डाकघर की स्थापना और टिकट का इतिहास

Continue Readingडाकघर की स्थापना और टिकट का इतिहास

भारत में डाक सेवा करीब 171 साल पुरानी है और यह ब्रिटिश राज के समय से लगातार सेवा देती आ रही है। डाकघर की स्थापना 1 अप्रैल 1854 को हुई थी लेकिन उसकी सेवाएं 1 अक्टूबर 1854 से शुरू हुई। यह काल ब्रिटिश सरकार का था और उनके अंतर्गत पहले से ही…

सर्जिकल स्ट्राइक : एक रात की पूरी कहानी

Continue Readingसर्जिकल स्ट्राइक : एक रात की पूरी कहानी

  भारत को हमेशा से ही गांधी का देश कहा गया है और गांधी जी हमेशा से ही अहिंसा के साथ चले थे। इसलिए ही भारत ने कभी भी किसी देश पर पहले हमला नहीं किया है लेकिन भारत की इस नीति का दुश्मनों ने गलत फायदा उठाया और बार…

भव्यता से मना साहित्यकार सम्मान समारोह एवं पुस्तक लोकार्पण कार्यक्रम

Continue Readingभव्यता से मना साहित्यकार सम्मान समारोह एवं पुस्तक लोकार्पण कार्यक्रम

तुलसी साहित्य संस्कृति अकादमी न्यास एवं पं. हरप्रसादपाठक- स्मृति साहित्य पुरस्कार समिति  का संयुक्त आयोजन 58 विशिष्ट साहित्यकारों का हुआ सम्मान, 8 नव प्रकाशित पुस्तकों का हुआ लोकार्पण। मथुरा। तुलसी साहित्य संस्कृति अकादमी न्यास तथा पं. हरप्रसाद पाठक स्मृति साहित्य पुरस्कार समिति के संयुक्त तत्वावधान में भव्यता के साथ साहित्यकार सम्मान…

एकात्म मानववाद: तंत्र में मानवीय मंत्र स्थापना का सिद्धांत

Continue Readingएकात्म मानववाद: तंत्र में मानवीय मंत्र स्थापना का सिद्धांत

भारत को देश से बहुत अधिक आगे बढ़कर एक राष्ट्र के रूप में और इसके अंश के रूप में यहां के निवासियों को नागरिक नहीं अपितु परिवार सदस्य के रूप में मानने के विस्तृत दृष्टिकोण का अर्थ स्थापन यदि किसी राजनैतिक भाव या सिद्धांत में हो पाया है,

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के माध्यम से युवा और राष्ट्र निर्माण

Continue Readingराष्ट्रीय शिक्षा नीति के माध्यम से युवा और राष्ट्र निर्माण

 "शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है, जिसका उपयोग आप दुनिया को बदलने के लिए कर सकते हैं।"  -नेल्सन मंडेला  वर्तमान मैकाले शिक्षा प्रणाली बनाम गुरुकुल शिक्षा प्रणाली  संयुक्त राज्य अमेरिका के विश्वविद्यालयों में से एक ने अपनी सफलता के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में सफल…

चिकित्सा क्षेत्र में हो उत्कृष्टता के प्रयास

Continue Readingचिकित्सा क्षेत्र में हो उत्कृष्टता के प्रयास

हमें यह विश्लेषण करने की आवश्यकता है कि हम महाराष्ट्र, केरल, दिल्ली जैसे कुछ राज्यों में कोरोना के द्वितीय चरण में एक टीम के रूप में कहां विफल हुए हैं, जिसके परिणामस्वरूप कोविड रोगियों और मौतों में वृद्धि हुई। ऐसे कई उदाहरण थे जहां इंजेक्शन, दवाओं, ऑक्सीजन की आवश्यकता और बिस्तर के अति आवश्यकता के कारण लोगों का शोषण किया गया। बहुत से लोगों ने अपनी छोटी सी जमा पूंजी भी खो दी है। दूसरे चरण में जो भी गलतियां हुई हैं, उससे तीसरे चरण में किसी भी अनहोनी से बचने के लिए हमें सबक सीखने की जरूरत है।

राष्ट्र के निर्माण में शिक्षा एवं शिक्षकों का योगदान

Continue Readingराष्ट्र के निर्माण में शिक्षा एवं शिक्षकों का योगदान

कानपुर की एक सभा में भारत के वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का एक चित्र ध्यानाकर्षण का केंद्रबिंदु बना, जिसमें वे मंच से उतरने के पश्चात सभागार में बैठे अपने शिक्षकों के चरणस्पर्श कर उनसे आशीर्वाद प्राप्त कर रहे थे। यही भारत की संस्कृति और संस्कार हैं।

कृष्ण: व्यक्ति एक रूप अनेक

Continue Readingकृष्ण: व्यक्ति एक रूप अनेक

आज भी वंशी बजैया, रास रचैया, गाय चरैया, लोक लुभैया, गोपियों के वस्त्र उठानेवाले, माखन चुराने वाले, मटकी फोड़ने वाले कृष्ण-रूप का ही सर्वत्र बोलबाला है। श्रीकृष्ण वादक हैं, नर्त्तक हैं, मुरलीधर हैं, चक्रधारी हैं, गीता के प्रवर्त्तक हैं, धर्म-संस्थापक हैं, मर्यादा-स्थापक हैं, निर्बलों के रक्षक, असुरों के संहारक हैं, वे देश के स्वाभिमान और शौर्य के प्रतीक भी हैं। कथा-काव्यों से लेकर प्रसंगों-प्रवचनों-आख्यानों में उनके समग्र रूप के दर्शन होने चाहिए| 

अफगानिस्तान : महिलाओं के मिनी स्कर्ट से बुर्का तक की कहानी

Continue Readingअफगानिस्तान : महिलाओं के मिनी स्कर्ट से बुर्का तक की कहानी

तालिबान का कब्जा करीब पूरे अफगानिस्तान पर हो चुका है और यह पूरी दुनिया देख रही है। तालिबानी हुकूमत में क्या क्या बदलने वाला है उसके कयास भी लगाए जा रहे है क्योंकि यह सभी को पता है कि तालिबान इस्लामिक राष्ट्र के तर्ज पर कानून बनाने वाला है और शरीया कानून महिलाओं…

‘चरैवेति! चरैवेति!!’ पुस्तक के तमिल संस्करण का तमिलनाडु के राजभवन में हुआ विमोचन

Continue Reading‘चरैवेति! चरैवेति!!’ पुस्तक के तमिल संस्करण का तमिलनाडु के राजभवन में हुआ विमोचन

पूर्व राज्यपाल श्री राम नाईक के संस्मरणों पर आधारित ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ पुस्तक का विमोचन समारोह तमिलनाडु के राजभवन में हर्षोल्लास के साथ संपन्न हुआ. तमिलनाडु के राज्यपाल श्री बनवारीलाल पुरोहित के करकमलों द्वारा तमिल भाषा में अनुवादित ‘मुन्नैरिदे! मुन्नैरिदे!!’ का लोकार्पण किया गया. इस दौरान राज्यपाल बनवारीलाल ने अपने वक्तव्य…

दरभंगा एम्स निर्माण हेतु घर-घर से किया जा रहा ईंट संग्रह   

Continue Readingदरभंगा एम्स निर्माण हेतु घर-घर से किया जा रहा ईंट संग्रह   

पटना । आठ अगस्त से मिथिला स्टूडेंट यूनियन (एमएसयू)के सदस्यों की ओर से दरभंगा एम्स निर्माण को लेकर घर-घर जाकर ईंट संग्रह करने का काम किया जा रहा है। एमएसयू के अभियान में आम लोग भी बढ़-चढ़ कर भाग ले रहे हैं। लाखों परिवार के लोगों ने एक ईंट देकर…

यति नरसिंहानन्द सरस्वती की हत्या की कोशिश!

Continue Readingयति नरसिंहानन्द सरस्वती की हत्या की कोशिश!

हमारे देश का यह दुर्भाग्य ही है कि अगर कोई हिन्दू कट्टरता की बात करता है तो उसे समाज एक दोषी या गुंडे के रूप में देखता है और डासना मंदिर के पुजारी यति नरसिंहानन्द सरस्वती अपने इन्ही कट्टर हिन्दू विचारों की वजह से चर्चा में रहते है। हालांकि उनका कहना…

End of content

No more pages to load