24 फरवरी को ताहिर ने किसे किये 150 कॉल्स, पुलिस ने किया यह बड़ा खुलासा

दिल्ली हिंसा को लेकर सरकार ने जांच शुरु कर दी है और अब तक कई लोगों की गिरफ्तारी भी हो चुकी है लेकिन इन गिरफ्तारियों में ताहिर हुसैन का नाम सबसे प्रमुख है क्योंकि उस पर दिल्ली दंगों के अलावा हत्या का भी आरोप लगा है। पुलिस की पूछताछ जारी है लेकिन खबरों की मानें तो ताहिर पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहा है जिससे उसकी मुसीबत और भी बढ़ सकती है। अधिकारियों के मुताबिक ताहिर के पास दंगो को लेकर बहुत सारी जानकारी मौजूद है जिसके खुलासे के बाद और कई बड़े नाम भी सामने आ सकते है लेकिन फिलहाल में ताहिर सहयोग करने को तैयार नही है और खुद को दंगों से दूर बता रहा है।

ताहिर ने पुलिस को बताया कि दंगे वाले दिन उसके छत पर उसकी पहचान के ही ज्यादातर लोग थे, इसके साथ ही तीन ऐसे लोग भी थे जो छत से बंदूक से फायरिंग कर रहे थे हालांकि उस गोली से किसी की मृत्यु हुई या नहीं  यह अभी तक साफ नही हो पाया है। पूछताछ में ताहिर ने कई लोगों के नामों का खुलासा किया और कुछ लोगों की पहचान विडियो के माध्यम से भी की गयी है। हालांकि ताहिर अभी भी झूठ बोल रहा है कि वह दंगे को रोकने की कोशिश कर रहा था और वह दंगे के दिन घर छोड़कर जा चुका था। ताहिर उस वक्त घर से फरार हुआ जब उसके घर का विडियो मिडिया में वायरल होने लगा और उसे पकड़ने जाने का डर सताने लगा। हालांकि बाद में पुलिस की कड़ी मशक्कत के बाद ताहिर को गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन उसके परिवार वाले अभी भी फरार है जिसकी जानकारी ताहिर को भी नही है कि उसके परिवार के लोग कहां और किस हालात में है।

पुलिस के मुतबिक ताहिर के पास एक पिस्टल भी है जिसका इस्तेमाल दंगे में हुआ था लेकिन वह अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लगी है क्योकिं ताहिर पिस्टल की सही जानकारी नहीं दे रहा है ताहिर के मुताबिक उसने अपनी पिस्टल किसी परिचित को दे रखी है जबकि पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक ताहिर ने करीब दो साल पहले एक पिस्टल खरीदी थी। फिलहाल पुलिस ताहिर की पिस्टल और मोबाइल दोनों बरामद करने की कोशिश में लगी हुई है क्योंकि पुलिस को उम्मीद है कि दंगे के मास्टरमाइंड ताहिर के मोबाइल और पिस्टल से और भी खुलासे हो सकते है। पुलिस ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया जिसमें यह पता चला है कि ताहिर ने 24 फरवरी की रात को 150 कॉल किया था। पुलिस का यह खुलासा इस बात की ओर इशारा करता है कि ताहिर दंगे के लिए कॉल कर के सभी को बुला रहा था।

ताहिर का कबूलनामा तो आना बाकी है लेकिन पुलिस की पूछताछ के बाद तो एक बात साफ है कि आम आदमी पार्टी से पार्षद रह चुका ताहिर कहीं ना कहीं इस दंगे से सीधे तौर पर चुड़ा हुआ है और उसे इस दंगे की पूरी जानकारी पहले से ही थी।

 

आपकी प्रतिक्रिया...