उत्तराखंड मेरी आत्मा है मुंबई मेरा शरीर

Continue Readingउत्तराखंड मेरी आत्मा है मुंबई मेरा शरीर

उत्तराखंड मेरी आत्मा है तो महाराष्ट्र का मुंबई शहर मेरा शरीर। जिस तरह आत्मा और शरीर एक दूसरे के बगैर नहीं रह सकते, उसी प्रकार उत्तराखंड और मुंबई इन दोनों के बिना मैं नहीं जी सकता।’ ऐसा कहना है मूवी मैजिक एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के एम.डी. राजेश नेगी का। मूलत: उत्तराखंड के राजेश नेगी ने अपने मुंबई तथा उत्तराखंड के अनुभव हिंदी विवेक के साथ साझा किए। प्रस्तुत है उसके सम्पादित अंश -

आर्यन खान की गिरफ्तारी पर नवाब मलिक की समीर वानखेडे को खुली धमकी

Continue Readingआर्यन खान की गिरफ्तारी पर नवाब मलिक की समीर वानखेडे को खुली धमकी

ड्रग्स केस में शाहरुख के बेटे आर्यन खान जेल में बंद हैं। उनके साथ कुछ और लोगों का नाम भी शामिल है इन सभी से NCB के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं और इस केस की सुनवाई कोर्ट में भी चल रही है लेकिन अब यह केस राजनीतिक मोड़ भी ले…

एक सच्ची, सामान्य लेकिन अजीब मानसिकता…

Continue Readingएक सच्ची, सामान्य लेकिन अजीब मानसिकता…

भारत में क्रिकेट, सिनेमा और राजनीति को कल्पना से परे प्यार किया जाता है।  समर्थकों या प्रशंसकों और सेलिब्रिटी के बीच भावनात्मक बंधन बहुत तीव्र है।  स्टारडम फॉलोअर्स, तथाकथित स्टार के भीतर  एक अलग तरह का एटीट्यूड बनाता है।  कुछ हस्तियां यह सोचने लगती हैं कि वे भूमि के कानून…

सिनेमा और वायु सेना की साझी उड़ान

Continue Readingसिनेमा और वायु सेना की साझी उड़ान

हम देखते हैं कि रजतपट के रंगीन होने के बाद सिनेमा ने भारतीय वायु सेना को भी अपने बहुविध विषयों की माला के मनके के रूप में शामिल किया है। सिनेमा और वायु सेना के साझे सफर की यह उड़ान आगे चलकर कहां तक पहुंचेगी, यह देखना दिलचस्प होगा।

रियल से रील पर

Continue Readingरियल से रील पर

इतिहास को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का वक्त अब जा चुका है। अब वक्त उसे ठीक करने का है। इसमें दर्शक वर्ग की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाती है। यदि वे अच्छे कंटेंट को अपना समर्थन देंगे तो उसी तरह का कंटेंट बनाने के लिए फिल्मकार मजबूर होंगे। आज का दर्शक जागरूक है। अब वे किसी बात को ऐसे ही स्वीकार नहीं करता है। ये बात ‘शेरशाह’ को मिली सफलता और ‘भुज द प्राइड‘ को मिली असफलता से सिद्ध हो जाती है। वहीं जिस तरह से ‘द एम्पायर’ का विरोध हो रहा है, उससे आगे की कड़ियों को बनाने से पहले निर्माताओं को अवश्य सोचना पड़ेगा।

सिद्धार्थ शुक्ला की मौत को सुशांत सिंह के क्यों जोड़ा जा रहा है ?

Continue Readingसिद्धार्थ शुक्ला की मौत को सुशांत सिंह के क्यों जोड़ा जा रहा है ?

टेलीविजन जगत के जाने माने एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया हालांकि उनकी यह उम्र अभी लोगों से विदा लेने की नहीं थी लेकिन भगवान की मर्जी के आगे किसी की नहीं चलती है। सिद्धार्थ शुक्ला के निधन से पूरा बॉलीवुड उदास है क्योंकि सिद्धार्थ शुक्ला…

आत्मनिर्भरता में मनोरंजन क्षेत्र की भूमिका

Continue Readingआत्मनिर्भरता में मनोरंजन क्षेत्र की भूमिका

आज भारत को आत्मनिर्भर बनाने की बात हो रही है। उसी स्वर्णिम गौरव शाली वैभव को वापस पाने की बात की जा रही है जब हमारे देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था। इस स्वप्न को साकार करने में मनोरंजन जगत की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है।

फिल्मों में बढ़ती अभारतीयता और इस्लामिक प्रभाव

Continue Readingफिल्मों में बढ़ती अभारतीयता और इस्लामिक प्रभाव

सच पूछिए तो अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर फिल्मों ने एक मीठे जहर की तरह हमें हमारे ही विरुद्ध कब खड़ा कर दिया गया पता ही नहीं चला। आज भगवान का मज़ाक उड़ाती ‘ओह माई गॉड’, ‘पीके’ जैसी फिल्मों को देख कर लोग ताली बजाते हैं। लेकिन क्या कभी अल्लाह का मज़ाक उड़ाती किसी फिल्म को आपने देखा है?

पति बेचारा….. कोरोना और बारिश का मारा

Continue Readingपति बेचारा….. कोरोना और बारिश का मारा

“पत्नी ने भी झूठा गुस्सा दिखाते हुए एक गैस पर चाय का बर्तन और दूसरे पर कढ़ाई चढ़ा दी। साथ ही अपने भी वॉट्सएप्प ज्ञान का परिचय देते हुए पति को नसीहत भी दे डाली कि कल से रोटियां बनाना सीख लो क्योंकि मोदी जी ने कहा है कि जब तक देश के सारे मर्द गोल रोटियां बनाना नहीं सीख लेते तब तक लॉकडाउन नहीं खुलेगा।”

अभिनय में भी झंडे गाड़ रहे कास्टिंग डायरेक्टर अभिषेक बनर्जी

Continue Readingअभिनय में भी झंडे गाड़ रहे कास्टिंग डायरेक्टर अभिषेक बनर्जी

"वन्स अपॉन ए टाइम इन मुम्बई"। फ़िल्म में उनके काम को सराहा गया और बतौर कास्टिंग डायरेक्टर उन्होंने पहली फ़िल्म की विद्या बालन, नसीरुद्दीन शाह और इमरान हाशमी जैसे सितारों से सजी "डर्टी पिक्चर"। अपनी टीम के साथ उन्होंने कई फिल्मों की कास्टिंग की। एक अभिनेता के रूप में..

बॉलीवुड हॉरर फिल्में भी हैं दर्शकों की ख़ास पसन्द

Continue Readingबॉलीवुड हॉरर फिल्में भी हैं दर्शकों की ख़ास पसन्द

बॉलीवुड में फिल्में तो हर शुक्रवार रिलीज़ होती हैं लेकिन वो फिल्में जो जनता को सिनेमा घर से लेकर अपने घर तक एक डर के साये से घेर लें, हर हफ्ते देखने को नहीं मिलतीं - जी हाँ "हॉरर फिल्में" अपनी विशिष्टता के कारण लोगों में एक क्रेज़ पैदा करतीं हैं।

 क़लम के बादशाह – कैफ़ी

Continue Reading क़लम के बादशाह – कैफ़ी

 1951 में फ़िल्म 'बुज़दिल' से फ़िल्म इंडस्ट्री में बतौर गीतकार प्रवेश करने वाले और फिर वर्षों तक गीतों की दुनिया पे राज करने वाले कैफ़ी आज़मी ने अपने जीवन में पहली बार शायरी तब की थी जब वे मात्र ग्यारह वर्ष के थे।

End of content

No more pages to load