आखिर अपनी ही चाल में कैसे फंस गया ताहिर हुसैन?

दिल्ली हिंसा मामले में ताहिर हुसैन का नाम जोरों से मिडिया में चल जा रहा था और इसी बीच यह भी खबर आयी कि ताहिर घर से फरार हो चुका है। मिडिया ने वैसे भी उनके घर की हकीकत दुनिया से सामने दिखा दी थी जिसके बाद फरार होने के अलावा ताहिर हुसैन के पास कोई दूसरा रास्ता नहीं बचा था। लेकिन उसकी यह मंशा ज्यादा समय तक नहीं चल सकी और पुलिस ने गुरुवार को ताहिर हुसैन को गिरफ्तार कर लिया। ताहिर हुसैन ने कोर्ट में सरेंडर के लिए अर्जी दाखिल की थी, लेकिन कोर्ट ने सुनवाई करते हुए उसे खारिज कर दिया।

दरअसल ताहिर हुसैन कोर्ट में हाजिर होने के लिए पहले ही याचिका डाल रखी थी और उसके वकीलों द्वारा तारीख भी तय कर दी गयी थी ताकि सही समय पर कोर्ट में हाजिर हो कर तुरंत जमानत ली जा सके, लेकिन यह मुमकिन नही हो पाया और पुलिस ने ताहिर हुसैन को कोर्ट की पार्किंग से गिर्फ्तार कर लिया।

दरअसल ताहिर ने एक चैनल को इंटरव्यू दिया और इस बात का खुलासा भी कर दिया कि वह कोर्ट में सरेंडर करने वाला है। जिसके बाद दिल्ली पुलिस चौकन्नी हो गयी और ताहिर हुसैन ने जैसे ही कोर्ट में प्रवेश किया पुलिस ने उसे गिफ्तार कर लिया। खबरों की मानें तो ताहिर हुसैन से क्राइम ब्रांच पुलिस पूछताछ कर रही है और दिल्ली दंगों के बारे में और अधिक जानकारी निकालने की कोशिश कर रही है।

आप को बता दें कि ताहिर हुसैन पर आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा की हत्या और दिल्ली दंगे के साथ साथ कई और भी आरोप लगे हुए है। अंकित शर्मा के परिवार वालों ने ताहिर का खुलकर नाम लिया था और कहा था कि ताहिर के घर में ही अंकित शर्मा की चाकुओं से हत्या की गयी थी, अंकित शर्मा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक उन पर 400 से ज्यादा बार चाकुओं से हमला किया गया था। हालांकि इस हत्या का अभी तक पुलिस की तरफ से कोई भी खुलासा नहीं हुआ है कि ताहिर हुसैन इस हत्या में शामिल है या नहीं।

आम आदमी पार्टी से पार्षद रहे ताहिर हुसैन के विवादों में आने के बाद से पार्टी ने उसे सभी पदों से बाहर का रास्ता दिखा दिया। केजरीवाल ने एक ताहिर हुसैन से जुड़े एक सवाल के जवाब में कहा था कि अगर दोषी आम आदमी पार्टी का होगा तो उसे ज्यादा सजा मिलनी चाहिए।

आपकी प्रतिक्रिया...