आसानी से लगा सकता हैा वह यद्दपि निशाचर है; फिर भी कई बार दिन में भी शिकार करता हैा ऊंचे पर्वतों पर से लुकते छिपते संचार करते समय वह निचले इलाके में आहार विहार करते प्राणियोंं पर नजर रखता है। उसकी आंखोंं की पुतलियां गोल होती हैं और उनमें कोई रेखा नहीं होती।

प्यार का भूत

Continue Readingप्यार का भूत

प्रेम करना कोई गुनाह नहीं है, प्रेम में जाति-धर्म, ऊंच-नीच का भी बंधन नहीं है, पर जीवन भर के साथ के लिए जिंदगी में सही निर्णय लेना बहुत जरूरी है, जो तुम्हें लेना है। सच्चा प्यार, विश्वास, संस्कार, परिवार, रीति-रिवाज आदि ये सब वैवाहिक जीवन के आधार हैं।

तांबे की गागर

Continue Readingतांबे की गागर

तांबे के उस गागर सी थी सिया, जिसमें पानी केवल रखा भी रहे तो शुद्ध ही होता है। उसकी आंखों की चमक किसी पहाड़ी झील सी लगती थी और होंठों पर जब मुस्कुराहट आती तो लगता था कि मानो कई दिनों बाद बर्फ की ठंडक को तोड़ती पहाड़ की धूप खिली हो। उसके आने से ही तो इतनी रौशनी आई थी जीवन में कि हर एक क्षण किसी पूजा की थाली के दिये सा रौशन था।

पल्लू रस्म

Continue Readingपल्लू रस्म

यह बात विचारणीय है कि पिता के मरने पर यदि बेटे के सिर पर पगड़ी बांधी जाती है, तो सास के बाद उसकी बहू के सिर पर पल्लू क्यों नहीं रखा जाता? शर्माजी के गांव वालों ने एक रास्ता दिखाया है। इस पर विचार होना चाहिए।

भाग्य विधाता

Continue Readingभाग्य विधाता

अस्मिता ने सीतापुर की जिलाधिकारी के रूप में पहली बार जिलाधिकारी कार्यालय में कदम रखा। उस दिन वह अपने तेजस्वी व्यक्तित्व और इकहरे बदन पर उजले लिबास में जैसे कोई देवकन्या लग रही थी। सीतापुर से स्थानांतरित हुए जिलाधिकारी श्री अवधेश पचौरी ने उसका स्वागत करते हुए सभी से उसका परिचय कराया तो सभी अधीनस्थ कर्मचारियों ने उसे सैल्यूट किया।

End of content

No more pages to load