कुकिंग ऑयल से जुड़ी ये ख़ास बातें जानते हैं आप?

भारतीय किचन में खाना बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ कुकिंग ऑयल को माना जाता है। इसका इस्तेमाल देश में हर प्रकार के क्यूज़ीन में होता है। कुकिंग ऑयल ही मसालों के स्वाद को उभारता है और स्वाद को दुगुना बना देता है। लेकिन कुकिंग ऑयल को लेकर हमेशा हमारे मन में उलझन बनी रहती है। हम कभी यह तय नहीं कर पाते कि कौन सा कुकिंग ऑयल हमारी सेहत के लिए फायदेमंद है। इसीलिए एक्सपर्ट समय-समय पर कुकिंग ऑयल को बदल-बदल कर खाने की सलाह देते हैं। आइए आज हम आपको कुकिंग ऑयल से संबंधित कुछ ऐसी खास बातें बताते हैं, जो आपकी सेहत को बेहतर बना सकती हैं।

क्यों बंद ना करें कुकिंग ऑयल का इस्तेमाल? 

अक्सर हम कुकिंग ऑयल को खाने से हटाने की कोशिश करने लगते हैं। यदि आप सोचते हैं कि बगैर तेल के खाना बनाना आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है, तो आप गलत हैं। रोजाना सीमित मात्रा में यदि खाने में तेल डाला जाए, तो यह नसों में ब्लड फ्लो को बेहतर बनाता है और धमनियों में जमाव को रोकता है। साथ ही कुकिंग ऑयल में कई ज़रूरी फैटी एसिड होते हैं, जो खाना पचाने में सहायता करते हैं। साथ ही इससे आपकी त्वचा और बालों की खूबसूरती बनी रहती है।

एक दिन में कितना ऑयल ज़रूरी?

आपने अक्सर लोगों को इस उलझन में देखा होगा कि एक दिन में कितना तेल खाना एक सेहतमंद व्यक्ति के लिए फायदेमंद है। इसका जवाब बेहद आसान है। किसी भी सेहतमंद व्यक्ति को 1 दिन में 1 टेबलस्पून यानी कि 15 से 20 मिली लीटर तेल का सेवन करना चाहिए। बाकी ज़रूरी फैट शरीर को दालों, सब्ज़ियों और अनाज से मिल जाता है।

कुकिंग ऑयल को बदल-बदल कर क्यों खाएं? 

एक्सपर्ट मानते हैं कि तेल को बदल-बदल कर खाना हमारी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। 3 महीने में एक बार कुकिंग ऑयल बदलना आपकी सेहत में चार चांद लगा सकता है। तेल में पॉलीअनसैचुरेटेड, मोनोसैचुरेटेड और अनसैचुरेटेड फैट होते हैं। अलग-अलग तेलों में इन फैट्स की मात्रा भी अलग-अलग होती है। इसीलिए कुकिंग ऑयल को बदल-बदल कर खाना हमारे लिए फायदेमंद साबित होता है।

यदि कुकिंग ऑयल की बात करें। तो ऑलिव ऑयल, राइस ब्रैन, कनोला ऑयल, सोयाबीन और सरसों का तेल आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। इन तेलों में से सरसों का तेल सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि इसमें ओमेगा-3 और ओमेगा-6 सही अनुपात में होता है। जो न सिर्फ दिल की बीमारियों को ठीक करता है, बल्कि दिल की बीमारियों का खतरा भी 60 प्रतिशत तक कम कर देता है। यह डायबिटीज़ को भी कंट्रोल में रखता है और शरीर को अन्य सेहतमंद फायदे पहुंचाता है। इसीलिए कुकिंग ऑयल का हर 3 महीने में बदलकर खाना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

इस तरह बेहद सामान्य खाद्य पदार्थ होने के बावजूद कुकिंग ऑयल का आपकी सेहत में बड़ा महत्व माना जाता है।

आपकी प्रतिक्रिया...