हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

कास्टिंग डायरेक्टर अभिषेक बनर्जी की इन दिनों काफी चर्चा हो रही है। लेकिन ये चर्चा उनके कास्टिंग डायरेक्टर से इतर एक अभिनेता के रूप में ज्यादा की जा रही है।

अभिषेक बनर्जी वो इंसान हैं जो मुम्बई एक्टर बनने आये थे। लेकिन यहाँ उनके मन – मुताबिक कुछ न होते देख उन्होंने वापस लौटने का इरादा कर लिया। कहानी ने यहीं से मोड़ लिया और कास्टिंग से जुड़े कुछ लोगों के संपर्क में आने पर अपना निर्णय बदलकर वे इस प्रॉफेशन में काम करने लगे। कास्टिंग असोसिएट के रूप में उनकी पहली फ़िल्म थी “वन्स अपॉन ए टाइम इन मुम्बई”। फ़िल्म में उनके काम को सराहा गया और बतौर कास्टिंग डायरेक्टर उन्होंने पहली फ़िल्म की विद्या बालन, नसीरुद्दीन शाह और इमरान हाशमी जैसे सितारों से सजी “डर्टी पिक्चर”। अपनी टीम के साथ उन्होंने कई फिल्मों की कास्टिंग की। एक अभिनेता के रूप में अभिषेक ने वेब सीरीज़ में काम किया। उनके काम को देखते हुए उन्हें फिल्मों और वेब सीरीज़ में और काम मिलने लगा। लेकिन सहायक अभिनेता के रूप में अभिषेक को पहचान मिली वेब सीरिज “मिर्ज़ापुर” से। इस वेब सीरिज़ में अभिषेक ने मुन्ना भइया बने दिव्येन्दु शर्मा के दोस्त का किरदार निभाया था। काफी चर्चाओं में रही हॉरर – कॉमेडी जॉनर की फ़िल्म “स्त्री” में भी अभिषेक के किरदार की काफी सराहना हुई। “स्त्री” में अभिषेक ने राजकुमार राव के दोस्त की भूमिका अदा की थी। हाल ही में अभिषेक, आयुष्मान खुराना की फ़िल्म “ड्रीम गर्ल” में भी नजर आए थे। अब एक बार फिर वे दर्शकों को हंसाने के लिए तैयार हैं। 8 नवंबर को अमर कौशिक के निर्देशन में बनी आयुष्मान खुराना की फ़िल्म “बाला” रिलीज़ हो रही है। इस फ़िल्म में अभिषेक ने बाला के दोस्त की भूमिका निभाई है, जो एक हेयर सैलून चलाता है और बाला को उसके गंजेपन से छुटकारा दिलाने के लिए तरह – तरह के ज्ञान देता है। अभिषेक एक कास्टिंग कंपनी भी संचालित कर रहे हैं जिसके माध्यम से कई बड़ी फिल्मों की कास्टिंग की जा चुकी है और कई प्रोजेक्ट कतार में हैं।

 

This Post Has One Comment

  1. बहुत ख़ूब। एक अच्छी और सधी हुई समीक्षा।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: